मेरी छोटी बहन ऋतु-1

incest sex kahani, kamukta हेलो दोस्तों, कैसे हैं ? आशा है की ठीक ही होंगे। दोस्तों, मेरा नाम दीपक है और मैं पंजाब में रहता हूँ। मेरे घर में मम्मी , पापा और मेरी छोटी बहन जिसका नाम ऋतू है, रहते हैं। मेरी उम्र २३ साल है और ऋतू की 19 साल। अपनी बहन के बारे पिछले १ महीने से पहले मेरे मन में कभी भी कुछ गलत ख्याल नहीं आया था। खैर, जिस दिन आया उस दिन की बात बता रहा हूँ।
हुआ ये की मेरे मम्मी पापा को एक रिश्तेदार की शादी में बंगलौर जाना था। उन्हें वापस आने में लगभग १५ दिन का टाइम लग जाता। वो लोग चले गए। अब घर पर मैं और मेरी बहन ऋतू थे। ऋतू ने खाना बनाया और हम दोनों खाकर अपने अपने कमरे में लेट गए जाकर। मैं अपने मोबाइल में पोर्न देखने लगा क्यूंकि मेरा मुठ मारने का बहुत मन था। लगभग आधे घंटे बाद मुझे महसुसु हुआ की कोई मेरे साथ और देख रहा था। मैंने ध्यान दिया तो वो ऋतू थी। मैं चौक गया। मैंने तुरंत मोबाइल बंद किया और उससे बोलै – अरे तुम कब आयी ? वो बोली – भैया, मुझे डर लग रहा था इसीलिए बस अभी आयी। मुझे पता था की वो देर से खड़ी थी। खैर, मैंने बोलै -ठीक है, साथ में लेट जाओ। वो लेट गयी। मैंने पूछा – तुमने कुछ देखा तो नहीं ? वो बोली- क्या ? मैंने कहा -अरे मैं फ़ोन में कुछ देख रहा था। वो बोली – नहीं, मेरे आने पर तो आपने फ़ोन बंद कर लिया था। खैर, हम दोनों सो गए।

पोर्न देखने की वजह से मेरा लैंड खड़ा था और बिना मुठ मारे वो बैठेगा नहीं ये मुझे पता था। जब मुझे लगा की ऋतू सो गयी है तो मैंने मोबाइल निकाला, ईरफ़ोन लगाए और फिर से पोर्न देखने लगा और पेंट के अंदर लैंड सहलाने लगा। अचानक से ऋतू बोली – भैया, कुछ हिल रहा था। मैं डर गया, मैंने झट से मोबाइल बंद किया और पूछा कहाँ ? वो बोली -आपकी कमर के पास। असल में मैं लैंड हिला रहा था और वो उसी को बोल रही थी। मुझे भी पता है इतनी अनजान वो है नहीं जितनी बन रही है। मैंने बोलै – कुछ नहीं, सो जाओ। वो बोली – अरे भैया दिखाओ न क्या हिल रहा था। मैंने कहा – अरे वो तेरे मतलब की चीज नहीं है। वो बोली – मेरे ही मतलब की चीज है और आपके मतलब की चीज मेरे पास है। मैं चौंक गया। वो फिर बोली – मैंने सब देख लिए है और मैं मम्मी-पापा को बता दूंगी। मैं उससे रिक्वेस्ट करने लगा की नहीं, प्लीज् नहीं बताना। वो बोली – चलो फिर, जल्द से दिखाओ। मैं शर्मा गया और आँखें बंद कर के मैंने चादर हटा दी। ऋतू मेरे खड़े लैंड को देखने लगी। वो बोली – अरे भैया, शर्माओ मत, घर की बात घर में रहेगी और मजे भी पुरे होंगे।

मैं समझ गया की मेरी बहन मुझसे कई कदम आगे है। मुझे अभी भी समझ में नहीं आ रहा था की मैं क्या करूँ। मैंने खुद को काबू में किया लेकिन तब तक ऋतू मेरे लंड को सहलाना शुरू कर चुकी थी। अब जब खड़े लैंड पर ऐसे नरम हाथ हों तो किसी का भी मन डोल जाएगा। मैंने अब कहा – अब तू रुक। इतना कह कर मैं उसके ऊपर आ गया और उसको किश करने लगा। वो भी मेरा पूरा साथ देने लगी।
अब मैंने उसके सलवार को उतार दिया और ब्रा को भी। उसके परकी टाइप के दूध हैं। अब मै उसे हाँथ से दबाते हुए उसके निप्पलस को अपनी ऊँगली से मसलने लगा और वो आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारियां लेने लगी।

मैंने ऋतू के दूध को अपने मुंह में भर लिया और जोर जोर से मसलते हुए चूसने लगा। वो भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहा आआअ आहा आआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए मेरे लंड को सहलाने लगी ऊपर से ही। | उसके बाद मैंने उसके पूरे कपडे उतार दिए और उसे लेटा दिया।

अब मैं उसकी टाँगे चौड़ी कर के उसकी चूत चाटने लगा। और उसके मुंह इ आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ की सिस्कारियां निकलने लगी | अब मैंने भी अपने सारे कपडे उतार दिया और पूरा नंगा हो गया | उसके बाद उसने मेरे लंड को चाटना चालू कर दिया और अच्छे से मेरे लंड को चाटने लगी तो मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करते हुए सिस्कारियां लेने लगा | फिर उसने मेरे लंड को अपने मुंह में डाल ली और चूसने लगी | मैं भी आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा ऊउम्म्ह ऊउन्न्ह आअहाआअ करने लगा। मुझे उसके लंड चूसने के तरीके से इतना मजा आ रहा था की मैं बस दस मिनट में झड़ गया। वो मेरे लैंड का सारा माल पि गयी। दोस्तों, उस के बाद क्या हुआ ये मैं आप लोगों को कहानी के अगले भाग में बताता हूँ।