मेरा लंड पायल की चूत में

Antarvasna, hindi sex story: रविवार का दिन था और मैं उस दिन घर पर ही था क्योंकि मैं घर पर बोर हो रहा था तो सोचा कि अपने दोस्त के पास चला जाता हूं। मेरा दोस्त सोहन जो कि हमारे पड़ोस में ही रहता है मैं उससे मिलने के लिए चला गया। जब मैं सोहन को मिलने के लिए गया तो सोहन घर पर ही था और हम दोनों एक दूसरे से बातें कर रहे थे तभी सोहन की मां मेरे लिए चाय बना कर ले आई। सोहन और मैं एक दूसरे से बात कर रहे थे तो सोहन ने मुझे बताया कि उसकी बहन की सगाई तय हो चुकी है और जल्द ही उसकी सगाई होने वाली है। मैंने सोहन को इस बात के लिए बधाई दी और कहा कि चलो यह तो बहुत ही अच्छी बात है। उस दिन सोहन के साथ मैं शाम तक बैठा रहा और उसके बाद मैं अपने घर लौट आया था। जब मैं अपने घर लौटा तो मां ने मुझे कहा कि बेटा तुम खाना खा लो मैंने मां से कहा कि हां मैं खाना खा लेता हूं। मैंने खाना खा लिया था क्योंकि पापा उस दिन कहीं बाहर गए हुए थे इसलिए वह देरी से आने वाले थे।

मां ने खाना नहीं खाया था वह पापा का इंतजार कर रही थी। मैं खाना खा कर अपने रूम में लेटा हुआ था पापा देर से घर पर आए और उसके बाद पापा और मम्मी ने साथ में खाना खाया। खाना खाकर सब लोग सो चुके थे मुझे भी नींद आ गई थी और अगले दिन जब मैं उठा तो मुझे सुबह ऑफिस के लिए निकलना था मैं जल्दी से तैयार होकर अपने ऑफिस के लिए निकल गया था। जब मैं अपने ऑफिस पहुंचा तो उस दिन ऑफिस में काफी ज्यादा काम था इसलिए मुझे बिल्कुल भी समय नहीं मिल पाया और पता नहीं कब शाम हो गई और फिर मैं अपना काम खत्म करके घर वापस लौट आया। जब मैं अपना काम खत्म कर के घर वापस लौटा तो उस दिन मुझे लेट हो गई थी और मैं उस दिन काफी ज्यादा थका हुआ भी था इसलिए मैंने जल्दी से खाना खा लिया था।

जिंदगी में कुछ भी नया नहीं हो रहा था मैं सुबह के वक्त ऑफिस जाता और शाम के वक्त घर लौट आता। मेरी लाइफ में कुछ नया नहीं हो रहा था लेकिन जब मेरी मुलाकात पायल से हुई तो मेरी जिंदगी भी बदलने लगी थी। पायल हमारे पड़ोस में रहने के लिए आई थी और वह मुझसे काफी बातें किया करती थी। हम दोनों एक दूसरे के बहुत नजदीक आने लगे थे और हम दोनों को बहुत ही अच्छा लग रहा था जब हम दोनों एक दूसरे के साथ में होते और एक दूसरे के साथ हम लोग समय बिताया करते हैं। मैं बहुत ही ज्यादा खुश था जिस तरीके से मैं पायल के साथ में समय बिताता था और पायल मेरे साथ में समय बिताया करती। पायल और मेरे बीच में प्यार हो गया था और यह बात मेरे परिवार वालों को पता चल चुकी थी। पायल अपने घर से दूर दिल्ली में रहती है लेकिन उसका मेरे घर पर भी आना जाना था पायल जब भी घर पर आती तो सब लोगों के साथ अच्छे से बात किया करती। पायल हमारे परिवार का हिस्सा बन चुकी थी मैं चाहता था कि मैं अपनी फैमिली में पायल को लेकर बात करूं।

