पायल की योनि का आनंद

Antarvasna, hindi sex stories: मेरी जॉब अभी कुछ दिनों पहले ही लगी थी और मैं अपनी दीदी के साथ रहता था। मैं कोलकाता में जॉब करता हूं कुछ महीने तो मैं अपनी दीदी के साथ रहा और उसके बाद मैंने अपने ऑफिस के ही एक दोस्त के साथ रूम ले लिया और हम दोनों साथ में रहने लगे। मैं अपनी जॉब से काफी ज्यादा खुश हूं मुझे काफी ज्यादा अच्छा लगता है जब भी मैं अपनी दीदी से मिलने के लिए जाता हूं। एक दिन मैं दीदी को मिलने के लिए गया उस दिन दीदी की तबीयत ठीक नहीं थी इसलिए मुझे उन्हीं के घर पर रुकना पड़ा। मैं दीदी को डॉक्टर के पास भी लेकर गया क्योंकि घर पर कोई भी नहीं था दीदी को डॉक्टर ने आराम करने के लिए कहा था उस दिन मैंने बाहर से ही खाना ऑर्डर करवा दिया था। रात के वक्त जब मैंने दीदी को पूछा कि दीदी आप खाना खाएंगे तो उन्होंने मुझे मना कर दिया और कहने लगी नहीं सूरज मेरा खाने का मन बिल्कुल भी नहीं है। मैंने अकेले ही खाना खाया और उसके बाद मैं सोने के लिए रूम में चला गया। अगले दिन जब मैं उठा तो मैं छत पर गया मैंने छत पर देखा कि एक लड़की कपड़े सुखा रही थी। मेरी नजरें उस लड़की से हट ही नहीं रही थी मैं उसकी तरफ देखता रहा मुझे उस लड़की को देखकर काफी अच्छा लग रहा था लेकिन मैं उसके बारे में ज्यादा जानता नहीं था।

उसके बाद मैं छत से नीचे आ गया उस लड़की से मेरी मुलाकात तो हो नहीं पाई लेकिन काफी समय बाद मैं जब दीदी के घर पर गया तो मुझे उस लड़की से बात करने का मौका मिला और उसका नाम भी मैं जान पाया उसका नाम पायल है। पायल से बात कर के मुझे अच्छा लगा और पायल को भी मुझसे बात करना अच्छा लगने लगा। हम दोनों एक दूसरे से काफी बातें करने लगे थे मैं पायल के साथ होता तो मुझे काफी ज्यादा अच्छा लगता। एक दिन मैंने पायल को फोन पर मैसेज भेजा और उससे मिलने की बात कही, मुझे उम्मीद नहीं थी कि वह मुझसे मिलने आ जाएगी लेकिन वह मुझसे मिलने के लिए तैयार हो गई। हम दोनों बातें कर रहे थे हम दोनों जिस रेस्टोरेंट में बैठे हुए थे वहां पर मेरे दोस्त ने हम दोनों को देख लिया था। हालांकि उस वक्त उसने मुझे कुछ नहीं कहा लेकिन उसने मुझे ऑफिस में इस बारे में पूछा। मेरे और पायल के बीच की नजदीकियां बढ़ने लगी थी हम दोनों एक दूसरे से फोन पर काफी बातें करने लगे थे और हम दोनों एक दूसरे को डेट भी करने लगे थे। इस बात से मैं काफी खुश था कि पायल मेरी जिंदगी में आ चुकी है पायल के मेरी जिंदगी में आने से मेरी जिंदगी पूरी तरीके से बदल चुकी थी। मैं बहुत ज्यादा खुश था और जब भी मुझे पायल के साथ समय बिताने का मौका मिलता तो मुझे बहुत ही अच्छा लगता। हम दोनों एक दूसरे के काफी करीब आ चुके हैं और अब यह बात मेरी दीदी को भी मालूम चल चुकी थी। दीदी ने मुझसे कहा कि सूरज क्या तुम पायल से शादी करना चाहते हो तो मैंने दीदी से कहा दीदी मैं पायल को बहुत प्यार करता हूं और उससे मैं शादी भी करना चाहता हूं।

