मुझे भी सिगरेट पिला दो

Bhabhi sex stories, kamukta मैं और मेरी भाभी साथ में हीं कॉलेज पढ़ा करते थे लेकिन मुझे नहीं मालूम था कि राधिका मेरी भाभी बन जाएगी वह मेरे साथ मेरी क्लास में ही थी लेकिन जब राधिका का रिश्ता मेरे भैया के लिए आया तो मुझे राधिका के बारे में सब कुछ मालूम था। वह एक बहुत ही अच्छी लड़की है और उसकी सब लोग बड़ी तारीफ करते  थे लेकिन जब मेरे भैया के लिए राधिका का रिश्ता आया तो मैंने उन्हें कहा कि आपको राधिका जैसी लड़की नहीं मिलेगी। उसके बाद उन्होंने राधिका से शादी करने का निर्णय कर लिया आज उन दोनों की शादी को करीब 4 वर्ष हो चुके हैं और उन दोनों का जीवन बहुत अच्छा चल रहा है।

राधिका का नेचर अब भी वैसा ही है जैसा पहले था वह बहुत ही शांत स्वभाव की है और बहुत ही अच्छी है लेकिन अब रिश्ते में वह मेरी भाभी है परंतु जब भी हम दोनों को अपने कॉलेज के दिन याद करने का मौका मिलता है तो हम दोनों इस बारे में बात कर लिया करते हैं। मैं भी भैया के साथ उनकी फैक्ट्री में काम संभालने लगा हूं भैया और मैं साथ में ही काम करते हैं हमारा छोटा सा परिवार है जिसमें मेरे माता पिता और मेरे बड़े भैया भाभी हैं। मैं अभी कुंवारा हूं और मैं एक अच्छी लड़की की तलाश में हूं मेरी इससे पहले एक गर्लफ्रेंड भी थी लेकिन उसके साथ मेरा रिश्ता ज्यादा समय तक नहीं चल पाया। उसे सिर्फ पैसों से प्यार था उसने कभी भी मेरे दिल को नहीं देखा मैंने उसके लिए अपनी जिंदगी के कई साल दिए लेकिन उसे कभी एहसास ही नहीं हुआ। मेरी गर्लफ्रेंड के बारे में मेरी भाभी को भी मालूम है लेकिन अब मेरा उससे कोई रिलेशन नहीं है और आप उसकी शादी भी हो चुकी है। भाभी की एक बचपन की दोस्त है जो कि उनके पड़ोस में ही रहती है लेकिन अब वह विदेश में रहती है और वहीं से पढ़ाई कर रही थी उसके बाद उसने वहीं जॉब करने की सोची, वह कुछ दिनों के लिए मुंबई आना चाहती थी। उसका परिवार भी अब विदेश में ही रहता है लेकिन वह कुछ समय के लिए मुंबई घूमने के लिए आने वाली थी तो भाभी ने मुझे उसकी सारी जिम्मेदारी दी और कहा तुम्हें मेरी फ्रेंड का ध्यान रखना है और उसे किसी भी चीज की कोई कमी नहीं होनी चाहिए।

मैंने भाभी से पूछा लेकिन आपकी फ्रेंड का नाम क्या है तो भाभी ने मुझे बताया उसका नाम पायल है और वह लोग हमारे पड़ोस में रहा करते थे लेकिन जब उसके पिताजी की नौकरी इंग्लैंड में लगी तो वह लोग वहीं चले गए उसके बाद उसने वहीं से अपनी पढ़ाई पूरी की और अब उनका पूरा परिवार इंग्लैंड में ही रहता है। भाभी चाहती थी कि उनकी सहेली पायल को किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत या तकलीफ का सामना ना करना पड़े मैंने भाभी के मुंह से कई बार पायल की तारीफ सुनी थी। भाभी उसके बारे में कई बार बात किया करती थी उनकी बचपन की दोस्ती है और अब तक भी उनकी दोस्ती कायम है। कुछ ही समय बाद पायल मुंबई आ गई मैं उसे लेने के लिए एयरपोर्ट पर गया भाभी ने उसे सब कुछ बता दिया था और कहा था कि तुम्हें एयरपोर्ट पर लेने के लिए आकाश आएगा। वह मेरे बारे में पहले से ही जानती थी उसने मुझे देखते ही पहचान लिया और कहा हेलो आकाश कैसे हो? मैंने पायल से कहा मैं ठीक हूं आप सुनाइए आप का सफर कैसा रहा तो वह कहने लगी मेरा सफर तो बड़ा ही मजेदार रहा मैंने राधिका के मुंह से तुम्हारी बड़ी तारीफ सुनी है और वह तुम्हारी काफी बात करती है। मैंने पायल से कहा राधिका भाभी तो आपके बारे में भी कहती रहती हैं और हमेशा ही आपकी बात करती हैं पायल को मैंने कार में बैठाया। उस दिन गर्मी काफी ज्यादा हो रही थी पायल कहने लगी यहां तो बहुत ज्यादा गर्मी हो रही है मैंने पायल से कहा आजकल यहां का मौसम कुछ ज्यादा ही खराब है। मैंने उसे कार में बैठाया और कार की एसी ऑन की मैं पायल को घर लेकर आ गया मैं जैसे ही पायल को घर लेकर पहुंचा तो वह भाभी से मिलकर बहुत खुश हुई भाभी ने पायल को गले लगा लिया। मेरे माता-पिता राधिका भाभी को बहुत अच्छा मानते हैं और जब राधिका भाभी ने पायल को मेरे मम्मी पापा से मिलाया तो वह लोग कहने लगे पायल तो बहुत ही सुंदर है।

