उजाला हुआ चुदाई के बाद

indian porn stories, desi kahani

मेरा नाम गौतम है। मैं आपको अपने साथ हुए कुछ ऐसे किस्सो को शेयर करना चाहता हूं। एक बार की बात है जब हमारे ऑफिस में एक नई सेक्रेटरी आई थी। मेरा ध्यान तो हमेशा अपने काम पर ही रहता था। और अपने बिजनेस को और बढ़ाना था। उस सेक्रेटरी का नाम शिखा था। एक दिन मैं शिखा को उसके घर तक ड्रॉप करने के लिए गया। मैंने उसके बारे में पूछा। तो उसने बताया कि बचपन में ही उसके मां-बाप का देहांत हो गया था। तो मुझे इस बात का बुरा लगा। फिर मैंने उसको उसके घर तक छोड़ा और फिर अपने घर के लिए निकल गया। फिर दूसरे दिन जब ऑफिस में मीटिंग थी तो वह मुझे ऐसे ही देख कर मुस्कुराने लगी। मेरी तरफ से तो उसके लिए कुछ ऐसा नहीं था। लेकिन मुझे लगा वह ऐसे ही मुस्कुरा रही होंगी। मैंने उसकी तरफ ज्यादा ध्यान नही दिया। कुछ दिनों बाद वह मुझसे और खुलकर बातें करने लगी। मैंने उसके बारे में ज्यादा जानकारी नहीं ली थी। मैं उसके कहने पर उसे उसके घर तक छोड़ने जाया करता था। और वह मेरे बारे में जानने की कोशिश करने लगी। और फिर मैंने बताया कि मैं अकेले ही यहां रहता हूं। धीरे धीरे हमारी बातें भी बढ़ने लगी। लेकिन शुरुआत शिखा की तरफ से हुई थी। मुझे अभी भी पता नहीं चल पाया था की उसके दिल में क्या चल रहा है। मैं तो यूं ही उससे बात करता था। और फिर उसका मेरे घर में आना जाना हो गया। वह रोज मेरे घर में आया करती थी। खूब सारी बातें करती थी।

एक दिन ऑफिस में मीटिंग के दौरान उसने मुझे मैसेज किया उस मैसेज में लिखा था कि आज मूवी देखने चलेंगे। तो मैंने भी हां कर दी तो फिर हम दोनों मूवी देखने चले गए। जब हम दोनों मूवी देख रहे थे। शिखा ने मेरा हाथ पकड़ लिया और वह मुझसे चिपक कर बैठ गई। जैसे ही वह मुझसे चिपक कर बैठी। उसके स्तन मुझसे टकरा रहे थे और मैं काफी अनकंफर्टेबल हो रहा था। लेकिन मुझे अच्छा भी लग रहा था। उसके बड़े-बड़े स्तनों मुझसे टकरा रहे हैं। वह दिखने में तो बहुत ही हॉट और सेक्सी है। मैं इस बात से बहुत ही खुश था कि वह मेरे साथ ऐसा कैसे कर सकती है। मुझे बहुत ही मजा आ रहा था। मैंने उसके स्तनों को भी दबाना शुरु कर दिया और उसकी जींस में से उसकी चूत मे उंगली डालने शुरु कर दी और अंदर बाहर कर रहा था। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। जब मैं उसकी चूत मे उंगली कर रहा था।

अब मूवी खत्म होने वाली थी और मुझसे भी कंट्रोल नहीं हो रहा था। उसने भी मेरे को लंड को कसकर पकड़ लिया था और उसे हिला रही थी। एक बार तो मेरा वीर्य वही अगली सीट पर गिर गया। मैंने उसे बहुत ही देर तक   स्मूच भी किया। अब मुझसे कंट्रोल नहीं हुआ। तो मैंने उसे कहा जल्दी से चलो ऑफिस में चलते हैं। उसे ऑफिस में ले आया और अपनी केबिन में मैंने उसके सारे कपड़े उतार दिए। उसकी ब्रा भी फाड़ दी मुझे बहुत ज्यादा जोश चढ़ गया था। मैंने जल्दी से उसके स्तनों को चूसना शुरू किया और काफी देर तक मैं उसके स्तनों को ही चूसता रहा। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। जब मै उसके स्तनों को अपने मुंह में ले रहा था और उसके निप्पलों को अंदर बाहर कर रहा था। वह बहुत खुश हो रही थी। मैं उसके स्तनों को अपने मुंह में लेता और फिर उसे किस करता।  मैंने उसकी पैंटी को खोल दिया और उसकी बड़ी बड़ी गांड को अपने हाथ से दबाने लगा। जैसे ही मैं उसकी गांड को दबा रहा था। तो मुझे बहुत अच्छी फीलिंग आ रही थी अंदर से और मैं अब उसकी चूत को भी चाटने लगा। उसकी गांड में भी मैंने अपनी जीभ घुसा दी। उसे बहुत ही अच्छा महसूस हो रहा था।

