पूरा लण्ड घुसेड़ो अब्बू

rishton me chudai मैं सदा, आपको अपनी सच्ची कहानी खुल्लम खुल्ला सुना रही हूँ .

हाय अब्बू अब धीरे धीरे न चोदो . जल्दी जल्दी चोदो . चोदने की स्पीड बढा दो अब्बू और हां अब पूरा का पूरा घुसा दो भोषड़ी वाला लण्ड अन्दर . मेरी चूत बहुत गरम हो गयी है . एकदम भट्टी हो गयी है . तेरा पूरा मोटा लण्ड खाने के लिए मुंह खोले हुए है . एकदम वैसे ही चोदो अब्बू जैसे तू खाला की चूत चोदता है . जैसे तू पड़ोस की शबाना आंटी का भोषडा चोदता है . जैसे तू कल मेरी सहेली क्रस्टी की माँ चोद रहा था . क्रिस्टी की माँ तुमसे चुदवा कर बड़ी खुश है अब्बू ? उसने तेरे लण्ड की बड़ी तारीफ की है . अब तो उसको जब भी मौका मिलेगा आ जाएगी तुमसे चुदवाने ? ये कमाल तुम्हारा नहीं तुम्हारे लण्ड का है, अब्बू ?

loading...

ये लण्ड साला बड़ा हरामी हो गया है . बड़ा मादर चोद हो गया है ये साला भोषड़ी वाला तेरा लण्ड ? जितना सख्त है बहन चोद उतना ही बेरहम है ? उस दिन मेरी दोस्त हया जब तुमसे चुदवा रही थी तब उसके मुंह से शुरू शुरू में चीख निकल पड़ी थी . लेकिन ये तेरा बेटी चोद लण्ड रुकने के वजाय और तेजी से चूत में आने जाने लगा . इसको ज़रा भी रहम नहीं आयी . हालांकि उसने खुद थोड़ी देर के बाद चुदवाने की स्पीड बढवा ली थी . वाओ, देखो साला कितनी मस्ती से चोद रहा है मेरी चूत हाय रे कितना मज़ा आ रहा है ?
लण्ड हो तो अब्बू के लण्ड जैसा ? मैं क्या सभी दीवानी है मेरे अब्बू के लण्ड की ? इस कॉलोनी में ऐसी कोई औरत नहीं जिसने मेरे अब्बू से चुदवाया न हो .ऐसी कोई लड़की नहीं जिसने अब्बू का लण्ड चूसा न हो ? कुछ लड़कियां तो अब्बू के लण्ड की तश्वीर अपनी पर्श में रखती है . कुछ लड़कियां अपनी माँ अब्बू से चुदवाती है ? कुछ आंटियां अपनी बेटी अब्बू से चुदवाती है ? अब्बू की बहन चोद चांदी ही चांदी है . उसका लण्ड हर समय किसी न किसी को चोदने में बिजी रहता है . हाय अब्बू अब मुझे पीछे से चोदो अब्बू ? मैं पीछे से झमाझम चुदवाने लगी .
.मेरा नाम है सदा मेरे अब्बू है याकूब मियां और अम्मी है आसमा . मैं २५ साल की गदराई हुई मस्त जवान लड़की हूँ . ५’ ५” की हूँ बड़ी बड़ी चूंचियाँ है मस्त चूतड़ है सेक्सी चूत है और खूबसूरत गांड है . इसीलिए लोग मुझे ख़ूब चोदते है . यहाँ का ऐसा कोई लड़का नहीं है जिसका लण्ड मैंने पकड़ा न हो . ऐसा कोई मर्द नहीं है जिसका लण्ड मैंने अपनी चूत में घुसाया न हो ? मैं बड़ी चुदक्कड़ हूँ और अपनी अम्मी की तरह चुदाने के लिए बदनाम हूँ . लेकिन मैं किसी परवाह नहीं करती लोग कुछ भी कहें . मुझे तो बस लण्ड चाहिए लण्ड ?
एक दिन मैं सवेरे सवेरे ही सना के घर चली गयी . सना अन्दर थी .

