मेरी चूत आज भी कमाल है

Antarvasna, hindi sex stories: मैं घर पर अकेले काफी बोर हो जाया करती थी तो मैंने अपने पति से कई बार कहा कि मैं कहीं नौकरी करना चाहती हूं लेकिन उन्होंने मुझे घर की चारदीवारी में कैद करके रखा हुआ था और मैं घर पर ही रहती थी मुझे कुछ समझ नहीं आ रहा था। शादी के बाद मैं काफी अकेला महसूस कर रही थी हम दोनों शादी के बाद एक दूसरे से शायद खुश नहीं थे क्योंकि मुझे कई बार लगता कि मेरी शादी मेरे परिवार वालों ने मेरी मर्जी के खिलाफ की। मैं रोहित के साथ शादी करना चाहती थी रोहित हमारे पड़ोस में ही रहा करता था लेकिन रोहित बिल्कुल भी ठीक नहीं था और वह मेरे परिवार वालों को भी पसंद नहीं था जिस वजह से उन्होंने मेरी शादी रोहित से नही करवाई। उसके बाद उन्होंने मेरी शादी राजेश के साथ करवा दी, राजेश के साथ मेरी शादी हो जाने के बाद मुझे लगा कि शायद सब कुछ ठीक हो जाएगा लेकिन कुछ भी ठीक नहीं हुआ। मैं और राजेश एक दूसरे से काफी अलग थे ना तो हम दोनों के खयालात मिलते थे और ना ही राजेश मुझे समय दे पाते थे। शादी से पहले मैं जॉब करती थी लेकिन शादी हो जाने के बाद मैं अपनी जॉब छोड़ चुकी थी और मैं काफी ज्यादा परेशान भी रहने लगी थी।

मुझे काफी ज्यादा अकेला महसूस होता और कई बार मुझे लगता कि मैं बहुत ज्यादा अकेली हूं मैं और राजेश एक दूसरे के साथ बिल्कुल भी खुश नहीं थे। एक दिन राजेश अपने ऑफिस से लौटे तो उस दिन उनका मूड अच्छा था मैंने राजेश को कहा कि राजेश मैं सोच रही हूं कि कुछ दिनों के लिए मैं अपने मायके चली जाऊं। राजेश ने मुझे कहा कि ठीक है अगर तुम चाहती हो तुम अपने मायके चली जाओ तो मुझे इसमें कोई एतराज नहीं है। उसके बाद मैं अपने मायके चली गई जब मैं अपने मायके गई तो पापा मम्मी काफी ज्यादा खुश थे और वह लोग कहने लगे कि बेटा तुम काफी समय बाद घर आ रहा रही हो हम लोग बहुत ज्यादा खुश हैं। वह लोग बहुत खुश थे क्योंकि मैं अपने घर काफी समय बाद गई थी मेरी छोटी बहन के लिए भी मेरे पापा मम्मी लड़का देखना शुरू कर चुके थे।

