तनु की जवान चूत में लंड का रस

hot chut हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम सुधीर है। में हट्टा कट्टा एक तीस साल का लड़का हूँ। में आज आप सभी सेक्सी कहानियों को पढ़कर उनके मज़े लेने वालों को अपना एक सच्चा सेक्स अनुभव सुनना चाहता हूँ। यह तब की घटना है जब में अपनी इंजीनियरिंग की मास्टर डिग्री कर रहा था और तब में वहीं के हॉस्टल में रहता था और वहां पर मेरे बहुत सारे दोस्त थे और मेरे वो सभी दोस्त लड़के ही थे क्योंकि में शुरू से ही किसी भी लड़की से बात करने में बहुत डरता था और में बचपन से ही अपनी पढ़ाई में बहुत होशियार समझदार था, इसलिए मेरे नोट्स की सभी लोग कॉपी लिया करते थे। एक दिन जब में अपने कॉलेज के मैदान में अकेला बैठकर पढ़ाई कर रहा था तो एक लड़की मेरे पास आई और उसने मुझे अपना नाम तनु बताया और मुझे बाद में पता चला कि वो कॉलेज में मुझसे सीनियर थी और उसको फर्स्ट सेमिस्टर का एक एग्जाम देना बाकी थी, जिसके नोट्स वो मुझसे माँगने के लिए मेरे आई थी जो उस समय मेरे साथ नहीं थे। तो मैंने उसको वो नोट्स दूसरे दिन लाकर देने का वादा किया और मेरे मुहं से हाँ सुनकर उसके चेहरे पर हल्की सी हंसी आ गई। वैसे दोस्तों तनु देखने में बहुत गोरी थोड़ी सी नाटी जरुर थी, लेकिन वो बहुत सिंपल थी और सीधी साधी अच्छे विचारो हंसमुख स्वभाव की लड़की थी, लेकिन उसकी वो मुस्कान बहुत ही सेक्सी थी, जो उसकी आखों से साफ साफ झलकती थी और उसके पहने हुए उन कपड़ो से तो वो एकदम अच्छी मध्यमवर्गीय परिवार की लड़की लगती थी, जिसको देखकर उससे पहली बार मिलकर मेरा मन बहुत खुश हुआ और मुझसे मेरे जवाब सुनकर मुस्कुराकर मुझसे बाय कहकर वो वहां से चली गई, लेकिन मुझे उसकी नजरो और उसकी हंसी से महसूस हुआ कि वो मुझसे कुछ चाहती है और इसलिए में पूरा दिन बस उसी के बारे में सोचता रहा। बार बार मेरे सामने उसका सुंदर हंसता हुआ चेहरा आ जाता और में मन ही मन बहुत खुश हो जाता। फिर अपने घर पर पहुंचने के बाद भी मेरी बस यही हालत थी और में उसी को सोचता अपने सामने देखता रहा।
फिर दूसरे दिन में याद करके उसके लिए वो नोट्स लेकर आ गया और में जब अपने कुछ दोस्तों के साथ हमारे कॉलेज केंटिन में चाय पी रहा था तभी तनु भी केंटिन में आकर मेरे पास वाली कुर्सी पर बैठ गयी तो में तुरंत समझ गया था कि वो मुझसे मेरे पास नोट्स माँगने आई है इसलिए मैंने वो नोट्स तनु को दे दिए और तनु ने मेरी तरफ मुस्कुराते हुए मुझसे धन्यवाद कहा और वो मुझे अपनी तरफ से एक प्यारी सी मुस्काना देकर चली गयी। फिर मेरे दोस्तों ने मेरा बहुत मज़ाक उड़ाया और वो सभी मुझसे कहने लगे कि यार क्या बात है एक सीनियर लड़की ने तेरे से नोट्स माँगे है? में भी उनके मुहं से वो बात सुनकर मन ही मन बहुत खुश हो रहा था और तब से कुछ दिनों तक वो लड़की तनु कॉलेज नहीं आई, लेकिन मुझे वहां पर किसी से यह बात पूछने की हिम्मत नहीं थी तो मैंने यह समझ लिया कि शायद हो