मैंने आवाज़ लगाई :- सना तू कहाँ है बहन चोद ?
वह बोली :- अरी सदा तू अन्दर चली आ ? यहाँ बेड रूम में ?
मैं बोली :- अरे तू अभी तक सो रही है ? जल्दी उठ न
वह बोली :- मैं सो नहीं रही हूँ यार ? मैं जग रही हूँ .
मैं बोली :- तो फिर बाहर आ न ? अन्दर क्या कर रही है तू ?
वह बोली :- अपनी माँ चुदा रही हूँ यार ?
मैंने कहा :- सवेरे सवेरे कौन तेरी माँ चोदने आ गया भोषड़ी वाला ?
वह बोली :- चोदने वाले तो कल से ही है यहाँ. कल मैंने रात भर चुदवाया अपनी माँ ? आज जब मैं कमरे में सवेरे सवेरे आयी तो देखा की मेरे दोस्तों के लण्ड टन टना रहे है तो मेरा मन फिर हो गया माँ चुदाने का ? मैंने एक लण्ड अम्मी की चूत में घुसा दिया है और दूसरा उसके मुंह में ? तू जल्दी से आ जा और मेरी अम्मी की चुदाई देख ? तुझे भी बड़ा मज़ा आएगा ?

मैं उसके सामने ही जाकर खड़ी हो गयी . मैंने देखा की उसकी अम्मी तो वाकई मस्ती से चुदवाने में जुटी है , सना मेरी पक्की दोस्त है और वह भी चुदने चुदाने में बहुत आगे है .सना अपनी माँ चुदाने की शौक़ीन है . उसे अपनी माँ चुदाने में बड़ा मज़ा आता है . सना भी उस समय अपने सारे कपडे उतार कर बैठी थी और बीच बीच में बोल रही थी . – शैफ अब तू अपना लण्ड अम्मी के मुंह में घसा दे और कैफ तू अपना लण्ड अम्मी की गांड में पेल दे ? अम्मी लण्ड चूसते हुए गांड मराएगी . वह खुद उठी और अम्मी के साथ ही शैफ का लौड़ा चाटने लगी . सना मुझसे बोली अरी सदा तो नंगी होकर आजा और अम्मी के साथ लण्ड चाट कर मज़ा ले . मैं उधर ज़रा अम्मी की गांड ठीक से मरवाती हूँ . मैं तो मादर चोद नंगी होने में देर बिलकुल नहीं लगाती ? मैं लण्ड के पेल्हड़ चाटने लगी और एक हाथ से आंटी की चूंची सहलाने लगी . सना एक हाथ से अम्मी के चूतड़ और दूसरे हाथ से कैफ के पेल्हड़ सहलाने लगी . मैं मन ही मन सोंचने लगी सना बुर चोदी बहुत अच्छी तरह से अपनी माँ चुदवाती है ? मुझे इससे कुछ सीखने को मिलेगा .
थोड़ी देर में सना बोली शैफ अब तुम नीचे लेट जाओ . उसके ऊपर अपनी माँ को चित इस तरह से लिटा दिया की उसका लण्ड अम्मी की गांड में घुस जाये ? लण्ड घुस भी गया . कैफ से बोली सना अब तू अपना लण्ड मेरी अम्मी की बुर में ठोंक दे ? कैफ बुर चोदने लगा . आंटी को बुर चुदाने के साथ साथ गांड मराने का भी मज़ा आने लगा . सना ने मेरी चूत अम्मी के मुंह पर रख दी मैं आंटी से बुर चटवाने लगी . उसने मेरे मुंह में अपनी चूंची घुसेड दी . मैं उसकी चूंची चूसने लगी . थोड़ी दे में जब कैफ का लण्ड झड़ने को आया तो आंटी उसका सड़का मारने लगी . लण्ड खलास हुआ तो आंटी का मुंह वीर्य से भर गया . मुंह से टपकने भी लगा उसकी चूंची पर और जाँघों पर . इतने शैफ भी झड़ने लगा . लण्ड सना के हाथ में था उसने मुझे पकड़ा दिया . मैं भी लण्ड का रस पी गयी और थोडा मेरी चूंची पर गिरा . थोडा सना के मुंह में उसकी टांगों पर ? खूब मज़ा आया मुझे सना की माँ चुदवा कर ?
