पति के जाते ही मैं घुस गया घर में

hindi sex kahani, desi kahani

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम आयुष पंडित है और मैं लखनऊ में रहता हूँ | मेरी उम्र 21 साल है और मैं अभी घर पर ही रहता हूँ क्यूंकि मेरे ज्यादा दोस्त भी नहीं हैं और मुझे ज्यादा दोस्त बनाना पसदं भी नहीं है | मैं दिखने में सांवला हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 11 इंच है | मेरा बदन भी हट्टा कट्टा है क्यूंकि मैं रोज सुबह उठा कर देसी रियाज करता हूँ | दोस्तों मैं इस चुदाई की साईट का बहुत बड़ा दीवाना हूँ और मैं चुदाई की कहानियां पढ़ कर रोज मुट्ठ मारता हूँ | पता नहीं मुझे क्या हो जाता है रोज सोचता हूँ कि आज कहानियां नहीं पढूंगा और न ही मुट्ठ मारूंगा लेकिन जब खाना खा कर सोने जाता हूँ तो तलब सी लगने लगती है कि मुट्ठ मार लो कहानी पढ़ते हुए | पहले मैं यही काम ब्लू फिल्म देख कर करता था लेकिन जब से मुझे चुदाई की कहानी के बारे में पता चला तब से मैं बस कहानियां ही पढ् कर मुट्ठ मारता हूँ | दोस्तों मुझे बहुत कम बार ही चुदाई नसीब हो पाती है क्यूंकि मैं जिसको चोदता हूँ उसका पति बस एक यार दो बार ही घर से बाहर रहता है कभी कभी तो ऐसा होता है कि वो कहीं नहीं जाता बाहर | बहुत ही बड़ा नाटक होता है साला खुद तो अपनी लुगाई चोदता नहीं है और मुझे चोदने नहीं देता बहनचोद | चलो दोस्तों मैं आप लोगो का क्यूँ टाइम ख़राब कर रहा हूँ | मैं कहानी लिखता हूँ दोस्तों मजे ले कर पढ़ना न पसंद आये तो गुस्सा मत होना क्यूंकि उखाड़ तो वैसे भी कुछ नहीं पाओगे मेरा |

मेरे घर के बाजु मे एक भाभी रहती है जिसका नाम आरती है और उसका पति सेल्समेन की नौकरी करता है और कभी कभी उसे मीटिंग में भी जाना पड़ता है जैसा कि मैंने आप लोगो को बताया और उन दोनों का एक बेटा है जो अभी स्कूल में पढ़ाई करता है | आरित दिखने में गोरी है और उसकी हाईट 5 फुट 5 इंच हाईट है इसके साथ ही उसके बड़े बड़े दूध और बड़ी सी गांड पर मैं फ़िदा हूँ | मैं जब भी सुबह कसरत करता तो वो मुझे देख कर मुस्कुरा दिया करती | उसके पास तो मोबाइल था नहीं तो हमारा काम बस चिट्ठी भेज कर होता था | जब हमे एक महीने से ज्यादा हो गया तो मैं उसे हर ये लिख कर भेजता कि मुझे तुम्हे चोदना है और वो हर बार ये कहती कि मेरे पति हैं घर पर है | मैं हर बार बस उसे याद कर के मुट्ठ मार लेता था | वैसे मुझे उसके घर की सारी खबर रेहती थी | एक दिन उसका पति गया घर से और उसके हाँथ में बड़ा सा बैग था तो मैं समझ गया और मैं उसके घर गया और वहां पंहुच कर देखा कि उसका बच्चा भी नहीं है और पति भी नहीं है | मैं उसके किचिन की तरफ गया तो वो किचिन में खाना बना रही थी | मैंने उसे पीछे से जा कर पकड़ लिया तो उसने मेरी तरफ देखा और कहा क्या यार तुमने तो मुझे डरा ही दिया | मैंने कहा यार मुझे इसीलिए ऐसे आना पड़ा क्यूंकि तुम फ़ोन तो चलाती नही हो इसलिए मुझे पता नहीं चल पाता कि तुम अकेले हो या नहीं | फिर उसने पूछा कि तुम्हे आज कैसे पता चला कि मैं अकेले हूँ ? तो मैंने उसे बतया कि यार मुझे नहीं पता था कि तुम अकेले हो या नहीं मैं तो बस छत कूद कर आ गया और तुम्हारा पति होता तो तुम्हारे घर में टीवी चल रही होती | उसने कहा अच्छा बड़ा पता है तुम्हे सब चीज़ के बारे में ये कह कर वो मुझसे लिपट गई तो मैंने कहा अरे जान कमरे में चलो न |