वह बड़ी ही मादक आवाज निकाल रही थी। जिसे मैं खुश हो गया और मैंने जल्दी से अपने लंड को उसके मुंह में डाल दिया। जैसे ही उसने अपने मुंह में मेरा लंड लिया तो वह अंदर बाहर करने लगी और मुझे बड़ा ही अच्छा लगने लगा। मैंने उससे कहा तुम और तेज-तेज अपने मुंह में लो। वह अपने मुंह में बड़ी तेजी से मेरे लंड को लेती और बाहर निकालती। ऐसा उसने 5 मिनट तक किया। मेरे लंड को पूरे अपने गले तक लेते हुए मेरे माल को अपने मुंह में ले लिया। उसका मुंह पूरा मेरे वीर्य से भर चुका था और मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था। मेरा वीर्य उसके मुंह में था अब मैंने उसको वही अपने टेबल पर लेटा दिया और उसकी दोनों टांगों को ऊपर उठाते हुए। उसके छेद में अपना लंड डाल दिया। जैसे ही मेरा लंड अंदर गया। तो वह चिल्लाने लगी। वह कहने लगी आपका तो बहुत ही मोटा और बड़ा है। मैंने उसे कहा तुम्हें क्या लगा कि मेरा छोटा सा लंड होगा।

मैंने उसे धक्के मारने शुरू किए। मैं अंदर बाहर करता जा रहा था और वह चिल्लाए जा रही थी। मैंने पोज को थोड़ी देर बाद बदल लिया और उसके चूतड़ों को अपने हाथ में लेते हुए। उसकी चूत मे अपना लंड डाल दिया। अब मैं बड़ी ही फुर्ती से उसकी चूत मे धक्के मार रहा था और उसे बहुत अच्छा लग रहा था। वह मुझे कह रही थी। आप बड़ी ही तेजी से चोद रहे हो और बहुत फुर्ती से। मैंने उसके पूरे बदन को हिला कर रख दिया और वह मुझे कहती कि आपके लंड ने मेरे पूरा बदन  को हिलाकर रख दिया है। मुझे ऐसा लग रहा है मानो मेरे शरीर से करंट निकल रहा हो और मुझे बड़ी तेज तेज झटके लग रहे हैं। मैं भी उसकी चूतड़ों की तरफ देखता तो उसकी चूतडे बड़ी ही तेजी से हिल रही थी और मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। मुझे लगने लगा था कि मेरा वीर्य गिरने वाला है। तो मैंने उसकी चूत मे ही अपना वीर्य गिरा दिया। उसकी चूत से लंड बाहर निकाला। उसके बाद उसने मेरे माल को अपनी ब्रा से साफ किया और अपने कपड़े पहनने लगी। उसके बाद हम लोग ऑफिस से निकल गए।

मैंने उसको उसके घर तक छोड़ कर अपने घर लौटा। कुछ समय तो ऐसे ही चलता रहा। और फिर वह एक लड़के को लेकर मेरे घर पर आई। उसे लग रहा था कि मैं भी उसे प्यार करने लगा हूँ। शिखा मुझे अच्छी तो लगती थी लेकिन प्यार का मुझे पता नही था। और फिर मैंने उससे पूछा कि तुम इतनी रात को यहां कैसे? तो उसने बताया कि अब से वह यही रहेगी। मेरे साथ मैं भी कुछ नहीं बोल पाया और फिर मैंने उससे उस लड़के के बारे में पूछा। तो उसने बताया कि वह उसका भाई है। उसका नाम अमित था। अब यह दोनों मेरे ही घर पर रहने लगे थे। कुछ दिन तक तो सब ठीक था। फिर एक दिन मैं ऑफिस से घर आकर हम सब खाना खा रहे थे। उसके बाद अमित ने मुझसे बोला कि वह कुछ करना चाहता है अपना बिजनेस करने की सोच रहा है। तो मैंने कहा हां यह तो अच्छी बात है लेकिन उसने कहा कि उसे कुछ पैसों की आवश्यकता है लेकिन उस समय उसने मुझसे पैसे नहीं मांगे क्योंकि उसकी बहन उसे बार-बार पैसे मांगने से इंकार कर रही थी। और फिर यह बात यहीं पर खत्म कर दी।

दूसरे दिन ऑफिस गया और जब शाम को ऑफिस से घर आया। तो मैं घर पर रिलैक्स होकर टी वी  देख रहा था और शिखा खाना बना रही थी। तो अचानक अमित मेरे पास आया और कहां कि उसे पैसों की आवश्यकता है। वह मुझसे पैसे मांगने लगा लेकिन मैं ना भी नहीं कह सकता था। मैं उसे पैसे देने के लिए राजी हो गया। फिर दूसरे दिन मैंने उसे बिजनेस के लिए कुछ पैसे दे दिए और पैसे देने के बाद मैं ऑफिस चला गया। ऑफिस से घर आने के समय शिखा ने मुझसे शादी की बात की लेकिन मैं अभी इस चीज के लिए तैयार नहीं था। भले ही वह मेरे साथ रह रही थी पर मुझे अभी शादी के लिए कुछ टाइम चाहिए था। मैंने उसे अभी शादी के लिए मना कर दिया। लेकिन मैं शिखा को छोड़ना भी नहीं चाहता था और मै उससे प्यार भी नहीं करता था। वह सिर्फ मेरी सेक्स की भूख को मिटा रही थी और इससे ज्यादा हमारे बीच में कोई भी संबंध नहीं था। मेरा जब भी मन करता तो मैं उसे चोदता था और अपने भूख लंड की प्यास को मिटाता था। मुझे बहुत ही अच्छा लगता। जब मैं उसके साथ सेक्स करता था। क्योंकि उसका फिगर एकदम सेक्सी था। उसके बड़े बड़े स्तनों और उसकी बड़ी बड़ी गांड तो मुझे बहुत ही पसंद थी।