एक दिन मैं दोपहर को अपनी दोस्त हिना के घर गयी . उसकी अम्मी नहीं थी . शायद कहीं गयी थी . हिना बोली यार मैंने दरवाजा खोल दिया है तू अन्दर आकर दरवाजे की सिटकिनी लगा देना और ऊपर के बेड रूम में आ जाना ? मैं वहीँ तेरा इंतज़ार करूंगी . मैं जैसे ही कमरे में घुसी और जो देखा उससे मेरी आँखे फटी की फटी रह गयी . मैंने देखा की हिना का अब्बू नंगा सोफे पर अपनी टाँगे फैलाये हुए बैठा है . उसका लण्ड सख्त टन टनाया हुआ है . हिना लण्ड मुठ्ठी में पकडे हुए है और वह लण्ड के सुपाड़े को अपनी जबान से चाट रही है ? मुझे पूरा का पूरा लण्ड उसका सुपाड़ा साफ साफ़ दिख रहा है .
हिना बोली हाय मेरे भोषड़ी के अब्बू तेरा ये मादर चोद लण्ड आज तो बहुत बड़ा लग रहा है . ये साला दिन पर दिन बढ़ता ही जा रहा है . आज मैं इसे अपनी चूत से चोदूंगी . मैं मन ही मन बड़ी खुश हुई की केवल मैं ही नहीं और भी लड़कियां अपने अब्बू से चुदवाती है .सच पूंछो तो मेरा दिल उसके अब्बू के लण्ड पर आ गया . मेरा भी मन लण्ड चाटने का हो गया . हिना ने जैसे मुझे देखा वह बोली अरे वाह तुम आ गयी बड़ी जल्दी ? मैंने तुम्हे यहाँ अपने अब्बू का लण्ड दिखाने के लिए बुलाया है ? तूने कभी अपने अब्बू का लण्ड मुझे तो दिखाया नहीं ? अब आज तुम देखो की मैं किस तरह से अपने अब्बू से चुदवाती हूँ उसी तरह तुम भी अपने अब्बू से चुदवाना ? उसे क्या मालूम की मैं जाने कबसे चुदा रही हूँ अपने अब्बू से . फिर सोंचा की मुझे केवल इसीलिए बुलाया है . ये तो मस्ती से अपनी बुर चुदायेगी तो मैं क्या यहाँ अपनी झांटें छीलूँगी बैठ कर ? इतने में एक आदमी अपना लण्ड खड़ा किये हुए मेरे सामने आ गया . हिना बोली ये है मेरे अब्बू का दोस्त अरमान तुम इसका लण्ड पकड़ो और मेरे सामने चुदाओ ? उससे चुदाने के बाद मेरे अब्बू से चुदवा कर जाना ? मैं फिर खुश हो गयी . मैंने कपडे उतारे और जुट गयी लण्ड चाटने में ? मुझे अरमान अंकल का लौड़ा अच्छा लगा मैं लगी . फिर पूरा मुंह में घुसेड़ कर चूसने लगी . उधर हिना बोली अरे मादर चोद अब्बू पूरा लौड़ा घुसेड़ दे मेरी चूत में ? हचक हचक के चोदना शुरू कर ? अब मैं रुक नहीं सकती ? मेरी चूत बहुत गरम हो गयी है ? गांड से जोर लगा के चोद साले जैसे तू कल जुबैदा आंटी का भोषडा चोद रहा था . मेरी भी तो चूत भोषडा बन गयी है ससुरी . मैं अपनी गांड उठा रही हूँ तू अपनी गांड से जोर लगा बहन चोद ? तेरा लौड़ा बड़ा मस्त है ? खूब अन्दर तक घुस कर चोदता है . हाय अल्ला, कितना मज़ा आता है . मैं उसकी बातें सुन रही थी . मुझे भी ताव आ गया मैं भी अनाप सनाप बोल बोल के चुदाने लगी .