सकता है कि तनु अपनी परीक्षा की तैयारी करने में व्यस्त होगी इसलिए उसने कॉलेज आना बंद किया है। एक दिन हमारे केंटिन में मुझे मेरे सीनियर स्टूडेंट्स की बातों से पता चला कि उन सभी की परीक्षा चल रही थी और शायद अब तनु भी आती ही होगी, लेकिन में उस टाइम पर मेरी क्लास में होता था, इसलिए मेरी उससे दोबारा मुलाकात नहीं हुई। फिर कुछ दिनों के बाद एक दिन मैंने देखा कि तनु अपने कुछ दोस्तों के साथ केंटिन में बैठी हुई थी और में भी वहां पर चाय पीने के लिए पहुंच गया। तो मुझे देखकर वो कुछ देर बाद उठकर मेरे पास आ गई और पास में आते ही उसने मुझसे कहा कि तुम मुझे माफ़ करना में कुछ दिनों से अपनी पढ़ाई में बहुत व्यस्त थी और इसलिए में तुम से मिल नहीं सकी और तुम्हारे वो नोट्स मेरे बहुत काम में आए, लेकिन वो इस समय घर पर है। तो तुम अभी मेरे साथ चलो, में अभी तुम्हे वो सब नोट्स दे दूँगी। फिर मैंने उससे कहा कि कोई बात नहीं है तुम वो कल अपने साथ लेकर आ जाना, तभी तनु ने कहा कि नहीं तुम अभी मेरे साथ चलो, मुझे पता है कि तुम्हे भी उस नोट्स की बहुत ज़रूर होगी और वैसे भी बहुत दिन हो गये है तो अब तुम्हे देर नहीं करनी चाहिए, क्योंकि अब कुछ दिनों के बाद तुम्हारे भी पेपर शुरू होने वाले है।
दोस्तों तनु को बहुत अच्छी तरह से पता था कि मेरे पास आने जाने के लिए कोई साधन नहीं था और इसलिए उसने अपनी गाड़ी को मुझे चलाने को कहा और मैंने भी वैसा ही किया। उसके बाद वो पूरे रास्ते मुझसे बातें हंसी मजाक करती रही और उसके हाथ मेरी कमर को छू रहे थे, जिसकी वजह से मुझे बड़ा मज़ा आ रहा था और इसलिए कुछ देर बाद मैंने गाड़ी की स्पीड को बढ़ा दिया। फिर तनु अब थोड़ा सा घबराकर मुझसे पीछे से अपने दोनों हाथों को मेरी कमर पर लपेटकर मुझसे चिपककर बैठ गयी और उसने मुझसे कहा कि प्लीज तुम अपनी इस स्पीड को कुछ कम करो, मुझे बहुत डर लगता है। तो मैंने अब अपनी स्पीड को थोड़ा सा कम कर दिया और फिर तनु मुझे अपने घर तक का रास्ता बताती चली गयी और फिर कुछ देर चलने के बाद हम दोनों एक अपार्टमेंट के पास आकर रुके और अब उसने मुझे बताया कि उसका घर पांचवी मंजिल पर है। तो हम दोनों लिफ्ट से ऊपर जाने लगे तो लिफ्ट में वो मेरी तरफ देखकर मुझे सेक्सी स्माइल देने लगी, तो उसकी वो सभी हरकते देखकर मेरे मन का लड़कियों से डर दूर चला गया और तभी मैंने थोड़ी सी हिम्मत करके उसके कंधे पर अपने एक हाथ को रखकर हल्का सा दबा दिया, तो वो ओह तुम बहुत अच्छे शरारती हो, मुझसे यह बात कहकर पीछे हट गयी। फिर हम दोनों तब तक पांचवी मंजिल पर आ गए थे और अब उसने अपने बेग से चाबी निकाली तब मैंने उनकी तरफ देखा तो वो मुझसे बोली कि मेरे पापा और मम्मी नौकरी करते है इसलिए वो हर दिन सुबह ही चले जाते है और उनके आने तक में अकेली ही रहती हूँ और वैसे में पूरा दिन कॉलेज में ही रहती हूँ और फिर उसने मुझे फिर वही स्माइल दी जिसकी वजह से अब मुझे कुछ कुछ होने लगा था और हम