ये कौन चुद रहा है भाई ये कौन चुद रहा है

antarvasna, desi kahani

मेरा नाम विनय है। मैं एक छोटे शहर से हूं। मेरे शहर का नाम बनारस है। मेरी उम्र 26 साल है। मैं बनारस का रहने वाला हूं। मैं बनारस में ही काम करता हूं। मेरे घर में मेरे माता पिता व मेरी एक छोटी बहन है। जिसका नाम रिया है। रिया अपने कॉलेज की पढ़ाई कर रही है। उसका कॉलेज बस पूरा होने ही वाला था। मेरे घर वाले रिया के लिए एक अच्छे घर का रिश्ता ढूंढ रहे थे। लेकिन उसे अभी शादी नही करनी थी। उसे भी मेरी तरह कुछ अच्छा करने की तमन्ना थी। जो मैं भी पूरा करना चाहता था। लेकिन उसके लिए मैं एक अच्छी नौकरी की तलाश में था। मुझे एक बड़े शहर में जाकर काम करना था। मुझे यहां काम करना बिलकुल अच्छा नहीं लगता था। मेरे कई सपने थे जिनको मैं पूरा करना चाहता था। फिर मैंने एक दिन सोचा क्यों ना मैं मुंबई चला जाऊं वही जाकर काम करूं मैंने अपने घरवालों से इस बारे में बात की लेकिन उन्होंने साफ इनकार कर दिया। मुझे इस बात से बहुत दुख हुआ। लेकिन मुझे अपने सपने पूरे करने थे, कुछ नया करना था। अपने लिए और अपने परिवार के लिए।

इन्हीं सपनों को लेकर मैं मुंबई चला गया। मुंबई जाकर काम की तलाश में इधर उधर भटकता रहा। मुंबई जाकर कड़ी मेहनत करने के बाद इधर-उधर लोगों से मिला उनसे अपना परिचय किया। कुछ समय गुजरने के बाद मैं एक्ट्रेस के साथ छोटे-मोटे काम करने लगा। जिसके कारण मेरी बड़े लोगों से थोड़ी बहुत जान पहचान हो गई थी। कुछ सालों बाद मैं भी मॉडलिंग करने लगा। मॉडलिंग करते करते मुझे काफी समय हो गया था। अब मैं यहीं सेटल होना चाहता था और अपने घर वालों को भी यही सेटल करने की सोच रहा था। लेकिन मुझे अभी और मेहनत करनी थी। जिसके कारण मैं अपने घर वालों को अपने साथ रख सकूं। मेरे काम से मेरे घरवाले बहुत खुश थे। लेकिन शुरू शुरू में जब मैं मुंबई आया तो वह मुझसे बहुत नाराज थे क्योंकि वह नहीं चाहते थे कि मैं मुंबई जाऊं वहां जाकर इधर-उधर ठोकरें खाते रहूं। वह चाहते थे की मैं उन्हीं के साथ आराम से रहूं। पर मेरे तो कुछ अलग ही सपने थे जो मुझे पूरे करने थे। मुंबई आकर मुझे मेरे सपने पूरे होते दिखाई दिए। जिन्हें पूरा किये बगैर मैं कहीं जाने वाला नही था। मुझे मुंबई में ही रह कर अपने सपने पूरे करने थे। मुझे पैसे की भूख लगने लगी और मैं पैसे के लिए कुछ भी करने को तैयार हो गया। मुझे सिर्फ पैसा पैसा और पैसा ही दिखाई देने लगा था। मेरे जितने भी दोस्त मुझसे परिचित थे। वह सब यही कहते थे कि तू पैसे के पीछे कुछ ज्यादा ही भागने लगा है। यह सब ठीक नहीं है। मैं उन्हें यही बात बोलता था। बिना पैसे के कोई जिंदगी नहीं है। जब पैसा आप के जीवन में है तो सब कुछ ठीक चलता है। और ऊपर से मुझे मेरे घर वालों को भी एक अच्छी लाइफ देनी है। इसी की वजह से मैं यह सब कर रहा हूं नहीं तो मुझे कोई जरूरत नहीं थी मुंबई आने की और इतनी मेहनत करने की