हिना :- यार तुम तो बिलकुल मेरी तरह ही चुदवाती हो ?
मैं :- तू तो यार चुदा चुदा कर बड़ी एक्सपर्ट हो गयी है ?
हिना – मेरा भोषड़ी का अब्बू बहुत बढ़िया चोदता है ? बिलकुल वैसे ही जैसे अमीना का अब्बू चोदता है ? यहाँ सबसे ज्यादा लड़कियां अमीना के अब्बू का लण्ड पसंद करती है .
मैं – हाय रे फिर तो मुझे भी पकडाओ न प्लीज उसके अब्बू का लण्ड ?
हिना – हां मैं पकड़ा दूँगी पर तू कब पकड़ाएगी मुझे अपने अब्बू का लण्ड ?
मैं – तू अभी चल मेरे साथ मैं अभी तेरी बुर में घुसा देती हूँ अपने अब्बू का लौड़ा ? वो तो बहन चोद लड़कियां चोदने में बड़ा माहिर हो गया है . मेरी सभी सहेलियों को चोदता है माँ का लौड़ा ?
इतने में अरमान अंकल मेरे मुंह में ही झड गया और मैं लण्ड चाट चाट कर मज़ा लेने लगी . मैं जब घर लौटी तो पता चला की अम्मी के कमरे से आवाज़ आ रही है . उसके साथ जो आवाज़ थी उसे मैं पहचानती नहीं थी . किसी अनजान मर्द की आवाज़ जब मुझे सुनाये पड़ी तो मैंने सोंचा चलो पहले झाँक कर देखें कौन है मादर चोद ? मैं चुप चाप झाँक कर देखने लगी ., मुझे मालूम हुआ की एक नहीं दो दो मर्द है बहन चोद अन्दर ? दोनों ही भोषड़ी वाले नंगे है . उनके लण्ड मेरी आँखों के सामने आ गये . मैं तो वाकई ललचा गयी . पर मैं देखती रही . अम्मी जब बाथ रूम ने निकल कर आयी तो वो भी बिलकुल नंगी थी . आते ही उसने दोनों लण्ड एक एक हाथ से पकड़ लिया और बार बार ऊपर नीचे करने लगी . लण्ड और टन्ना उठे . फिर अम्मी चाटने लगी बारी बारी से दोनों लण्ड ? कभी इसका सुपाड़ा मुंह में कभी उसका सुपाड़ा मुंह में ?
लण्ड चाटते चाटते अम्मी बोली:- अरे शकील तेरा लण्ड पहले से ज्यादा मोटा हो गया है साला . और नसीब का भी लौड़ा मुझे पहले से बड़ा लग रहा है .
शकील :- हा भाभी यही बात तो नसीब की बीवी भी कहती है ?
नसीब :- और भाभी इसकी भी बीवी यंही बात कहती है ?
अम्मी :- अच्छा तो तुम मादर चोदों एक दूसरे की बीवी चोदने लगे हो आजकल ?
शकील :- हा भाभी तुमने सही पहचाना ? तेरा हसबैंड भी तो हम दोनों की बीवियां चोदता है .
अम्मी :- हां हां यार उस दिन मेरे मियां ने यह बात बताई थी लेकिन मैं भूल गयी थी .
अब मेरे सामने पिक्चर बिलकुल साफ़ हो गयी की ये दोनों बहन चोद मेरे अब्बू के दोस्त है . और तीनो एक दूसरे की बीवी चोदते है . आज मेरी अम्मी इन दोनों से चुदवाने जा रही है . बस मैं बिना सोंचे समझे घुस गयी कमरे में और बोली:- अरे अम्मी ये कौन है मादर चोद मेरी माँ का भोषडा चोदने वाले ?