उसके घर के अंदर गये। फिर में उसके कहने पर सोफे पर जाकर बैठ गया और उसके बाद वो रसोई में जाकर मेरे लिए पानी लेकर आ गई और वो मुझसे पूछने लगी कि तुम क्या पीना चाहते हो? में उस समय बहुत मूड में था तो मैंने उससे कहा कि दूध और मेरे मुहं से मेरा वो जवाब शायद उनके लिए नया था। तो इसलिए वो बहुत चकित होकर अपनी आखें फाड़कर मुझे देखती हुई मुझसे बोली क्या? और उसके बाद वो अब ज़ोर ज़ोर से हंसने लगी। तो में भी तुरंत समझ गया कि वो भी मेरी बात का इशारा ठीक तरह से समझ गई है और थोड़ी देर बाद तनु उठकर वापस रसोई में गई और मेरे लिए कोल्ड ड्रिंक लेकर आ गई। तो मैंने उससे कहा कि तुम यह ठंडा क्यों ले आई, मेरी जान तुम्हे कुछ गरम लाना था ना? तो तनु बोली कि “ओह्ह्ह माफ़ करना चलो मेरे साथ में तुम्हे आज बहुत हॉट कर देती हूँ और वो मुझे उसके बेडरूम में ले गई उसके बाद मुझसे पूछने लगी क्यों अब क्या हॉट चाहिए तुझे बता? तो मुझसे अब ज्यादा देर रुका नहीं जा रहा था तो मैंने उसी समय उसकी कमर को तुरंत पकड़ लिया और तनु ने उस समय छोटे आकार की शर्ट पहनी हुई थी इसलिए मेरा हाथ सीधा उसकी पतली कमर की गोरी चमड़ी को छूने लगा था जो मेरे लिए एक सबसे हटकर अहसास था में उसको किसी भी शब्दों में लिखकर नहीं बता सकता।

अब मैंने उसकी तरफ से कोई भी विरोध ना देखकर थोड़ी और भी हिम्मत करके अपने होंठो को तनु के नरम गुलाबी होंठो पर कसकर रख दिया उसके बाद तनु भी अब मेरे साथ किसिंग का मज़ा लेने लगी थी। फिर मैंने देखा कि अब तनु के हाथ मेरी शर्ट के बटन को खोलने लगे थे और में भी जोश में आकर उसकी शर्ट को खोलने लगा था। फिर जैसे ही उसकी शर्ट खुली तो मैंने देखा कि उस छोटे से आकार की ब्रा में ढके उसके वो दो गोरे बड़े आकार के बूब्स देखने में बहुत सुंदर नजर आ रहे थे और मैंने उसकी ब्रा के हुक को अपना एक हाथ पीछे डालकर खोल दिया, जिसकी वजह से अब वो मेरे सामने ऊपर से पूरी नंगी हो चुकी थी और उसके गोरे बदन के ऊपर लटकते हुए बूब्स जिनकी हल्के भूरे रंग की निप्पल और उसका वो रूप देखकर में एकदम चकित हो चुका था और मेरी ख़ुशी का कोई ठिकाना नहीं था, क्योंकि आज पहली बार में किसी लड़की को इतने पास से छूकर महसूस कर रहा था, जो मुझे एक सपने के समान नजर आ रहा था और वो मेरे सपनों की एक परी जिसको आज में जी भरकर चोदकर उसके साथ अपनी भी प्यास को बुझाने वाला था। अब मैंने भी अपनी पूरी शर्ट को उतार दिया और अब तनु के बूब्स को पूरे जोश में आकर दबाने सहलाने लगा था। उसी समय मैंने ज्यादा जोश में आकर अपनी उँगलियों से उसके निप्पल को थोड़ा ज़ोर से मसल दिया तो उस दर्द की वजह से तनु एकदम से करहा उठी और वो मुझसे बोली कि आह्ह्ह्हह्ह उफ्फ्फ्फ़ प्लीज मुझे बहुत दर्द हो रहा है, तुम इनको थोड़ा धीरे से दबाओ। फिर मैंने उससे पूछा कि क्या अब मुझे दूध पीने को मिलेगा? तो वो मुस्कुराकर मुझसे कहने लगी कि अब तो पूरी दूध डेरी ही तेरे सामने है फिर भी तू मुझसे