मेरी मम्मी पायल से बात करने लगी और उसके पापा मम्मी के हाल-चाल पूछने लगी करीब आधे घंटे तक वह मेरी मम्मी के साथ बैठे रहे उसके बाद भाभी और पायल अपने रूम में चले गए। मैंने भाभी से कहा भाभी मैं भी चलता हूं मुझे फैक्ट्री जाना है उसके बाद मैं शाम को जल्दी लौट आऊंगा भाभी ने कहा ठीक है तुम शाम को जल्दी घर आ जाना। मैंने भाभी से कहा हां ठीक है भाभी मैं शाम को जल्दी ही घर आ जाऊंगा आप मुझे एक बार फोन कर दीजिएगा यदि मैं किसी कारणवश आने में लेट हो गया तो आप मुझे फोन कर के याद दिला दीजिएगा। मैंने जब भाभी से यह बात कही तो भाभी कहने लगी ठीक है मैं तुम्हें याद दिला दूंगी। मैं वहां से अपनी फैक्ट्री चला गया मैं जब फैक्ट्री में गया तो वहां कुछ काम नहीं था लेकिन मुझे भैया के साथ तो रहना ही था। भैया ने मुझसे पूछा क्या पायल आ गई है मैंने भैया से कहा जी भैया मैंने उसे घर छोड़ दिया था फिर मैंने सोचा कि मैं आपके साथ फैक्ट्री आ जाता हूं। भैया मुझे कहने लगे लेकिन तुम्हें फैक्ट्री आने की जरूरत क्या थी तुम घर पर ही रहते वैसे भी आज ज्यादा कुछ काम नहीं है मैं खुद ही सोच रहा था कि मैं जल्दी घर चले जाऊं।

मैंने भैया से कहा तो फिर ठीक है हम दोनों ही साथ में चले जाएंगे मैंने भाभी से कहा था कि वैसे मैं जल्दी घर आ जाऊंगा भैया ने कहा ठीक है हम लोग जल्दी घर चले जाएंगे और हम लोग वहां से शाम के वक्त जल्दी घर लौट गए। पायल ने जब भैया को देखा तो वह कहने लगी अरे जीजा जी आप तो बहुत दुबले पतले हो गए हैं भैया कहने लगे नहीं तो ऐसा बिल्कुल भी नहीं है लेकिन वह जानबूझकर भैया को परेशान कर रही थी भैया बहुत ही सीधे-साधे हैं वह किसी के साथ ज्यादा मजाक नहीं करते और अपने काम से ही काम रखते हैं। मैंने भाभी से कहा भाभी कहिए आज का क्या प्रोग्राम है भाभी कहने लगी कि आज सब लोग बाहर डिनर पर चलते हैं भैया ने कहा ठीक है तो फिर हम लोग तैयार हो जाते हैं तुम लोग भी तैयार हो जाओ। मैं भी अपने रूम में तैयार होने के लिए चला गया मैं तो बहुत जल्दी तैयार होकर आ चुका था लेकिन अभी तक भाभी और पायल तैयार नहीं हुए थे भैया ने भाभी से कहा तुम लोग क्यों जल्दी से तैयार नहीं हो जाते फिर ट्रैफिक भी बहुत ज्यादा हो जाएगा और हमें आने में देर हो जाएगी। मम्मी पापा भी तैयार हो चुके थे लेकिन भाभी और पायल अभी तक तैयार नहीं हुए थे जब वह लोग तैयार हुए तो हम लोग जल्दी से घर से निकल पड़े और हम लोग वहां से एक रेस्टोरेंट में चले गए। भाभी ने पायल से पूछा कि क्या ऑर्डर करना है भाभी ने पायल की तरफ मेनू बढ़ाया पायल ने खाना ऑर्डर किया हम सब लोग साथ में बैठे हुए थे पायल भाभी से बात कर रही थी और मम्मी से भी बात कर रही थी मैं और भैया अपने काम को लेकर ही बात कर रहे थे। कुछ देर बाद खाना हमारी टेबल पर आ चुका था और हम लोगों ने खाना खाने के बाद वहां पर बिल पे किया और उसके बाद हम लोग घर के लिए वापस लौट आए। हमें घर पहुंचने में काफी देर हो गई थी पायल हमारे गेस्ट रूम में लेटी हुई थी लेकिन उसने दरवाजा शायद अंदर से बंद नहीं किया था। रात को मेरी नींद खुली तो मैंने सोचा मैं सिगरेट पी लेता हूं मैं वहां से बाहर हॉल में आया और चुपके से सिगरेट पीने लगा लेकिन पायल ऊठ चुकी थी।