मैंने अपने मम्मी पापा से कहा कि क्या सरिता अभी शादी के लिए तैयार है तो पापा और मम्मी ने कहा कि हां सरिता शादी करने के लिए तैयार है। मुझे नहीं मालूम था कि सरिता शादी करना चाहती है मैंने जब इस बारे में सरिता से पूछा तो सरिता ने मुझे बताया कि दीदी हां अब मुझे भी लगने लगा है कि मुझे शादी कर लेनी चाहिए और पापा मम्मी भी चाहते हैं कि मैं शादी कर लूं। मैंने सरिता से कहा कि लेकिन तुमने क्या उस लड़के से बात भी की या फिर तुम इससे पहले उसे मिली हो तो सरिता ने मुझे बताया कि नहीं। पापा और मम्मी ने अपने ही दोस्त के बेटे से सरिता की शादी करवाने का फैसला कर लिया था और जब सरिता और वह लड़का एक दूसरे को मिले तो मुझे भी काफी अच्छा लगा। मैं भी उस लड़के से मिली और मैंने सरिता से कहा कि लड़का तो काफी अच्छा है तुम्हें उससे शादी कर लेनी चाहिए। उन दोनों की सगाई के लिए सब तैयार हो चुके थे और जल्द ही उन दोनों की सगाई होने वाली थी। जब सरिता की सगाई हुई तो मुझे काफी अच्छा लगा मेरे पति भी सगाई में आए हुए थे और जल्द ही सरिता की शादी भी हो गई। सरिता की शादी हो जाने के बाद वह काफी ज्यादा खुश थी मुझे भी कई बार लगता कि क्या मेरे पति भी मुझे वह खुशी दे पा रहे हैं या नहीं लेकिन वह तो अपने काम में इतना ज्यादा बिजी रहते कि मेरे लिए उनके पास बिल्कुल भी वक्त नहीं होता था मैं इस बात से बहुत ज्यादा परेशान हो चुकी थी। आखिरकार एक दिन मैंने अपने पति से कह ही दिया कि मुझे अब  जॉब करनी है तो वह भी मेरी बात मान गए और कहने लगे कि ठीक है तुम जॉब कर लो। वह मेरी बात मान चुके थे और मैंने भी उसके बाद इंटरव्यू देना शुरू कर दिया, मैं जॉब के लिए ट्राई कर रही थी लेकिन अभी मेरी जॉब कहीं लग नहीं पाई थी लेकिन जल्द ही मेरी जॉब मेरे घर के पास ही एक नजदीकी स्कूल में लग गई। वहां पर मेरी जॉब लग चुकी थी और मैं काफी खुश थी कि अब मैं बच्चों को पढ़ाने के लिए जाऊंगी और इस बहाने मुझे अपनी जिंदगी जीने का भी मौका मिलने लगा था। मैं जॉब करने लगी थी और काफी ज्यादा खुश भी थी मेरी जिंदगी में अब सब कुछ ठीक चल रहा था और राजेश को भी अब लगने लगा था कि उन्हें मुझे समय देना चाहिए इसलिए वह भी मुझे अब समझने की कोशिश करने लगे थे।

राजेश और मैं एक दूसरे के साथ अब ज्यादा से ज्यादा समय बिताने लगे थे और एक दूसरे के साथ हम लोग काफी खुश भी थे। मैं राजेश के साथ काफी ज्यादा खुश थी और मुझे बहुत ही अच्छा लगता है जब भी राजेश और मैं एक दूसरे के साथ होते क्योंकि अब राजेश को भी मेरी अहमियत पता चलने लगी थी और वह मुझे अब समय देने लगे थे। काफी समय बाद राजेश ने मुझे कहा कि हम लोग कहीं घूमने के लिए चलते हैं, हम दोनों की शादी को एक साल से ऊपर हो चुका था और यह पहली बार था जब राजेश ने मुझसे घूमने की बात कही थी और हम लोग घूमने के लिए शिमला गए। मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था मैं चाहती ही थी कि मैं राजेश के साथ शिमला जाऊं राजेश और मैं शिमला जाकर बहुत खुश थे। हम दोनों शिमला मे एक दूसरे के साथ काफी अच्छा समय बिता रहे थे। हम दोनों को ही अच्छा लग रहा था राजेश और मै शिमला की वादियों का मजा लेना चाहते थे। उस रात राजेश बड़े रोमांटिक मूड में थे ऐसे रोमांटिक मूड में मैंने कभी भी राजेश को पहले नहीं देखा था।