यह बातें पूछता है और उसने उसका एक पूरा बूब्स मेरे मुहं में डाल दिया। उसके निप्पल बहुत बड़े नहीं थे, लेकिन वो टाइट बहुत थे और में अपने दाँत, जीभ और होंठो से पूरा मज़ा लेने लगा और तब तक वो भी मेरी पेंट को खोल चुकी थी। इस तरह हम दोनों पूरे नंगे हो गए थे और तनु ने मुझसे पूछा क्या यह तेरा सब पहली बार का है? में उसके मुहं से वो शब्द सुनकर थोड़ा सा शरमा गया, लेकिन फिर में उसको बोला कि हाँ। फिर मैंने उससे भी अब पूछा क्या तुमने इससे पहले कभी ऐसा किया है? तो वो मुझसे हंसकर बोली आज तेरा कितना नंबर है वो भी मुझे ठीक तरह से याद नहीं है। उसके बाद तनु ने मुझसे पुछा क्या अब तुझे मेरे साथ मज़ा आ रहा है? तो मैंने कहा कि हाँ, लेकिन अभी तक मुझे वो असली मज़ा नहीं आया। फिर तनु कहने लगी कि तो ला तुझे आज में वो असली मज़ा देती हूँ और वो अब तुरंत नीचे बैठकर मेरे टाइट होकर खड़े हो चुके पांच इंच के लंड को अपने मुहं में लेकर चूसने लगी। जिसकी वजह से में बिल्कुल पागल हो गया, वाह उसका क्या मस्त तरीका था और उसको देखकर में बहुत चकित रह गया और वो मेरा पूरा लंड उसके मुहं में अंदर बाहर कर रही थी तो जैसे में तो स्वर्ग में पहुंच गया था। उसने अपनी स्पीड को थोड़ा सा बढ़ा दिया। फिर में भी पूरे जोश से धक्के देने लगा और थोड़ी देर बाद मेरे लंड से एकदम से पीला गाढ़ा प्रदार्थ निकलने लगा, मेरा यह पहला अनुभव था तो में समझ नहीं पाया कि में अब क्या करूं? मेरे मुहं से आआहह्ह्ह की आवाज़ निकलने लगी तो तनु समझ गयी कि अब मुझे उसके साथ बहुत मज़ा आ रहा है और तनु मेरा पूरा वीर्य पी गई और मेरा लंड अब धीरे धीरे आकार में छोटा होने लगा था। फिर में अब मन ही मन सोचने लगा कि काश में भी वो सब करता जो मैंने सेक्सी फिल्मो में बहुत बार देखा था और मेरे चेहरे को देखकर तनु मेरे मन की बात को तुरंत समझ गई तो वो मुझसे बोली कि चलो जानेमन अब हम दोनों 69 पोजीशन में हो जाते है। फिर में उसके कहने का मतलब नहीं समझा और फिर उसने मुझे बताया और में तुरंत समझ गया कि अब में तनु की चूत को चाटूँगा और वो मेरा लंड अपने मुहं में लेकर उसको चूसेगी।
फिर हम 69 पोजीशन में आ गए और उसके बाद वो मुझसे बोली कि अब तू मेरी चूत को बड़े चैन आराम से चाट और में तेरे लंड को चूसकर चाटकर दोबारा से पूरा टाइट करती हूँ। फिर में तनु के ऊपर था और वो मेरे नीचे थी। जैसे ही मैंने तनु की चूत को अपनी जीभ से छुआ वैसे ही वो तो जैसे बिल्कुल पागल सी हो गई और आह्ह्ह्हह्ह ययूऊऊओह्ह्ह्ह की आवाज़ अपने मुहं से निकालकर बार बार मेरे लंड को मुहं में लेने लगी थी। फिर उसके लगातार मन लगाकर चूसने से थोड़ी देर में मेरा लंड पूरा पांच इंच का लंबा मोटा हो गया था और मेरी जीभ के कमाल से अब तनु पूरी पागल हो चुकी थी। फिर वो मुझसे बोली कि मेरी जान अब मुझसे रहा नहीं जाता और अब तुम मुझे वो असली मज़ा दे दो, चड़ जाओ तुम मेरे ऊपर और मुझे चोदकर ठंडा कर दो, अपने इस पांच