उसने मेरा हाँथ पकड़ा और मुझे अपने कमरे में ले कर गई और फिर से मुझसे लिपट गई तो मैं भी उसके बदन को सहलाने लगा | वो मेरे सीने से काफी देर चिपकी रही | फिर मैंने उसे अपने सीने से अलग किया और उसके होंठ में अपने होंठ रख कर उसके होंठ को चूसने लगा और वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी | मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध को भी दबा रहा था और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरे लंड को जीन्स के ऊपर से ही सहला रही थी | हम दोनों ने एक दुसरे के होंठ को करीब 10 मिनट तक चूसे | फिर उसने मेरे टी-शर्ट को उतार दी और मेरे बाल वाली छाती को हाँथ से सहलाने लगी | फिर वो मेरी छाती को चूमते हुए मेरे जीन्स के ऊपर को उतार कर मुझे बस अंडरवियर में कर के मेरे लंड को ऊपर से ही सहलाने लगी फिर उसने मेरे अंडरवियर को भी उतार कर मुझे पूरा नंगा कर के मेरे लंड को अपने हाँथ में ले कर हिलाने लगी | फिर उसने मेरे लंड पर अपनी जीभ फेर कर चाटने लगी तो मेरे मुंह से आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी |

वो मेरे लंड के हर एक हिस्से को जीभ से चाट कर गीला कर रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके ब्लाउज के ऊपर से ही उसके दूध को दबा रहा था | मेरे लंड को चाटने के बाद उसने लंड के टॉप को अपने मुंह में ले कर जीभ फेरते हुए चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मदहोश हो रहा था | फिर उसने मेरे लंड को अपने मुंह में पूरा ले कर चूसने लगी और साथ में अन्टोलो को भी हाँथ से सहला रही थी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके साडी के पल्लू ओ नीचे कर दिया | मेरे लंड को चूसने के बाद उसने मेरे अन्टोलो को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगा | थोड़ी देर के बाद मैंने उसे उठा दिया और फिर उसके ब्लाउज को उतार दिया और ब्रा के ऊपर से ही उसके दूध को दबाने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | फिर मैंने उसके ब्रा को भी ऊपर कर उतार दिया और उसके दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसन लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेरते हुए सहलाने लगी |

मैं उसके दोनों दूध को एक एक कर के जोर जोर से दबा कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मुझे बच्चो जैसे दूध पिला रही थी | उसके बाद मैंने उसकी साड़ी को उसके बदन से अलग कर दिया और अब वो मेरे सामने बस पेंटी में थी | फिर मैंने उसकी पेंटी भी उतार दिया और उसे लेटा कर उसकी टांगो को चौड़ा कर के चूत को चाटने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को दबाने लगी | मैं उसकी चूत को चाटते हुए उसके चूत के दाने को भी होंठ से दबा कर खींच कर चूस रहा था और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी |
फिर मैंने अपने लंड को उसकी चूत में रख कर अन्दर पेल दिया और चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए चुदाई के मजे लेने लगी | मैंने अपनी चुदाई तेज कर दिया और उसके दोनों दूध को दबा दबा कर चोदने लगा और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी कमर उठा उठा कर चुदाई में साथ दे रही थी | फिर मैंने उसे कुतिया बना दिया और एक कुत्ते की तरह ऊपर चढ़ कर चोदने लगा पीछे से और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मुझे और चोदो और चोदो कह रही थी | मैं भी जोर जोर से उसकी चूत को चोद रहा था और करीब 20 मिनट के बाद मैंने अपना माल उसके मुंह के ऊपर झड़ा दिया | उसकी चुदाई करने के बाद मैं अपने घर आ गया |