Tag «hindi sex story»

गांड के बीच मे लंड रगड दिया

Antarvasna, desi kahani: कुछ दिनों के लिए मैं अपने मामा जी के घर पर गया हुआ था उनसे मुझे कुछ जरूरी काम भी था और मैं उनके घर पर करीब दो दिन रुक गया। जब मैं उनके घर पर रुका तो मैंने उनसे उसकी बात की कि मुझे उन्हीं के साथ कुछ काम शुरू करना …

ऐसी रात दोबारा नहीं आई

Antarvasna, hindi sex story: मैं अपने दोस्त से मिलने के लिए उसके घर पर गया था मेरे दोस्त का नाम रजत है। जब मैं रजत के घर पर पहुंचा तो वह उस वक्त घर पर नहीं था मैंने उसे फोन किया तो वह मुझे कहने लगा कि रोहन मैं थोड़ी देर बाद घर पर आ …

चूत का भोसडा बनाने का मजा

Antarvasna, hindi sex story: एक दिन दिव्या मेरे पास आई, दिव्या मेरे कॉलेज की फ्रेंड है और उस दिन मैं घर पर ही था दिव्या हमारे पड़ोस में रहती है। जब वह घर पर आई तो मैंने उसको पूछा कि दिव्या आज काफी दिनों बाद तुम घर पर आ रही हो तो वह मुझे कहने …

वह लडकी जो मिली और चली गई

Antarvasna, hindi sex story: मेरा ट्रांसफर कुछ समय पहले चंडीगढ़ में हुआ था मुझे चंडीगढ़ आए हुए अभी सिर्फ कुछ हफ्ते ही हुए थे लेकिन हमारे पड़ोस में रहने वाले सहानी साहब से मेरी काफी अच्छे बनने लगी थी। सहानी साहब ने हीं मुझे वह घर किराए पर दिलवाया था, मेरे भैया को सहानी साहब …

होटल के बाहर चोदने का इंतजाम खड़ा था

Antarvasna, desi kahani: मैं अपने काम से घर लौटा ही था कि मैंने देखा सुरभि के चेहरे पर कुछ ज्यादा ही परेशानी थी मैंने सुरभि से पूछा कि आखिर तुम परेशान क्यों हो। वह मुझे कहने लगी कि अजीत पापा की तबीयत कुछ दिनों से खराब है और मैं पापा से मिलने के लिए जाना …

पहली बार मुझसे चूत मरवाई

Antarvasna, hindi sex story: मुझे कोलकाता में आए हुए अभी सिर्फ एक महीना ही हुआ था मेरा ट्रांसफर कुछ समय पहले ही कोलकाता हुआ। एक दिन मैं अपने ऑफिस जाने के लिए बस का इंतजार कर रहा था मैं बस स्टॉप पर ही खड़ा था लेकिन उस वक्त बस स्टॉप पर बहुत ही ज्यादा भीड़ थी …

लंड लेने की आदत हो गई थी

Antarvasna, hindi sex stories: मैं कुछ समय पहले ही दिल्ली नौकरी करने के लिए आया था जब मैं दिल्ली जॉब करने के लिए आया था तब मेरे लिए दिल्ली बिल्कुल ही नया था उससे पहले भी मैं कई बार अपने भैया के पास दिल्ली आया था लेकिन अब मैं दिल्ली में अकेले रहने लगा था। मेरे …

चूत लंड के लिए तडप रही थी

Antarvasna, hindi sex story: दोपहर के वक्त मैं अपने कमरे में आराम कर रहा था तभी दरवाजे की डोर बेल बजी, मां ने मुझे आवाज देते हुए कहा कि राजेश बेटा देखना कि दरवाजे पर कौन है। मैं दरवाजे की तरफ गया और मैंने जैसे ही दरवाजा खोला तो सामने एक डाकिया खड़ा था डाकिया …

उसका बदन जैसे किसी परी का बदन हो

Antarvasna, desi kahani: मैं और संजय हम दोनों उस दिन लंच टाइम में साथ में ही बैठे हुए थे संजय मुझे कहने लगा कि सुधीर मैं कुछ दिनों के लिए अपने घर जा रहा हूं तो मैंने संजय से कहा कि क्या भाभी भी तुम्हारे साथ घर जा रही हैं तो वह मुझे कहने लगा …

आज भी चूत गुलाबी थी

Antarvasna, hindi sex story: मैं काफी समय से दीदी से नही मिला था तो मेरी मां ने मुझे कहा कि राजेश बेटा तुम अपनी दीदी से मिल आओ मैंने मां से कहा कि लेकिन मां आज मेरे पास समय नहीं है मुझे ऑफिस के लिए देर हो रही है मुझे अपनी एक जरूरी मीटिंग से …