एक दिन क्लब में बैठे-बैठे मुझे एक आदमी मिला उसने अपना कार्ड मुझे दिया। वह व्यक्ति मुझसे कहने लगा मैं एक मॉडलिंग एजेंसी चलाता हूं। तुम्हें भी जब काम चाहिए हो तो मेरे पास आ जाना और मैं तुम्हें काम के साथ-साथ पैसे भी दिला दूंगा। मैं यह बात सुनकर काफी खुश हो गया और एक दिन उस आदमी के पास चला ही गया मिलने के लिए जब मैं उसके ऑफिस में गया। तो मैंने देखा उसका ऑफिस बहुत ही बड़ा है मैं यह देखकर दंग रह गया कि इस का इतना बड़ा ऑफिस है और यह आदमी भी बात करने में ठीक-ठाक है। अब मैं उस आदमी से उसके ऑफिस में मिला। उसने मुझसे कुछ मेरे पुराने काम के फोटोग्राफ्स मांगे मैंने उस व्यक्ति को वह फोटोग्राफ दिखाए और वह कहने लगा तुम्हारी फोटो तो बहुत अच्छी हैं और तुम देखने में भी ठीक हूं। फिर उसने मुझे पूछा तुम्हें कितने साल हो गए हैं मियां मुंबई आए हुए मैंने कहा मुझे काफी साल हो चुके हैं। लेकिन अभी तक कोई बड़ा काम मुझे मिला नहीं है। जिससे कि मैं सेटल हो सकूं और मैं यही चाहता हूं कि मैं सेटल हो जाऊं फिर वह व्यक्ति मुझे बोलने लगा कि तुम्हें सफल होना है। तो कुछ अलग करना होगा जिससे कि तुम्हारे जीवन में तुम्हारी एक अलग पहचान हो और इस आदमी ने मुझे एक ऑफर दिया।

वह कहने लगा कि तुम्हें मेरे लिए एक काम करना होगा तो मैं तुम्हारी जिंदगी बदल दूंगा। अब उसने मुझे सारी असलियत बताई और कहने लगा कि यहां पैसे कमाने इतना आसान नहीं है। तुम्हें उसके लिए बहुत कड़ी मेहनत करनी होगी। अगर तुम मेहनत करते हो तो तुम्हें काफी साल लग जाएंगे यहां मेहनत करते-करते और अपने जूते घिसते घिसते इससे अच्छा है कि कोई शॉर्टकट रास्ता अपना लो और जल्दी से जल्दी तुम पैसे कमा लो। एक अच्छी लाइफ गुजारने लगों अब उस व्यक्ति ने मुझे कहा कि तुम्हें पुराने मुर्दों की ख्वाहिश को पूरा करना होगा और उन्हें खुश करना होगा। जिसके लिए कि वह तुम्हें एक अच्छी खासी रकम देंगे और तुम्हें एक अच्छा जीवन व्यतीत कर सकते हो। तो मैंने उनसे पूछा कि मैंने कभी यह काम पहले नहीं किया है। मुझे इस में दिक्कत होगी वह  कहने लगा इसमें कोई दिक्कत वाली बात नहीं है। मैं भी यही काम करवा कर आगे बढ़ा हूं मैंने भी अपनी गांड मरवाई इसीलिए मैं आज एक सफल व्यक्ति हूं। अपनी जिंदगी को आराम से जीता हूं। यदि तुम्हें भी मेरी तरह पैसे कमाने हैं तो तुम्हें भी यह सब करना होगा नहीं तो जिंदगी भर अपने जूते ही घिसते रहना। मैंने उससे कहा कि ठीक है चलो मैं तुम्हें सोचकर बताता हूं। उसने कहा कोई बात नहीं तुम जब तक सोचना चाहते हो तब तक सोच लो और मेरे दरवाजे तुम्हारे लिए हमेशा के लिए खुले हैं। यह कहते हुए मैं वहां से चला गया। रात भर सोचता रहा कि वाकई में मेरी जिंदगी तो काफी मुश्किलों से भरी है क्योंकि मैं इतने सालों में भी अभी तक सेटल नहीं हो पाया हूं। और ना ही पैसे कमा पाया हूं तो आखिरकार मैंने फैसला कर लिया कि मैं आप उस व्यक्ति के पास जाऊंगा और उसी के रास्ते से पैसे कमाऊंगा। जिस तरीके से उसने पैसे कमाए थे।

