उसकी पैंटी को नीचे उतार कर चोदना

Antarvasna, desi kahani: मैं अपने दोस्तों के साथ कॉलेज की कैंटीन में बैठा हुआ था और उनके साथ बात कर रहा था कि तभी सामने से अंजली आई अंजलि को देखते ही मैंने अपनी नज़रें अंजली से हटा ली लेकिन अंजली हमारे साथ आ कर बैठ गई। मैं अंजली से कोई भी बात नहीं कर रहा था अंजलि ने मेरी तरफ देखा तो मैंने अपनी नजरें अंजली की नजरों से हटा ली और मैं वहां से उठकर चला गया लेकिन अंजलि मेरे पीछे आई और अंजलि ने मुझे आवाज देते हुए कहा रोहित तुम मुझसे दूर जाने की कोशिश क्यों कर रहे हो। मैंने अंजली से कोई बात नहीं की और मैं क्लास रूम में चला गया उस वक्त क्लास में कोई भी नहीं बैठा हुआ था अंजलि ने मुझे कहा देखो रोहित हमारे बीच जो भी हुआ उसे तुम भूल जाओ। मैंने अंजलि को कहा अंजली मैं कैसे इन सब बातों को भूल जाऊं तुम ही मुझे बताओ क्या मैं तुमसे प्यार नही करता था। अंजली के पास शायद इस बात का कोई जवाब नहीं था अंजली ने मुझसे बिना बताए ही सगाई कर ली मैं इस बात से इतना टूट चुका था कि मैंने अंजली से उसके बाद बात करना ठीक नहीं समझा।

अंजली ने मुझसे कहा देखो रोहित मैं तुमसे कब से बात करना चाह रही हूं लेकिन तुम हो कि मुझसे दूर जाने की कोशिश कर रहे हो। मैंने अंजली से कहा अब हम दोनों के रिश्ते में वह बात नहीं है और तुम्हारी सगाई भी तो हो चुकी है मुझे नहीं मालूम कि तुमने यह फैसला अचानक से क्यों लिया लेकिन मुझे यह बात बहुत बुरी लगी और मैं अब तुमसे कोई भी रिश्ता नहीं रखना चाहता और ना ही मैं तुमसे बात करना चाहता हूं। जब मैंने अंजली को यह बात कही तो अंजली मुझे कहने लगी तुम मेरी बात सुनोगे तो ही मैं तुम्हें कुछ बताऊंगी। अंजली भी अब गुस्से में मुझे कहने लगी कि तुम दो मिनट मुझसे बात तो कर सकते हो मैंने अंजली से कहा ठीक है कहो तुम्हे क्या कहना है। अंजली ने मुझे कहा कि रोहित तुम्हें मेरे घर की स्थिति के बारे में तो पता ही है ना पापा की जब से तबीयत खराब हुई है तब से हमारी घर की आर्थिक स्थिति खराब हो चुकी है और पापा के दोस्त ने हीं उनकी बहुत मदद की जिस वजह से पापा पर उनका बहुत एहसान है।

मैंने अंजली से कहा लेकिन इससे तुम्हारा क्या लेना देना है तो अंजलि मुझे कहने लगी कि पापा चाहते थे कि मैं उनके दोस्त के बेटे अविनाश से शादी कर लूं मेरे पास भी शायद ना करने की कोई वजह नहीं थी और मैं भी उन्हें कुछ कह ना सकी क्योंकि मेरे पापा मम्मी की खुशी भी मेरे लिए बहुत मायने रखती है। मैंने अंजलि को कहा अंजली मैं सब कुछ समझता हूं कि तुम्हारे पापा मम्मी की खुशी तुम्हारे लिए बहुत मायने रखती है लेकिन मेरी खुशियों का क्या मैंने भी तो तुम्हें प्यार किया और मैं भी तुमसे प्यार करता हूं क्या इसकी सजा मुझे मिलनी चाहिए। अंजलि मुझे कहने लगी कि मुझे मालूम है मैंने तुम्हारे साथ गलत किया लेकिन तुम ही मुझे बताओ कि मेरे पास क्या कोई और रास्ता था यदि तुम ऐसी स्थिति में होते तो तुम क्या करते। मेरे पास भी इस बात का कोई जवाब नहीं था लेकिन मैं इस बात से बहुत दुखी था कि अंजली ने अविनाश के साथ सगाई कर ली है। मैंने अंजली से कहा देखो अंजली अब हमारा कॉलेज कुछ दिनों बाद ही पूरा हो जाएगा उसके बाद शायद मैं तुम्हें कभी ना मिलूं इसलिए यही बेहतर होगा कि हम दोनों एक दूसरे को भूलकर आगे बढ़ जाए। अंजली मुझे कहने लगी कि मुझे मालूम है कि मैंने तुम्हारे साथ गलत किया और मैं हमेशा इस बात के लिए तुमसे माफी मांगती हूं लेकिन मेरे पास इसके अलावा कोई और रास्ता नहीं था। मैंने अंजलि को कहा चलो इस बात को भूल कर अब हम दोनों आगे बड़ जाते हैं यही हम दोनों के लिए ठीक होगा। अंजली कहने लगी कि रोहित मैं हमेशा तुम्हारी इज्जत करती हूं और हमेशा ही मेरे दिल में तुम्हारे लिए एक जगह है। मैंने अंजली से कहा देखो अंजली कुछ दिनों बाद मैं अपने भैया के साथ इंग्लैंड चला जाऊंगा और उसके बाद वहीं मैं आगे अपनी पढ़ाई और अपने भविष्य के बारे में सोच रहा हूं इसलिए मैं भी अब आगे बढ़ने की कोशिश कर रहा हूं। हालांकि तुमने मेरे साथ कुछ ठीक नहीं किया परंतु इस बात को भूल कर अब आगे बढ़ने में ही हम दोनों की भलाई है।