मैंने एक बार मम्मी से इस बारे में बात की तो उन लोगों को पायल पसंद थी और उन्हें कोई भी ऐतराज नहीं था वह लोग मेरी शादी पायल से करवाने के लिए मान चुके थे। पायल के परिवार वालों से मैं मिलना चाहता था और जब उन लोगों से पहली बार मेरी मुलाकात हुई तो मुझे काफी अच्छा लगा और उन लोगों को भी बहुत अच्छा लगा था और सब लोग इस बात के लिए तैयार हो चुके थे। हम दोनों को मिले हुए कुछ ही महीने हुए थे उसके बाद हम दोनों सगाई के बंधन में बंध चुके थे। मैं इस बात से बड़ा खुश था कि हम दोनों की सगाई हो चुकी है और हम दोनों साथ में ज्यादा से ज्यादा समय बिताने की कोशिश किया करते। मुझे बहुत ही अच्छा लगता था जब भी मैं पायल के साथ होता हूँ और पायल मेरे साथ होती है। एक दिन मैं और पायल साथ में बैठे हुए थे और हम दोनों बातें कर रहे थे जब मैं पायल से बातें कर रहा था तो मुझे बहुत ही अच्छा लगा था और पायल को भी बड़ा अच्छा लग रहा था जिस तरीके से वह मेरे साथ बातें कर रही थी। हम दोनों ने उस दिन साथ में काफी अच्छा टाइम स्पेंड किया और उसके बाद मैं और पायल घर लौट आए थे।

जब हम लोग घर लौटे तो पायल ने मुझसे कहा कि राजेश मुझे तुमसे कुछ बात करनी थी। मैंने पायल को कहा हां पायल कहो ना क्या बात करनी थी तो पायल ने मुझे अपने साथ चलने के लिए कहा और उस दिन पायल और मैं साथ में कुछ देर बैठे रहे। पायल ने मुझे बताया कि हम लोगों को अब जल्द से जल्द शादी कर लेनी चाहिए। मैंने पायल को कहा कि हां पायल मुझे मालूम है कि हम लोगों को जल्द शादी कर लेनी चाहिए लेकिन मुझे सिर्फ एक महीने का समय दो उसके बाद हम लोग शादी कर लेंगे। पायल जल्द ही मुझसे शादी करना चाहती थी और मैं भी इस बात के लिए तैयार था। मैंने भी उसी दिन पापा से बात की तो वह लोग कहने लगे की अगर तुम दोनों चाहते हो कि तुम्हारी शादी हो जाए तो हमें भला इसमें क्या एतराज होगा। हम दोनों की शादी अब जल्द से जल्द होने जा रही थी इसके लिए मैंने पापा मम्मी से बात की थी और वह लोग भी मान गए थे। मेरी शादी पायल से होने वाली थी और जब मेरी शादी पायल से हो गई तो मैं बहुत ही खुश था। मेरी और पायल की शादी हो जाने के बाद हम दोनों ही एक दूसरे के साथ बहुत ही खुश थे और मैं इस बात से बड़ा खुश था कि पायल मेरी पत्नी बन चुकी है। पायल मेरी पत्नी बन चुकी थी। मैं बहुत ही ज्यादा खुश था उस रात हम दोनों की सुहागरात की पहली रात थी।

हम दोनों एक दूसरे के साथ में लेटे हुए थे। मैं पायल के बदन को महसूस कर रहा था वह भी बहुत ज्यादा खुश हो रही थी वह मेरी गर्मी को बढ़ती जा रही थी। वह इतनी ज्यादा गर्म हो गई थी वह बिल्कुल भी रह नहीं पा रही थी। उस से बिल्कुल भी रहा नहीं जा रहा था। पायल और मेरी गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ने लगी थी अब वह समय भी नजदीक आ चुका था जब हम दोनों पूरी तरीके से गर्म हो चुके थे। पायल से जब मैने अपने लंड को अपने हाथ में लेने के लिए कहा तो पायल ने उसे अपने हाथों में ले लिया वह मेरे लंड को हिला रही थी मुझे बहुत ही ज्यादा अच्छा लग रहा था और पायल को भी बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था। पायल और मेरी गर्मी बढती ही जा रही थी। हम दोनों बहुत ही ज्यादा गरम हो गए थे मेरी गर्मी इस कदर बढ़ चुकी थी मैं बिल्कुल भी रह नहीं पा रहा था ना तो पायल अपने आपको रोक पा रही थी और ना ही मैं अपने आपको रोक पा रहा था। यही वजह थी मैंने और पायल ने एक दूसरे के साथ सेक्स का जमकर मजा लेने का फैसला कर लिया था। जब मैंने अपने लंड को पायल के मुंह के सामने किया तो उसे पायल ने अपने मुंह में ले लिया वह उसे सकिंग करने लगी थी।