दीदी ने मुझे कहा ठीक है सूरज मै इस बारे में पायल के पापा मम्मी से बात करती हूं। दीदी ने पायल के पापा मम्मी से इस बारे में बात की, वह लोग मुझसे एक बार मिलना चाहते थे मैं जब उनको मिलने के लिए उनके घर पर गया तो उस दिन दीदी भी मेरे साथ थी। उन लोगों ने मेरे और पायल के रिश्ते को स्वीकार कर लिया था मैं इस बात से बहुत ज्यादा खुश हो गया था कि पायल और मेरे रिश्ते को उन लोगों ने स्वीकार कर लिया है। उसके बाद पायल और मैं एक दूसरे से काफी ज्यादा मिलने लगे थे क्योंकि अब हम दोनों के रिश्ते को पायल के परिवार वाले भी स्वीकार कर चुके थे और मेरी फैमिली को मैं इस बारे में बता चुका था। सब लोग इस बात के लिए तैयार हो चुके थे और मैं काफी ज्यादा खुश था कि अब सब लोग हम दोनों के रिश्ते को स्वीकार कर चुके हैं। मैं चाहता था कि पायल और मेरी इंगेजमेंट हो जाए मैंने जब पायल से इस बारे में कहा तो पायल भी इस बात के लिए तैयार थी और हम दोनों ने अब इंगेजमेंट करने का फैसला कर लिया था। हम दोनों की इंगेजमेंट हो चुकी थी और हम दोनों ही बहुत खुश थे कि हम दोनों की इंगेजमेंट हो चुकी हैं। मैं जब भी किसी परेशानी में होता तो हमेशा ही पायल मेरा साथ दिया करती और मुझे काफी अच्छा लगता जब भी पायल और मैं साथ में बैठकर एक दूसरे से बातें किया करते हैं। मुझे उसके साथ समय बिताना बहुत ही अच्छा लगता है और पायल को भी मेरे साथ समय बिताना काफी अच्छा लगता। एक दिन पायल और मैं साथ में बैठे हुए थे उस दिन जब हम दोनों साथ में बैठे हुए थे तो हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे।

पायल ने मुझे कहा कि सूरज क्या अब हम लोगों को शादी कर लेनी चाहिए तो मैंने पायल से कहा कि पायल मुझे थोड़ा समय और चाहिए क्योंकि मैं चाहता था कि मैं कोलकाता में ही एक घर ले लूं और कोलकाता में ही मैं पायल के साथ रहूं। पायल ने भी मेरी इस बात को मान लिया और वह कहने लगी कि ठीक है सूरज जैसा तुम्हें ठीक लगता है। पायल और मेरी मुलाकात तो हर रोज होती रहती थी और अब मैं घर भी खरीद चुका था। पायल मुझसे मिलने के लिए घर पर आ जाया करती थी। जब भी पायल और मैं साथ में होते तो हम दोनों एक दूसरे के साथ काफी अच्छा समय बिताया करते। एक रात पायल और मैंने फोन पर गरमा-गरम बात कि उस दिन जब हम दोनों की गरमा गरम बातें हो रही थी तो हम दोनों ही बहुत ज्यादा खुश थे। पायल अपने आपको रोक नहीं पा रही थी कहीं ना कहीं पायल मेरे साथ सेक्स करना चाहती थी और मैं भी पायल के साथ शारीरिक सुख का मजा लेना चाहता था और मैंने ऐसा ही किया। मैंने जब पायल को अगले दिन घर पर बुलाया तो पायल घर पर आ गई और वह इस बात के लिए पूरी तरीके से तैयार थी। पायल और मैं साथ में बैठे हुए थे हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे मैंने अपने हाथ को आगे बढ़ाया और पायल के हाथों को अपने हाथों में ले लिया। पायल और मैं पूरी तरीके से गर्म होने लगे थे हम दोनों की उत्तेजना इस कदर बढ़ने लगी थी कि मैंने पायल को कहा मैं तुम्हारी योनि के अंदर अपने लंड को डालना चाहता हूं। पायल ने मुझे कहा ठीक है।