उस दिन राजेश ने मुझे अपनी बाहों में भर लिया। जब राजेश ने मुझे अपनी गोद में बैठने के लिए कहा तो मै राजेश की गोद में बैठी हुई थी। राजेश मेरे बदन को सहला रहे थे जब उन्होंने मेरी नाइटी को उठाते हुए मेरी जांघों को सहलाना शुरू किया तो मुझे अच्छा लगने लगा और मेरे अंदर गर्मी बढने लगी थी। मुझे ऐसा लग रहा था जैसे मैं अपने आपको रोक नहीं पाऊंगी। मैं पूरी तरीके से गर्म हो गई थी मैंने राजेश को कहा मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है राजेश ने मेरे होठों को चूम लिया और मुझे बिस्तर पर लेटा दिया। राजेश ने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया था। राजेश ने मुझे जब बिस्तर पर लेटाया तो मेरे अंदर की गर्मी बढ़ने लगी थी। मेरे अंदर की उत्तेजना इतनी ज्यादा बढ़ने लगी थी कि मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी। मैंने राजेश को कहा मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा है अब मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जाएगा। राजेश ने मेरी नाइटी को उतारते हुए मेरी ब्रा को खोल दिया और मेरे स्तनों को अपने हाथ से सहलाना शुरू किया। जब राजेश ने मेरे स्तनों को दबाना शुरू किया तो मुझे अच्छा लगने लगा। मुझे बहुत ज्यादा मजा आने लगा था मैंने राजेश को कहा मैं तुम्हारे लंड को अपने मुंह में लेना चाहती हूं। राजेश ने मेरे मुंह के सामने अपने लंड को किया मैंने जब राजेश के लंड को अपने मुंह में लेकर उसे चूसना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा। मैं राजेश से कहने लगी मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। मैंने राजेश के लंड को बहुत देर तक चूसा राजेश की गर्मी को पूरी तरीके से बढ़ा दिया था। राजेश बहुत ज्यादा गरम हो चुके थे राजेश ने मुझे कहा मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा है। मैंने राजेश को कहा मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आने लगा है अब मुझसे बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा है मेरे अंदर की गर्मी पूरी तरीके से बढ़ने लगी है। मैं बहुत ज्यादा खुश थी जब राजेश ने मेरी चूत का रसपान करना शुरू कर दिया था। राजेश ने मेरी चूत को चाटना शुरू किया तो मुझे मजा आने लगा और मेरे अंदर की गर्मी बढ़ने लगी थी। मैंने राजेश को कहा मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रही हूं। राजेश ने मुझसे कहा अब तुम्हारी चूत से खून ज्यादा ही निकलने लगा है यह कहकर राजेश ने मुझे चोदना शुरु कर दिया।

राजेश का मोटा लंड मेरी चूत के अंदर तक जा चुका था। मैं अपने पैरों को खोल रही थी ताकि राजेश का लंड अंदर बाहर हो सके। मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा था जब मैं राजेश के साथ सेक्स का मजा ले रही थी राजेश भी बहुत ज्यादा खुश हो गए थे। वह मुझे कहने लगे मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा है मुझे बहुत ज्यादा अच्छा लग रहा है। राजेश ने मुझे जमकर चोदा। जब राजेश मेरी चूत की गर्मी को झेल नहीं पाए तो राजेश ने मेरी चूत के अंदर ही अपने माल को गिराकर मेरी चूय को अपने माल से पूरी तरीके से भर दिया था। राजेश ने जब अपने लंड को बाहर निकाला तो राजेश का माल मेरी चूत से बाहर की तरफ को निकल रहा था। मैंने राजेश को कहा आज तो तुमने मुझे बड़े ही अच्छे से चोदा। राजेश मुझे कहने लगे आज तुम्हें चोदकर मुझे मजा आ गया। मैंने राजेश को कहा मजा तो मुझे भी बहुत आ गया है।

अब राजेश और मै बिल्कुल भी एक दूसरे के बिना रह नहीं पा रहे थे। मैंने राजेश को कहा तुम दोबारा से मुझे चोदो। राजेश ने मेरी चूतडो अपनी तरफ किया और मेरी चूत को चाटना शुरू किया। मेरी चूत को चाटकर राजेश ने मुझे पूरी तरीके से गर्म कर दिया। जब राजेश का लंड मेरी चूत के अंदर घुसा तो मुझे अच्छा लगने लगा। राजेश का लंड मेरी चूत के अंदर बाहर हो रहा था मेरी गर्मी पूरी तरीके से बढ़ती जा रही थी। मैंने राजेश को कहा मुझे बहुत ज्यादा मजा आ रहा है राजेश मुझे कहने लगे मुझे भी बहुत ज्यादा मजा आ रहा है। ऐसा लग रहा है जैसे कि तुम्हें बस चोदता ही जाऊंगा राजेश ने मुझे बहुत देर तक चोदा। जब मेरी गर्मी पूरी तरीके से शांत हो गई तो राजेश ने कहा अब जाकर मुझे मजा आ गया। राजेश बहुत ज्यादा खुश हो गए थे।