जब वह मेरे लंड को चूसने लगी तो उसको मजा आने लगा था और मुझे भी बहुत ही ज्यादा मजा आ रहा था जिस तरीके से मै और पायल एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा रहे थे। हम दोनों ने एक दूसरे को बहुत ज्यादा गरम कर दिया था। मैं अपने आपको बिल्कुल भी रोक नहीं पा रहा था और ना ही पायल अपने आपको रोक पा रही थी। मैंने उस से कहा गर्मी तो मेरी भी बहुत ही बढ चुकी है। पायल मुझे कहने लगी मुझे बहुत अच्छा लग रहा है। हम दोनों की गर्मी बहुत ही ज्यादा बढ़ने लगी थी। मैंने जैसे ही अपनी उंगली का स्पर्श पायल की चूत पर किया तो मुझे बहुत ही ज्यादा मजा आने लगा था और पायल को भी काफी ज्यादा मजा आ रहा था जिस तरीके से हम दोनों ने एक दूसरे की गर्मी को बढा दिया था। हम दोनों की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ती ही जा रही थी। मैंने जब अपने लंड को पायल की चूत पर लगाया तो पायल की चूत से गर्म पानी निकाल रहा था उसकी योनि से निकलता हुआ गर्म पानी मेरे अंदर की गर्मी को और भी बढा रहा था। पायल की गर्मी बहुत ज्यादा बढ रही थी वह मुझे कहने लगी मुझे इस कदर ना तडपाओ। मैंने पायल से कहा मैं तुम्हारी चूत में अपने लंड को घुसाना चाहता हूं। मैंने एक जोरदार झटके के साथ अपने लंड को पायल की चूत मे प्रवेश करवा दिया था।

जैसे ही मेरा लंड पायल की चूत में प्रवेश हुआ मुझे मजा आने लगा था। वह मुझे कहने लगी मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा है पायल को बहुत ही अच्छा लगने लगा था और मुझे भी बड़ा अच्छा लग रहा था जिस तरीके से हम दोनों एक दूसरे की गर्मी को बढ़ा रहे थे। हम दोनो ने एक दूसरे की गर्मी को बहुत ज्यादा बढ़ा कर रख दिया था। हम दोनों पूरी तरीके से गर्म हो गए थे मेरा लंड पायल की चूत के अंदर बाहर हो रहा था जिस से पायल की गर्मी बढ़ती ही जा रही थी और मेरी गर्मी भी बहुत ज्यादा बढने लगी थी। हम दोनो एक दूसरे का साथ दे रहे थे। उसने अपने पैरो को  चौडा कर लिया था जिससे कि पायल की चूत के अंदर मेरा लंड आसानी से जा रहा था और मुझे बहुत ही अच्छा लग रहा था जब मैं और पायल एक दूसरे के साथ में सेक्स का मजा ले रहे थे। हम दोनों की गर्मी बहुत बढ गई थी। हम दोनों की गर्मी बहुत ज्यादा बढ़ चुकी थी मेरा माल गिरने को था मैंने पायल की चूत में अपने माल को गिराकर अपनी इच्छा को पूरा कर दिया था और मेरी इच्छा पूरी हो चुकी थी। मैं बहुत ज्यादा खुश था जिस तरीके से मैंने पायल के साथ में सेक्स संबंध बनाए थे और हमारी सुहागरात की रात को सफल बनाया था।