हम दोनों ने एक दूसरे से दूरी बनानी शुरू कर दी थी अंजली चाहती थी कि वह सिर्फ मुझसे एक बार बात करें और अंजलि ने मुझे पूरी बात बता दी थी। कुछ ही दिनों बाद हमारे एग्जाम होने वाले थे हमारे एग्जाम नजदीक आ गए थे और मैं अपनी पढ़ाई कर रहा था लेकिन जब मैं पढ़ाई करता तो उस दौरान मुझे अंजली के साथ बिताया हुआ हर वह समय याद आता जो मैंने अंजली के साथ बिताया था। इस बात से अंजली और मैं शायद दोनों ही खुश नहीं थे लेकिन अंजली की मजबूरी थी और मैं भी अब शायद अब यह स्वीकार कर चुका था कि अंजली ने अब किसी और से सगाई कर ली है और अब हम दोनों के रिश्ते का कोई भी भविष्य नहीं है। अंजली के पिताजी चाहते थे कि वह अपने दोस्त के लड़के से शादी करें इसलिए अंजली ने उनकी बात मान ली और वह इस बात के लिए तैयार हो गई। हमारे एग्जाम हो रहे थे उसी दौरान जब मुझे अंजली मिलती तो अंजली  से मैं कुछ बात नहीं करता मैं उससे हमेशा दूरी बनाने की कोशिश करता। जब हमारे कॉलेज का आखिरी एग्जाम था तो उस दिन अंजली ने मुझे कहा कि रोहित आज मैं तुम्हारे साथ समय बिताना चाहती हूं।