वह मेरे पास आई और कहने लगी क्या तुम सिगरेट पीते हो मैंने उसे कहा हां कभी-कभार पी लेता हूं उसने मुझे कहा मुझे भी तुम सिगरेट पिला दो। हम दोनों हॉल में बैठ कर सिगरेट नहीं पी सकते थे इसलिए मैंने पायल से कहा हम दोनों तुम्हारे रूम में चलते हैं हम दोनों वही बैठकर सिगरेट पीने लगे। मैं पायल से बात करने लगा पायल से बात कर के मुझे लगा वह बड़े खुले विचारों की है और उसके लिए सेक्स जैसी कोई चीज मायने रखती ही नहीं है। जब मैंने उसकी गोरी जांघ पर अपने हाथ को रखा तो वह मचलने लगी और कहने लगी लगता है तुम मेरे साथ सेक्स करना है। मैंने पायल से कहा हां तुम्हें देखकर अब रहा नहीं जा रहा। पायल ने दरवाजे को बंद किया और मेरे पास आई। वह मेरे पास आकर मेरे लंड को मुंह में लेने लगी मुझे बहुत अच्छा महसूस हो रहा था। हम एक दूसरे के साथ ऐसा ही करते रहे लेकिन जैसे ही मैंने पायल की योनि के अंदर अपने लंड को डाला तो उसकी चिख निकल पडी।

मैं उसे तेज गति से धक्के देने लगा मेरे धक्के इतने तेज होते की वह खुश हो जाती और मुझे कहती मुझे मजा आ रहा है। वह अपने दोनों पैरों को चौड़ा करती और मुझे अपनी तरफ आकर्षित करती उसकी मादक आवाज सुनकर मैं उसे और भी तेजी से धक्के देता जिससे मेरा वीर्य पतन हो गया। मैं उसके बगल में ही बैठ गया लेकिन उसकी इच्छा नहीं भरी थी और वह मेरी गोद में आकर बैठ गई। मेरा लंड दोबारा से खड़ा हो गया मैंने जब उसकी चूत पर अपने लंड को लगाया तो उसने मेरे लंड को पकड़ते हुए अपनी गांड पर लगा दिया। मैंने भी धक्का मारते हुए उसकी गांड मे लंड को प्रवेश करवाया लेकिन मैं ज्यादा समय तक उसकी गांड के मजे ना ले सका। मुझे उस रात पायल के साथ सेक्स करने में बड़ा मजा आया उसके बाद तो हम दोनों ने करीब 10 बार एक दूसरे के साथ सेक्स किया, पायल अब जा चुकी है लेकिन मैं जब भी पायल के बारे में अपने दिमाग में सोचता हूं तो मेरा लंड एकदम से खड़ा हो जाता है। उसके साथ सेक्स करना मेरे लिए एक अलग ही फीलिंग थी और उसके जैसी लड़की शायद मुझे मिली नहीं पाएगी मुझे बड़ा मजा आया जब मैंने पहली बार उसके साथ संभोग किया था।