नौकरी हो तो ऐसी

यूनिवर्सिटी से पढ़ के अब मैं ग्रॅजुयेशन कंप्लीट कर चुक्का था. मैं बचपन से ही अनाथ था. मैं 1 छोटे से गाओं मे पला बढ़ा और बाद मे यूनिवर्सिटी से ग्रॅजुयेशन कंप्लीट कर लिया. इसमे मेरे मामाजी का बहुत ही बड़ा हाथ था. उन्ही के कृपा से मैं एक काबिल आदमी बन पाया था. पिछले दो चार महीनो से मामाजी मुझे अक्सर कहते थे कि मेरे एक मित्र घयपुर जिले से आनेवाले है अपनी बहू को लेने के लिए, जिसने तीन महीने पूर्व ही एक बच्चे को जन्म दिया था. एक दिन सबेरे सबेरे मुझे उठाते हुए ममाजी बोले “तुम्हे घयपुर जाना होगा सेठ जी के साथ” जब मैने पूछा कि क्यू तो जवाब मिला “उनके यहा पे एक अच्छे और ईमानदार व्यक्ति की उन्हे ज़रूरत है तो मैने तुम्हारा नाम आगे कर दिया और वो तुम्हे अच्छी तनख़्वाह देने के लिए भी राज़ी हो गये है ” तो मैने पूछा अब आगे क्या तो ममाजी बोले “तो तुम्हे उनके साथ जाना होगा, 2 दिन का ट्रेन का सफ़र है, ट्रेन कल दोपेहर 2 बजे निकलने वाली है सब तय्यारी कर लो” मैं कोई गाव –वाव मे काम नही करना चाहता था परंतु मामा जी का हुक्म था तो मैने सब तय्यारी कर ली और दूसरे दिन ममाजी के साथ स्टेशन पे पहुँच गया. स्टेशन पे पहुचते ही ममाजी ने मुझे सेठ जी से मिलवाया. सेठ जी मिड्ल एज्ड लग रहे थे परंतु उनकी चाल ढाल से पता चल रहा था कि बूढ़ा तो बहुत ही ठंडा है, एक बात बोलनेको 10 मिनट लेता है.

फिर मामा जी घर के लिए चल दिए. उतने मे ही ट्रेन आ गयी. और कुली ने जल्दी से 2 औरतो के साथ हमारा समान ट्रेन मे चढ़ा दिया. जैसे कि सेठ जी बड़े आदमी थे और बहुत पैसेवाले थे उन्होने 6 लोगो का 1 पूरा एसी कॉमपार्टमेंट ही बुक करवाया था. क्यू कि उनकी बहू और बीवी भी उनके जानेवाली थी जो बहुको लेने आई थी. जब मैं अंदर आके बैठा तो मुझे ऐसे लगा जैसे मैं कही जन्नत मे आ गया हू. सेठ के बीवी को देख के ऐसे लग रहा था कि कोई मदमस्त हसीना ट्रेन मे बैठी हो. उसका वो गोल मटोल चेहरा, पुश्त बाहें, बड़ी बड़ी चुचिया जो उनके ब्लाउस से सॉफ दिखाई दे रही थी, बड़ी – लचकीली कमर, और मोटे भारी गांद देख मे मैं दंग रह गया और मैं देखते ही रह गया जब सेठ जी ने बैठ जाओ कहा तब मैं होश मे आया. मैं शेठ जी की बीवी के पास बैठ गया, बैठते ही शेठ जी की बीवी कोमल बाहें मेरे हाथो से टकराई और मेरे शरीर मे करेंट उतर गया. मैं जीवन मे पहली बार ऐसा एहसास कर रहा था. मेरा लंड ऐसे खड़ा हो गया जैसे मानो कोई बम्बू हो. शेठ जी के बीवी मुझे देखकर हस रही थी. और मुझे चिपकने की कोशिश कर रही थी. मेरे सामने शेठ जी की बहू बैठी थी और बच्चे को सुला रही थी और शेठ जी बाहर देखते हुए हवा खा रहे थे. बहू की तरफ देखा तो मैं कतई दंग रह गया, वो अपनी सास से दस्पाट सुंदर थी और हसीन थी, क्या फिगर थी उसकी मानो भगवान ने उसकी एक एक चीज़ घंटो बर्बाद कर कर के बनाई हो. उसकी चुचिया ब्लाउस से बाहर आने के लिए मानो जैसे तरस रही हो. और डेलिवरी के कारण तो और हसीन और कम्सीन दिख रही थी.