अंजली चाहती थी कि वह मेरे साथ आज समय बिताए क्योंकि इसके बाद शायद मेरी मुलाकात भी अंजली से नहीं होने वाली थी क्योंकि थोड़े समय बाद ही मैं अपने भैया के साथ इंग्लैंड जाने वाला था। अंजली ने मुझे जब यह कहा तो मैंने भी अंजली को मना नहीं किया और अंजली और मैं अपनी कॉलेज की कैंटीन में ही चले गए। मैं और अंजलि साथ में बैठे हुए थे हम दोनों एक दूसरे से बात कर रहे थे मैंने अंजली से पूछा तुम्हारा एग्जाम कैसा हुआ। अंजली कहने लगी एग्जाम तो अच्छे हुए लेकिन रोहित मैं तुमसे दोबारा से अपनी गलती के लिए माफी मांगना चाहती हूं। मैंने अंजली को कहा अंजली अब इस बात को भूल कर हम दोनों आगे बढ़ जाएं यही हम दोनों के लिए ठीक होगा। अंजली और मैं दोनों ही साथ में बैठ कर बात कर रहे थे अंजलि ने मुझे कहा रोहित हमेशा ही तुम मेरे दिल में रहोगे और मैं तुम्हे हमेशा ही याद करती रहूंगी। आखिरकार हम दोनों अब अपना नया जीवन जो शुरू करने जा रहे हैं। मैं अंजली की आंखों में देख रहा था अंजली मेरी आंखों में देख रही थी मुझे वह पुराने दिन याद आने लगे जब हम दोनों साथ में समय बिताया करते थे, मैंने अंजली का हाथ पकड़ लिया। अंजली को भी इस बात से कोई आपत्ति नहीं थी लेकिन शायद मेरे दिल मै और अंजली के दिल मे कुछ चल रहा था। हम दोनों के बीच हुए अंतरंग संबंधों की याद हम दोनों के दिल में ताजा हो गई और हम दोनों ही एक दूसरे के साथ सेक्स करने के लिए तैयार हो गए। अंजली भी अपने आपको रोक ना सकी हम दोनों जब कॉलेज के बाथरूम में गए तो मैंने अंजली के होठों को चूम लिया और अंजली के नर्म और गुलाबी होठों को चूम कर मेरे अंदर की गर्मी बढ़ चुकी थी अंजली के अंदर की गर्मी भी बढ़ चुकी थी। हम दोनों ही एक दूसरे गर्मी को बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे मैंने अंजली की चूत के अंदर हाथ डालते हुए उसके स्तनों को दबाना शुरू किया और थोड़ी देर मे जब मैंने उसकी सलवार के अंदर से उसकी चूत को दबाना शुरू किया तो वह मचलने लगी उसकी चूत से पानी बाहर आने लगा था वह बिल्कुल भी रह ना सकी उसने भी मेरे पैंट की चैन खोलते हुए मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर ले लिया।

वह जब मेरे लंड को अपने मुंह के अंदर लेकर चूस रही थी तो मुझे बड़ा ही आनंद आ रहा था और उसे भी बड़ा मजा आ रहा था उसने मेरे लंड को अपने गले तक उतार लिया था। हम दोनों इतने ज्यादा गरम हो गए कि हम दोनों ही बिल्कुल भी रह ना सके मैंने अंजली से कहा मैं तुम्हारी चूत के अंदर लंड डालना चाहता हूं अंजली ने अपने कपड़े उतार दिए थे अंजली की ब्रा को जब मैंने उतारा तो उसके स्तनों को मैं अपने मुंह में लेकर चूसने लगा। मैं जब उसके स्तनों का रसपान कर रहा था तो मुझे बड़ा ही आनंद आ रहा है उसके गोरे स्तन जब मैं दबा था और उन्हें अपने मुंह में लेता तो मेरा लंड हिलोरे मारता मैंने अपने लंड को अंजली के स्तनों के बीचो में लगाकर रगड़ना शुरू किया तो अंजली उत्तेजित होने लगी। अंजली की चूत पूरी तरीके से मेरे लंड को लेने के लिए तैयार हो चुकी थी अंजली की सलवार के नाड़े को खोलते हुए मैंने उसकी पैंटी को नीचे उतार दिया।

उसकी काली पैंटी को मैंने उसकी जांघो तक उतार कर रखा था और उसे मैंने घोड़ी बनाते हुए जब उसकी चूत के अंदर अपनी उंगली को डाला तो मेरी उंगली अंजली की चूत के अंदर तक जा चुकी थी अंजली की चूत मे मेरी उंगली जाते ही वह चिल्ला उठी। मैंने अपने लंड को अंजली की चूत मे डालते हुए अंदर बाहर करना शुरू किया जब मेरा लंड अंजली की चूत के अंदर बाहर होता तो वह अपन मुंह से मादक आवाज में वहां सिसकियां ले रही थी उसके अंदर की गर्मी और भी ज्यादा बढ़ रही थी। हम दोनों के अंदर से जो गर्माहट पैदा होती उससे हम दोनों ही बिल्कुल बर्दाश्त नहीं कर पा रहे थे करीब 10 मिनट की चूत चुदाई के बाद जब मेरा वीर्य मेरे अंडकोष से बाहर की तरफ को आने को तैयार था तो मैंने भी अंजली की मुलायम और कोमल चूत मे अपने वीर्य को डालकर अंजली की गर्मी को मिटा दिया। अंजली ने मेरा लंड को अपने मुंह मे लेकर बहुत देर तक चूसा उसने मेरी गर्मी को पूरी तरीके से शांत कर दिया। अंजली मुझे कहने लगी रोहित तुम हमेशा मेरे दिल में रहोगे और उसने यह कहते ही मुझे गले लगा लिया कुछ दिनों बाद में भी इंग्लैंड चला गया और अंजली की यादें आज भी मेरे दिल में ताजा है।