जब मैंने पायल के कपड़े उतारने शुरू किए तो मैं उसके नंगे बदन को देखकर अपने आपको रोक ना सका और मेरी गर्मी इस कदर बढ़ चुकी थी कि मैंने पायल से कहा मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पा रहा हूं। पायल ने मुझे कहा मैं तुम्हारे लंड को चूस लेती हूं। पायल ने मेरे लंड को अपने हाथों में लेना शुरू किया तो मुझे अच्छा लग रहा था और काफी देर तक वह मेरे लंड को हिलाती रही। मुझे मजा आने लगा था जब मैं और पायल एक दूसरे के साथ मजे ले रहे थे तो मैंने अपने लंड को पायल के मुंह के अंदर तक घुसा दिया था। मैं चाहता था मैं पायल की चूत का रसपान करूं। मैंने पायल की चूत को चाटना शुरु कर दिया पायल की योनि से पानी बाहर निकल रहा था पायल की योनि से इतना अधिक पानी बाहर निकल चुका था कि वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी और मुझे कहने लगी मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है। मैंने पायल से कहा मैं तुम्हारी चूत में लंड डालना चाहता हूं। पायल ने कहा ठीक है तुम अपने लंड को अंदर घुसा दो। मैंने पायल की योनि के अंदर अपने मोटे लंड को घुसाया। मेरा लंड पायल की योनि में प्रवेश हो चुका था और उसकी चूत से खून निकलने लगा था। मैं इस बात से खुश था पायल एकदम टाइट माल है। पायल ने मेरा साथ बडे अच्छे से दिया वह जिस तरह से मेरा साथ दे रही थी उससे मुझे अच्छा लग रहा था। मैंने पायल को कहा मुझे बहुत अच्छा लग रहा है तुम मेरा साथ ऐसे ही देती जाओ। पायल की गर्म कर देने वाली सिसकारियां मुझे और भी ज्यादा गर्म कर रही थी। मेरे अंदर का जोश बढ़ता जा रहा था मैंने पायल को कहा मेरे अंदर की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ रही है।

पायल मुझे कहने लगी सूरज और तेजी से चोदते जाओ। मेरे पायल के दोनो पैरों को ऊपर उठा लिया और मेरा लंड पायल की चूत के अंदर तक जा रहा था मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा था जब मैं उसकी चूत में अपने लंड को प्रवेश करवा रहा था। पायल की चूतडो से मेरा अंडकोष टकराने लगा था और पायल की चूत की दीवार तक मेरा लंड जा रहा था। वह मुझे कहती तुम बस मुझे ऐसे ही धक्के मारते रहो। मैंने पायल को कहा मुझे तुम्हें धक्के मारने में बहुत मजा आ रहा है। पायल मेरा साथ बडे अच्छे से दे रही थी। मैंने पायल की योनि के अंदर अपने माल को गिरा दिया  जब मेरा माल पायल की चूत मे गिरा तो वह खुश हो चुकी थी। वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है जिस प्रकार से हम लोगों ने एक दूसरे के साथ शारीरिक सुख का मजा लिया। पायल और मैं साथ में बैठे हुए थे। पायल की योनि से मेरा माल अभी भी बाहर की तरफ निकल रहा था पायल बड़ी खुश नजर आ रही थी और मैं भी बहुत ज्यादा खुश था। पायल ने मुझे कहा अब मैं चलती हूं। मैंने पायल को कहा तुम कुछ देर और रुक जाती तो अच्छा होता। हम दोनों अब शादी करने के लिए तैयार थे जल्द ही हम दोनों की शादी होने वाली थी लेकिन हम दोनों के बीच हर रोज सेक्स संबंध बनते ही रहते। पायल और मै एक दूसरे के साथ जमकर सेक्स का मजा लेते हैं।