परंतु थोड़ी उदास उदास दिख रही थी. इधर शेठ जी की बीवी मुझसे चिपके जा रही थी और मेरे हाथ से हाथ घिसने का कोई मौका नही छोड़ रही थी. उतने मे बहू का पैर मेरे पैरो को लगा और मैं चमक उठा. मैने अपना पैर थोड़ा पीछे खिचा, परंतु थोड़ी देर मे वोही घटना हो गई मैं समझ गया कि शेठ जी की बहू नाराज़ नाराज़ क्यू है और ये क्या हो रहा है. इसने बड़े लंबे समय से चुदवाया नही इसी कारण ये गरम हो रही है और पाव पर पाव घिस रही है. थोड़ी देर मे बहू मेरी तरफ देखकर थोड़ा थोड़ा हसने लगी. मैं भी पाव आगे करने लगा थोड़ी हिचखिचाहट थी परंतु अभी हौसला बढ़ रहा था. मैने अपना पैर उसके पंजे से उपर चढ़ाना शुरू किया और मुझे वो नरम नरम चिकने चिकने पैर से प्यार हो गया और मैं पैर ज़ोर ज़ोर से घिसने लगा. उधर बाजू मे शेठ की बीवी ने मेरे दाए साइड के पैर पर हाथ रख दिया और उसपे अपनी सारी सरका दी, ताकि कोई देख ना पाए. मैं थोड़ा नर्वस होने के कारण उधर से उठा गया और बाथरूम की और चल दिया. जैसे ही मैं बाथरूम का दरवाजा बंद करनेवाला था, मैने देखा शेठ की बीवी नेमेरा हाथ पकड़ लिया और चुपके से अंदर घुस आई मैं कुछ समझ पाउ इसके पहले ही उसने मुझे चुप रहने का इशारा किया और अपने शरीर से मुझे जाकड़ लिया. अब तो बस मेरा लंड पूरा के पूरा खड़ा हो गया. उस स्पर्श से मेरा रोम रोम जल उठा रहा था. शेठ जी की बीवीकी चुचिया मेरे छाती से चिपक रही थी और मुझे स्वर्ग मे जाने का आभास हो रहा था. मैने ज़ोर से शेठ की बीवी के मूह मे मूह डाल और ज़ोर से किस करने लगा वो भी मुझे ज़ोर्से किस करने लगी. हम दोनो की जीभ एक दूसरे टकरा रही थी और मुझे बहुत ही आनंद आ रहा था. शेठ जी की बीवी ने मेरे मूह से थूक चाटनी शुरू की और मेरी थूक अपनी मूह मे ले ली. और मेरे पॅंट की ज़िप खोलने लगी.

ज़िप खोलते ही मेरा पहाड़ जैसा लंड बाहर या और सेठानी उसे देखते रह गयी बोली ” मुझे माफ़ कर दो मुझे तुम्हारी औकात का पता नही था, मैं जाती हू मुझे जाने दो ” मैने सेठानी की सारी पकड़ली चूत के नज़दीक के झाँत बाल सहलाए और हल्केसे खिचे, और वो ज़ोर से कराह उठी. उसकी चूत के बाल मेरे हाथ मे थे और वो मदमस्त दिख रही थी. उसके लाल लाल होंठो को मैं दांतो से चबाने लगा और उसका मुख रस अपने मुँह मे लेने लगा. मैने सेठानी को बोला “तुम यहा आई अपनी मर्ज़ी से हो जाओगी मेरी मार्जिसे रंडी” और वो थोड़ी डर सी गयी. मैने उसकी सारी खोलने लगा. जैसे ही सारी खोल रहा था उसका वो असीम सौन्दर्य अपनी खुली आँखो मे समाने लगा, अब मेरे लंड के सूपदे से पानी निकलने लगा, मैने सारी खोली और खड़े खड़े ही उसके पीठ से चिपक गया, उसकेगालो को सहलाते हुए, लंड को उसकी गांद के दो पहाड़ो की झिर्री के बीच निकर्स से घिसने लगा…उसकी गांद का घेराव बहुत ही मस्त था….अब मुझे बहुत ही आनंद आ रा था, और अभी मैं पीठ को पूरी तरह से चिपक गया, और उसके शरीर को अपने अंदर महसूस करने लगा …मेरा अंग अंग रोमांचित हो रहा था…और उसी वक़्त मैने सोच लिया की एक दिन मैं इसकी गांद इस तरह फड़ुँगा कि ये किसीसे चुदवाने से पहले 10 बार सोचेगी. अब मैने सेठानी की निकर भी निकाल दी. सेठानी सिर्फ़ ब्लू ब्लाउस मे मेरे सामने खड़ी थी. उस अपारदर्शक ब्लाउस से उसकी चुचया सॉफ दिख रही. एक चुचि को मूह मे लेके मैं उसे ब्लाउस के बाहर से ही चाटने लगा….ब्लाउस गीला हो रहा और सेठानी का निपल सख़्त होते जा रहे थे उसके तंग ब्लाउस से उसके कांख के नीचे के काले बाल दिख रहे थे थोड़े थोड़े मैने उन्हे थोड़ा सा खिचा…”एयेए…आ…ईयीई”… और वो आगे पीछे डोलने लगी थी मैने 1 चुचि को हल्केसे काट लिया सेठानी बोली “होले होले” मैं हस्ने लगा….