अब अगले दिन मैं उसके ऑफिस में गया और वह व्यक्ति मुझे वहां मिला और कहने लगा तुमने क्या सोचा मैंने कहा ठीक है। मैं तैयार हूं इस काम के लिए लेकिन मुझे कोई दिक्कत तो नहीं होगी उसने मुझे कहा तुम्हें कोई दिक्कत नहीं होगी। तुम अपने काम में ध्यान दो बाकी मैं संभाल लूंगा। उसने मुझे कहा तुम रात को तैयार रहना। मैं तुम्हें बताऊंगा तुम्हें कहां जाना है और तुम वहां पहुंच जाना। अब रात को मैं उस के कहे अनुसार एक व्यक्ति के घर गया। जो कि काफी बुजुर्ग था उसने मुझे कहा आओ मेरे पास बैठो। मैंने उसे कहा नहीं नहीं मैं ठीक हूं क्योंकि मैं उसको देखकर डर भी रहा था। लेकिन मुझे इस चीज के पैसे मिलने थे तो मैं उसके पास जाकर बैठ गया। अब वह  मेरे लिए कोल्ड्रिंग लेकर आया और कहने लगा लो इसे पियो मैंने वह कोल्ड ड्रिंक पी पर अब वह मेरे पास में आकर बैठ गया। उसने मेरी गांड पर हाथ फेरते हुए कहा तुम तो बहुत अच्छे हो।

पहले तो मुझे एक बार देखकर अच्छा नहीं लगा। अब उसने मुझे कहा तुम डरो मत कुछ नहीं होता शुरू शुरू में ऐसा लगता है बाद में सब ठीक हो जाएगा। मुझे कहा अपनी पेंट उतार दो मैंने अपनी पेंट उतार दी। अब वह मेरी नंगी गांड को देखने लगा और कहने लगा तुम्हारी गांड बड़ी अच्छी है। मैंने उससे कहा हां अच्छी है। अब उसने सरसों का तेल अपने लंड पर लगाया और मेरी गांड को चाटने लगा। वह काफी देर तक ऐसा करता रहा। अब मुझे भी अच्छा लगने लगा था। अब उसने अपने तेल लगे को लंड को मेरी गांड में डालने का प्रयास किया। पर उसका लंड नहीं गया। उसने जोर-जोर से बहुत ही धक्के मारे अब उसने अपना लंड अंदर तक डाल दिया था जिससे कि मैं बहुत तेज चिल्लाया और मुझे लगा कि मैं भाग जाऊं। लेकिन मुझे अच्छा लगने लगा था। जैसे जैसे वह अपने लंड को अंदर बाहर करना जाता तो मुझे अच्छा लगता। अब मैंने उसके लंड की तरफ अपनी गांड से धक्का मारना शुरू कर दिया। जिससे कि वह खुश हो गया और थोड़े ही समय बाद उसने मेरी गांड में अपना वीर्य गिरा दिया। अब वह बहुत खुश था और उसने मुझसे कहा तुम भी मेरी गांड मारो मैंने भी उसकी गांड अच्छे से मारी। वह बहुत खुश हुआ और कहने लगा तुमने बहुत अच्छे से मुझे अपनी गांड मरवाई है।