ऑफिस की माल लडकी को बाथरूम में चोदा

antarvasna kahani, kamukta

मेरा नाम राहुल है मैं कोलकाता का रहने वाला हूं, मुझे जॉब करते हुए दो वर्ष हो चुके हैं। मैं जिस कंपनी में नौकरी करता हूं वहां पर मुझे उस वक्त ज्यादा काम नहीं आता था। मैं उस वक्त फ्रेशर था इसलिए मुझे कभी कम तनख्वाह मिल रही थी लेकिन अब मेरी अच्छी तनख्वाह हो चुकी है। मेरे साथ में जितने भी लोग थे उनमें से कइयों ने यह कंपनी छोड़ दी है क्योंकि उन्हें दूसरी कंपनी से अच्छा ऑफर आ गया लेकिन मैं अभी भी अपने काम को यहीं पर कंटिन्यू कर रहा हूं और अपने काम में पूरी मेहनत करता हूं। मेरे परिवार में मेरे पिताजी हैं, मेरे पिताजी स्कूल में क्लर्क हैं और मेरी मां घर में ही सिलाई का काम करती है। उनके पास हमारे आस पड़ोस की महिलाएं आती हैं और वह उन्हें छोटा मोटा काम दे देती है, जिससे कि वह घर का राशन का खर्चा निकाल लेती हैं। मेरा छोटा भाई अभी कॉलेज में है इस लिए वह कभी कबार मुझसे पैसे ले लेता है और मैं उसे पैसे दे दिया करता हूं,  ताकि उसका जेब खर्चा निकल पाये और कभी वह पापा से पैसे ले लेता है।

एक दिन हमारे ऑफिस में इंटरव्यू चल रहे थे, उस दिन हमारे ऑफिस में काफी सारे लोग आए हुए थे उनमे से एक लड़की मुझे बहुत अच्छी लगी, जब इंटरव्यू खत्म हो गए तो उसके बाद मैंने उस लड़की का नाम पूछा, उसका नाम मोनिका है और वह मुझे कहने लगी कि मैं यहां पर इंटरव्यू के लिए आई थी, मुझे किसी परिचित ने बताया था। वह मुझसे पूछने लगी क्या आप इसी ऑफिस में काम करते हैं, मैंने उससे कहा कि हां मैं ऐसी ऑफिस में काम करता हूं। मैंने उसे कहा कि तुम्हारा इस ऑफिस में सलेक्शन हो जाएगा तुम उसकी चिंता मत करो, वह मुझे कहने लगी कि मेरा अभी इसी वर्ष कॉलेज कंप्लीट हुआ है और मैं जॉब की तलाश में हूं क्योंकि मुझे बहुत जरूरत है जॉब की। मैंने अपने एचआर से बात कर लिया और उसके बाद उन्होंने उसे फोन कर के ऑफिस में बुला लिया। उसका सिलेक्शन हो चुका था और वह बहुत खुश थी। अब उसने ऑफिस जॉइन कर लिया था और ऑफिस में वह मुझे जानती थी इसलिए वह मुझसे बात करने लगी और मैं भी मोनिका से बात कर रहा था।

मैंने उसे कहा कि चलो अच्छा हुआ कि तुम्हारा यहां पर हो गया। वह कहने लगी कि हां मैं भी आपको थैंक्यू कहना चाहती थी, मैंने उसे कहा कि तुम मुझे क्यों थैंक्यू कहना चाहती हो। वह कहने लगी कि आपने ही अपना रेफरेंस अपने एचआर को दिया इसलिए उन्होंने मुझे सिलेक्ट किया। मैंने उससे पूछा कि यह बात तुम्हे किसने बताई तो वह कहने लगी कि मुझे एचआर ने बताया कि आपने अपना परिचय दिया है इसलिए मेरा सिलेक्शन हो पाया। मोनिका और मैं ऑफिस में साथ में काम करते थे तो मेरी उससे बात हो जाती थी और जब शाम को हम लोग ऑफिस से घर जाते हैं तो मैं मोनिका को अपने साथ लेकर जाता था। मोनिका मुझे कहती कि आप बहुत ही अच्छे हैं। मैंने उसे कहा कि यह तुम्हारी अपनी काबिलियत है इसी वजह से तुम ऑफिस में लगी और अब तुम अपना हंड्रेड परसेंट भी दे रही हो। वह बहुत ही अच्छे से काम करती और अपने काम में वह पूरा ध्यान लगाती। उसे जब भी कुछ आवश्यकता होती तो वह तुरंत ही मुझे बता देती इसलिए अब मोनिका और मेरे बीच काफी बातें होने लगी थी। मैंने एक दिन मोनिका से अपने दिल की बात कह दी और उसे कहा कि तुम मुझे बहुत अच्छी लगती हो, वह मुझे कहने लगी कि मेरे घर वालों ने मेरे लिए एक लड़का पसंद किया है। मैंने उससे पूछा कि क्या तुम भी उसके साथ अपना जीवन बिताना चाहती हो, वह कहने लगी कि मैं बिलकुल नहीं चाहती कि मैं अभी शादी करूं,  जिससे मेरी शादी हो पहले मैं उसे कुछ समय तक जानना चाहती हूं। उसके बाद ही मैं उससे शादी करना चाहती हूं। जब यह बात मोनिका ने कही तो मैंने उसे कहा ठीक है तुम कुछ समय और ले लो। तुम्हें जैसा उचित लगे तुम अपने ही हिसाब से अपना फैसला ले लेना। मोनिका मुझसे बहुत अच्छे से बात करती थी और मैं भी उसके साथ काफी समय बिताता था, हम दोनों के बीच अब नज़दीकियां बहुत बढ़ने लगी थी और उसे भी लगने लगा था कि मैं उसके लिए बिल्कुल सही इंसान हूं इसीलिए वह मुझसे अब बहुत बात करने लगी थी। मुझे भी लगने लगा कि हम दोनों के बीच नजदीकियां बढ़ने लगी है।