अम्मी बोली :- अरे सदा तू कहाँ गांड मराने चली गयी थी ? देख ये दोनों तेरे अब्बू के दोस्त है . तेरा अब्बू इन दोनों की बीवी चोदता है और आज ये दोनों तेरी माँ चोदने आये है .
मैं कहा :- तो ठीक है , मैं भी तो अब्बू से चुदवाती हूँ . इसलिए मैं इनसे भी चुदाऊंगी ?
अम्मी बोली :- अरे मैं इसीलिए तुमको ढूंढ रही थी . जल्दी से आ भोषड़ी की और घुसा ले अपनी पसंद का लण्ड ? मैं बोली :- मुझे तो दोनों पसंद है लण्ड अम्मी ?
अम्मी बोली:- तो दोनों घुसा ले अपनी चूत में ? मैं बाद में चुदा लूंगी .
बस फिर क्या अम्मी ने पहले चूत सहलाई और उस पर नसीब अंकल का हाथ रख दिया . मर्द का हाथ लगते ही चूत गरम हो गयी . अम्मी ने मेरी टाँगे फैला दी और नसीब अंकल का लण्ड मेरी चूत पर रख दिया . अंकल ने एक धक्का मारा लण्ड बहन चोद गपाक से अन्दर घुस गया . मैं मस्ती से चुदाने लगी . तब तक अम्मी ने दूसरा लण्ड मेरे मुंह में घुसा दिया . मैं उसे भी चाटने लगी . अम्मी उनके कभी पेल्हड़ सहलाती कभी उनके चूतड़ और कभी कभी मेरे मुंह से लण्ड निकाल कर चाट लेती ? कभी मेरी चूत से लण्ड खींच कर चाट लेती ? मेरी अम्मी अपनी बेटी चुदाने में बड़ी एक्सपर्ट हो गयी है . वैसे मैं भी कम नहीं हूँ अपनी माँ चुदाने में ?
एक दिन मैं अपने मामू के घर गयी . मामू की लड़की रज्जो मेरी बहन लगती है . शाम को नास्ता करने के बाद वह अपने अब्बू के बगल में बैठी थी . सामने मैं बैठी थी . मैंने देखा की रज्जो अपना हाथ मामू की लुंगी के अन्दर घुसेड रही है . मैं समझ गयी हाथ क्यों घुसेड़ रही है . इतने में लुंगी ऊपर नीचे होने लगी . मैं यह भी समझ गयी की रज्जो ने लण्ड पकड़ लिया है और उसे मुठिया रही है . मैं उसे देख कर मुस्करा पड़ी ?
मैंने कहा :- अरी रज्जो क्या है लुंगी के अन्दर यार ? क्या ढूंढ रही हो तुम इतनी देर से ?
वह बोली :- एक मस्त चीज है लुंगी के अन्दर ?
मैं बोली :- बता न क्या है वो चीज ?
वह बोली :- मैं दिखा दूँगी ? नाम तुम बताओगी ?

मैं बोली :- अच्छा ठीक है दिखा तो पहले ? फिर बताऊंगी की मुझे उसका नाम मालूम है की नहीं ?
रज्जो ने अपने अब्बू से कहा :- अब्बू दिखा दूं इसे ?
मामू मुस्करा कर बोला :- हां दिखा दो ?
रज्जो ने लुंगी खोल कर फेंक दी और उसका लौड़ा मुझे दिखा कर बोली :- ये है अदा ? अब बताओ इसे क्या कहते है ?
मैं बोली :- इसे कहते है मादर चोद लण्ड ? बहन चोद लण्ड बेटी चोद लण्ड ? समझी मेरी बुर चोदी रज्जो / और हां इसे लौड़ा भी कहते है ?
मेरे मुंह से लण्ड और गाली सुनकर उसका लण्ड और टन्ना गया ?
रज्जो ने कहा :- तो लो फिर कपड़ो ने इस भोषड़ी वाले को .
मैं बोली :- तो तुम चुदवाती हो अपने अब्बू से ?
वह बोली :- अब चुदवाऊँगी नहीं तो क्या चूत का अचार डालूंगी ? पर आज मैं अपनी चूत नहीं तेरी चूत चुदाऊंगी . तेरी चूत में यही लण्ड पेलूंगी
उस दिन रज्जो ने अपने अब्बू से खूब चुदवाया और मेरी भी चूत चुदवायी . –

०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०=०= समाप्त