और मैने फिरसे काट दिया …और वो कराह उठी…..उसकी आँखे लाल हो रही थी और गाल मानो जैसे टमाटर की तरह फूल रहे थे. मैने उसे वही नीचे बिठा दिया और मूह पे एक चपत लगा दी. वो दर्द से करहकर उठी बोली “तुम आदमी हो या जानवर, मारते हो …गधे जैसा तुम्हारा लंड है, इतना बड़ा 10 इंच का लंड मैने आज तक नही देखा है, मुझमे इतनी हिम्मत नही है कि मैं इससे जूझ पाउ, मुझे जाने दो.” मैने एक ना सुनी और मेरा लंड उसके मूह मे घुसेड दिया. और ज़ोर ज़ोर से झटके मारने लगा. उसके मूह से गु गुगु गुगु गु की आवाज़ आने लगी. और उसकी आँखो मे पानी आ गया. जब मैने लंड बाहर निकाला तो वो ज़ोर्से हाफ़ रही थी. मैने मूह पे 1 और थप्पड़ मारा और कहा “इस उमर मे ऐसी हरकते करती हो तुम्हे सज़ा मिलनी ही चाहिए” मैने उसे वही खड़ा किया और उसकी चूत को सहलाने लगा, उसकी सासे तेज़ होने लगी और मैने ज़ोर से 1 उंगली अंदर घुसेड दी. वो चिल्लाने लगी वैसे ही मैने उसके मूह पे हाथ रख दिया. उसके हाथ पैर हिलने लगे. अब मैने उसे कुत्ति की तरह आसान बनाके के खड़ा कर दिया . और बोला “ये ले मेरी रानी ……..मन मे बोला तू तो अब गयी” मैने अपना लंड उसकी चूत के उपर लगाया ..वो गोरी गोरी चूत काले घने बालो के बीच से मेरे लंड के सूपदे को पुकार रही थी. सेठानी की चूत की लाल लकीर काले बालो के बीच मे बहुत ही नाज़ुक और कोमल लग रही थी. मैने उसपे थोड़ा थुका, और चटा और और 1 उंगली डाल दी. सेठानी तड़पने लगी. मैने और थुका और चूत के लिप्स को अलग करते हुए अंदर देखने लगा. मैं जीवन मे पहली बार कोई चूत देख रहा था. वो इतनी हसीन थी कि लग रहा था कि देखते रहू..मैं सेठानी के चूतड़ मे उंगलिया डाल डाल के उसके लिप्स को बाजू कर कर के अंदर देख रहा था और थूक रहा था ऐसे लग रा था मानो मैं स्वर्ग मे हू. मैने अब चूत के अंदर के छोटेसे होल मे तीन उंगलिया डाली और ज़ोर ज़ोर से अंदर बाहर करने लगा. सेठानी तड़पने लगी और बोलने लगी “हल्लू हल्लू बहुत दुख रहा है वाहा ….हल्ल्लू हल्लू “.

मैने अभी देर ठीक नही समझी और मेरा लॉडा सेठानी के चूतड़ पे रखा और ज़ोर का झटका देके अंदर घुसेड दिया 1 ट्राइ मे 4 इंच अंदर चला गया और सेठानी बिखलने लगी “बाहर निकालो बाहर निकालो मैं मर जाउन्गि….बहुत दर्द हो रहा है” मैं बोला “अरे अभी तो आधा भी अंदर नही गया और बाहर निकालो चुपचाप खड़ी रहो मेरी रानी नही तो बाहर जाके सेठ जी को बोलता हू तेरी बीवी चुड़क्कड़ रांड़ है और सब से चुदवाती है तेरी रानी ” इसके बाद वो कुछ ना बोली. सेठानी की चूत बहुत ही टाइट थी. इसके कारण मेरा लंड एकदम जाम हो गया हो ऐसे लग रहा था.