इंच के लंड से मुझे मज़ा दो आहहाह्ह्ह चोद दो मुझे, आजा ना मेरी जान ऊह्ह्ह्ह उह्ह्ह्ह। फिर में तुरंत समझ गया कि अब मुझे इसकी चुदाई करके वो असली मज़ा आने वाला है, तो में यह बात सोचकर तुरंत तनु के ऊपर चढ़ गया और उसने अपने दोनों पैरों को पूरा खोल दिया। मैंने पहले तो मेरा लंड तनु की चूत पर उसके दाने पर कुछ देर घिसा जिसकी वजह से वो जोश में आकर मुझसे बोली आह्ह्ह तू यह क्या कर रहा है साले अब डाल दे तू अपना पूरा लंड मेरी इस प्यासी तरसती हुई चूत के अंदर और इतना कहकर तनु ने अपनी चूत को अपने एक हाथ से पूरा खोल दिया और मैंने अपना लंड थोड़ा सा अंदर डाला ही था कि अब मुझसे भी कंट्रोल नहीं हुआ तो मैंने एकदम तेज धक्के में अपना पूरा लंड उसकी चिकनी गरम चूत के अंदर डाल दिया। अब तनु से वो दर्द सहा नहीं गया और वो चीखते हुए बोली आईईईई ऊईईईईइ माँ क्या तू मुझे ऐसे ज़ोर से धक्के देकर एक ही बार में मार डालेगा? प्लीज थोड़ा धीरे धीरे धक्के देकर चोद ना मुझे बहुत दर्द हो रहा है, लेकिन में अब अपने जोश के आगे उसकी कोई भी बात कहाँ सुनने वाला था, क्योंकि मैंने तो उस समय अपने आप पर से कंट्रोल को बिल्कुल गँवा दिया था, इसलिए में तो पूरे जोश से धक्के देकर मेरा लंड तनु की चूत में अंदर बाहर कर रहा था। अब तनु उस दर्द की वजह से बिल्कुल पागल होकर मुझसे कह रही थी आह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ प्लीज थोड़ा धीरे मेरी जान, धीरे करो, क्या तुम आज मुझे मार ही डालोगे तो दूसरी बार फिर किसकी चुदाई करोगे? आह्ह्ह धीरे डाल, मुझे भी अब थोड़ा सा अपनी चुदाई का मज़ा लेने दे साले कुत्ते आऊऊउ आईई में मर गई, लेकिन दोस्तों मेरा यह पहला सेक्स अनुभव था तो इसलिए मुझे कंट्रोल करना बहुत मुश्किल था और थोड़ी देर बाद मैंने महसूस किया कि अब तनु का दर्द कुछ कम होने लगा था। अब वो भी पूरे जोश में आकर मेरा साथ दे रही थी और वो मुझसे कह रही थी उफ्फ्फ्फ़ हाँ अब डाल तेरे अंदर जितनी ताक़त है उतनी ज़ोर से तू धक्के देकर डाल, आज मुझे तेरा जोश और यह दम चेक करना है, अब तू अपनी इस स्पीड को कम मत करना। फिर तनु की उन बातों से मुझे और भी जोश आता गया इसलिए मैंने अपनी स्पीड को पहले से ज्यादा बढ़ा दिया जिससे वो पूरी हिलने लगी थी और अब मेरे मुहं से भी आहह्ह्ह उफ्फ्फ तनु मना मत करना में तेरी चूत को आज चोद चोदकर फाड़ डालूँगा, मैंने अब उसके दोनों बूब्स को पूरे जोश से पकड़ रखे थे और में धक्के देने के साथ साथ उन दोनों बूब्स को दबाता भी जा रहा था।