मैं जब भी घर पर होता तो वह मुझे अक्सर फोन कर दिया करती थी और मुझे भी मोनिका से बात करना अच्छा लगता था इसीलिए मैं भी जब घर पर पहुंचता तो मैं उसके फोन का इंतजार करता था। वह भी मुझे फोन कर दिया करती थी और जिस दिन उसके पास समय नहीं होता, उस दिन मैं उसे फोन कर देता था और ऑफिस में तो हम लोग साथ में समय बिताते ही थे। एक दिन मोनिका ने भी मुझ से कहा कि मुझे आपके साथ ही अपना जीवन बिताना है। उस दिन यह बात सुनकर मैं बहुत खुश हुआ और उसे कहने लगा कि क्या तुमने अपने घर में इस बारे में बात की है, वह कहने लगी कि मैंने अपने घर में तो इस बारे में बात नहीं की लेकिन मैं आपके साथ ही अपना जीवन बिताना चाहती हूं। मैं कभी भी ऑफिस के सिलसिले से यदि बाहर जाता हूं तो मोनिका मुझे हमेशा ही फोन करती थी और कहती थी कि आप अपना ध्यान रखना। जिस प्रकार से वह मेरा ध्यान रख रही थी, वह मुझे बहुत अच्छा लगता था और मैं भी उसका पूरा ध्यान रखता था इसीलिए हम दोनों एक दूसरे को पसंद करते थे और यह बात हम दोनों को बहुत ही अच्छी लगती थी।

मोनिका मेरे लिए हमेशा ही टिफिन लेकर आती थी। मैं कभी भी अपने लिए टिफिन नहीं लाता था वह हमेशा मेरे लिए अपने हाथों से टिफिन बना कर लाती थी इसलिए हम दोनों साथ में ही लंच किया करते थे। एक दिन हम दोनों साथ में बैठकर लंच कर रहे थे उस दिन मोनिका ने वाइट कलर की शर्ट पहनी हुई थी और उसकी  ब्रा दिखाई दे रही थी। जब उसकी ब्रा को मैंने देखा तो मुझे बहुत अच्छा लगने लगा। मैंने उसके स्तनों को दबाना शुरू कर दिया और जैसे ही मैं स्तनों को अपने हाथ से दबाता तो मुझे बहुत अच्छा महसूस होता। उसे भी बहुत अच्छा लग रहा था हम दोनों से ही बिल्कुल कंट्रोल नहीं हुआ। हम दोनों ही अपने ऑफिस के बाथरूम के अंदर चले गए। मैंने अपने लंड को बाहर निकालते हुए मोनिका के मुंह के अंदर डाल दिया और वह मेरे लंड को अपने मुंह में लेकर चूसने लगी। उसने काफी देर तक मेरे लंड को चूसा तो मेरा पानी निकलने लगा। मैंने भी मोनिका को नंगा कर दिया और जैसे ही मैंने उसकी गांड को चाटा तो वह मचलने लगी। मैंने उसकी योनि को बहुत देर तक चाटा जिस से कि उसका पानी बाहर निकलने लगा था। मैंने जब उसकी चूत पर अपने लंड को लगाया तो मुझे बहुत दिक्कत हो रही थी उसकी योनि के अंदर अपने लंड को डालने में लेकिन मैंने धीरे-धीरे अपने लंड को उसकी योनि में घुसा दिया। जैसे ही मेरा लंड मोनिका की चूत में गया तो उसकी खून की पिचकारी बाहर की तरह निकलने लगी लेकिन मैंने उसकी चूतड़ों को कस कर पकड़ा हुआ था। मै बड़ी तेज गति से उसे धक्के दे रहा था मैंने मोनिका को इतनी तेज झटके मारे की उसका पूरा शरीर हिलने लगा। वह मुझे कहने लगी कि मुझसे बिल्कुल भी बर्दाश्त नहीं हो रहा है। उसने भी कुछ देर तक अपनी चूतडो को मुझसे मिलाया जिससे कि मेरे अंदर की गर्मी भी बाहर आने लगी। मैंने उसे इतनी तेज झटके मारे कि उन झटको के बीच में ही मेरा वीर्य गिरने वाला था। मैंने अपने लंड को मोनिका की योनि से बाहर निकालते हुए उसकी चूतडो पर अपना माल गिरा दिया। उसके बाद उसने मेरे वीर्य को साफ किया और हम दोनों अपने ऑफिस में आ गए। उसके बाद से तो कई बार हम दोनों के बीच में सेक्स संबंध बन चुके हैं। हम दोनों को एक दूसरे के साथ सेक्स करने में बहुत अच्छा लगता है। मोनिका मुझसे बहुत ज्यादा प्यार करती है और एक दो बार तो मैंने उसे प्रेग्नेंट भी कर दिया था। जिसकी वजह से वह बहुत टेंशन में थी लेकिन मैंने उसे गोलियां खिलाकर सब टेंशन दूर कर दी। मोनिका मेरा बहुत ही ध्यान रखती है जिससे कि मैं भी उसकी तरफ आकर्षित होता हूं।