दोस्तों वो तो मेरे जोश से भरपूर धक्के खाकर जैसे बिल्कुल पागल ही हो गई थी। मेरी तरह वो भी अब चिल्लाने लगी हाँ उह्ह्हह्ह आज तो अपना पूरा लंड मेरी चूत के अंदर डाल दे, मुझे लगता है कि आज तेरा यह लंड भी कम पड़ रहा है, तू एक काम कर तू पूरा मेरे अंदर घुस जा और तू तेरे पैर हाथ सब कुछ डाल दे मेरी इस चूत में, मुझे फाड़ दे, में आज तेरे कुंवारे लंड को पूरा मज़ा दूँगी, तू मुझे पूरा मज़ा दे। दोस्तों अब में एक बार फिर से मेरा वीर्य छोड़ने वाला था तो में उससे बोला क्या में तुझे मेरे पानी से नहला दूँ? तो वो मेरी बात का मतलब तुरंत समझ गयी और वो मुझसे बोली कि हाँ तू मेरी चूत के अंदर ही डाल दे, मुझे वही तो चाहिए और वो भी अब पूरे जोश से मुझे अपनी तरफ से धक्के मार रही थी और तभी अचानक से मेरे मुहं से आअहह्ह्ह ऊऊओहूऊ में गया की आवाज़ निकलने लगी। अब मेरे लंड के वीर्य की बारिश तनु की चूत में बाढ़ की तरह निकल रही थी जिसकी वजह से तनु बहुत खुश होकर चिल्ला चिल्लाकर हंस रही थी और दोस्तों उस समय हम दोनों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं रहा। वो मुझसे कहने लगी ऊऊहह उफ्फ्फ्फ़ वाह मज़ा आ गया तुम बहुत अच्छे हो स्स्ईई डाल दिया पूरा ऑश साले तू तो पूरा ठंडा हो गया और तूने मुझे भी खुश कर दिया। अब में भी उसकी बातें सुनकर बहुत खुश होकर उससे बोलने लगा कि साली रंडी तूने ही तो मुझसे बोला था कि हाँ डाल दे मैंने अब भी तनु के बूब्स को पकड़ रखा था और में जैसे जैसे मेरे लंड से पानी की पिचकारी तनु की चूत में छोड़ता जाता तब तब में तनु के बूब्स को पूरे जोश से दबाता भी जा रहा था और वो आआहह्ह्ह आह्ह्ह्ह मुझे कितना मज़ा आ रहा है तनु ने मुझे अपने हाथों से ज़ोर से कस लिया। हम दोनों कुछ देर तक एक दूसरे की बाहों में पड़े रहे। फिर थोड़ी देर बाद हम दोनों अलग हुए तो मैंने देखा कि अब मेरी तरह तनु भी बहुत खुश नजर आ रही थी। अब वो मुस्कुराती हुई मुझसे बोली कि बाहर जाना है तो कपड़े तो पहनने ही पड़ेगे और मुझे यह बात कहकर वो ज़ोर से हंसने लगी। में भी उसके साथ ज़ोर से हंसने लगा और उसके बाद हम दोनों ने अपने अपने कपड़े पहन लिए और अब हम बाहर हॉल में आ गए तो उसने मुझे मेरे वो नोट्स लाकर मेरे हाथ में दे दिए और फिर कहा कि इन नोट्स के लिए तुम्हे धन्यवाद और आज के बेडरूम वाले खेल के लिए भी।
अब मैंने उससे कहा तो इसका मतलब यह है कि तेरी ऐसी मस्त चुदाई करने के लिए मुझे हमेशा तुझे ऐसे ही नोट्स देने होंगे? तो तनु बोली मुझे कब और कौन चोदेगा वो में अपनी मर्जी से तय करती हूँ, लेकिन क्या में तुझे बोलूँगी तब तू मेरे कहने पर आ जाएगा? मैंने उससे कहा कि हाँ जब तुम मुझे आने का हुक्म करोगी में दौड़ा चला आऊंगा और उसके बाद में तुझे हमेशा ऐसे ही चुदाई के मजेदार मस्त मज़े दूंगा, जिसको तू हमेशा याद रखेगी और मुझसे अपनी चुदाई करवाती ही रहेगी और अब में उसको एक बार चूमकर अपने हॉस्टल जाने के लिए वहां से निकल गया और जब भी तनु मुझसे बोलती है तो में उनके घर चला जाता हूँ और फिर हम दोनों चुदाई के बहुत मज़े करते है। दोस्तों इस तरह मैंने उसकी पहली चुदाई के बाद भी उसको ना जाने कितनी बार चोदकर पूरी तरह से संतुष्ट किया और में इस चुदाई के खेल में बहुत कुछ समझने लगा। मैंने उसको बहुत तरह से हर बार एक बिल्कुल अलग हटकर चुदाई का मज़ा वो सुख दिया ।।
धन्यवाद

loading...