लंड है मेरी तलवार चोदुंगा चूत बार बार

antarvasna sex stories, desi porn kahani

हेल्लो मेरे जिगर कलेजे के टुकड़ों कैसे हो तुम सब ? मैं बिलकुल बिंदास हूँ अपना काम बनता माँ चुदाये जनता | खेर मेरा नाम बब्बू खटीक है और मैं उड़िया मोहल्ले में रहता हूँ | नाम से तो समझ गए होगे कि मैं एक गुंडे टाइप का इंसान हूँ और हूँ भी वही | जी हाँ मेरे दारु के ठेके चलते हैं और मैं एकदम मस्त पैसे छपने में लगा रहता हूँ | पर ऐसा नहीं है अगर किसी के नाम से पहचानोगे तो हमेशा धोखा खाओगे क्यूंकि मैं एक इंजिनियर हूँ और एक मस्त कंपनी में काम करता हूँ पुणे में | जी हाँ मैं ऐसा ही हूँ हसी मज़ाक करने वाला बस मेरा नाम थोडा सा गलत है इसलिए मैंने उसे चेंज करवा लिया है और अब मेरा नाम संजय वर्मा | तो दोस्तों हम सब के जीवन में कुछ ना कुछ होता है और हमेशा होता रहता क्यूंकि ये समय का चक्र हमेशा घूमता रहता है | हम सब के साथ कभी ना कभी कुछ ना कुछ घटता है और मुझे यकीन है आप के भी साथ हुआ होगा | तो दोस्तों चलिए आज मैं आपको अपनी एक घटना के बारे में बताता हूँ जो एक साल पहले मेरे साथ हुयी थी |

दोस्तों आप तो जानते हैं कि जब एक स्मार्ट लड़का बाहर निकलता है तो उसके पीछे लडकियां पड़ ही जाती हैं और ये बात एकदम सच है क्यूंकि मैंने इसे खुद महसूस किया है | जी हाँ मैं एक लम्बा चौड़ा और अच्छा लड़का हूँ और गोरा होने के साथ साथ दिखता भी अच्छा हूँ | इसलिए मैंने सोचा आप लोगो को अपनी दास्ताँ सुना दूँ | दोस्तों मैं अपने जीवन में मस्त मौला जिंदगी जी रहा था तभी मुझे एक कॉल लैटर आया और उसमे लिखा था आपको नौकरी मिल गयी है जबलपुर में | मैंने सोचा यार अभी तो पढ़ाई भी पूरी नहीं हुयी है नौकरी कैसे कर लूँ | तभी मेरे भाई ने कहा बहुत कम लोगों को ये मौका मिलता है | मैंने कहा वो कैसे ? तब उसने बताया कि आजकल नौकरी के नियम बदल गए हैं आजकल अगर पढ़ाई के साथ साथ तुमाहरे पास काम का तजुर्बा है और वो भी किसी अच्छी कंपनी का तो तुम्हे पहले पुछा जाएगा और तुमाहरा नंबर सबसे पहले आएगा | मैंने कहा यार ये तो मुझे पता ही नहीं था | तब उसने कहा देख सिर्फ 6 घंटे की नौकरी है और कॉलेज तो तू कभी जाता है और कभी नहीं जाता है |

मैंने मन में सोचा हाँ यार कम से कम अपना खर्च निकल आएगा और काम सीख जाऊँगा वो अलग | मैंने तुरंत पूरी तैयारी की और जिस दिन इंटरव्यू था उस दिन पहुँच गया | वहां मैंने देखा एक से बढ़के एक लोग आये हुए थे मतलब मेरा नंबर लगना थोडा मुश्किल लग रहा था मुझे | तभी मेरा नाम बुलाया गया और मैं जैसे ही अन्दर गया तो देखा मेरे चाचा के दोस्त इंटरव्यू ले रहे थे | उसके बाद तो मेरा मनोबल मानो आसमान में तैरने लगा था | पर मुझे नहीं पता था वो मुझसे एक पक्के प्रोफेशनल की तरह पेश आएँगे | उन्होंने मेरा बलात्कार कर दिया इंटरव्यू में पर मैंने भी अपनी इज्ज़त बचा ही ली जैसे तैसे | मैंने भी उनके सारे सवालों के जवाब दे दिए और वो भी हल्का सा मुस्कुराए और कहा ठीक है अब बाहर वेट करो | मैं बाहर आ गया और रिजल्ट का इंतज़ार करने लगा | दस लोगों को सेलेक्ट किया गया जिसमे मेरा भी नाम था | दस में से आठ लडकियां थी और मुझे मिलाके केवल दो लड़के | मैं हैरान था इस बात से क्यूंकि 12 लोगों का सिलेक्शन करने की बात लिखी थी |

पर मैंने सोचा जाने दो मुझे कौनसा यहाँ पर हमेशा के लिए टिकना है मुझे तो विदेश जाने की तमन्ना थी | मैं विदेश दो चीज़ों की वजह से जाना चाहता था एक था पैसा और दूसरी थी गोरी चूत | मुझे गोरी चूत बहुत पसंद है इसलिए मैंने सोचा विदेश से अच्छा कोई और जरिया हो ही नहीं सकता | खैर बहुत हो गयीं मन की बातें अब मैं बताता हूँ आगे क्या हुआ | अगले दिन अंकल ने मुझे बताया 12 से 10 हो गया था क्यूंकि विदेश से दो लडकियां यहाँ बुलाई गयीं थी | मेरी आंखे चमक उठी क्यूंकि आप तो जानते ही हो क्यूँ | उन्होंने बताया एक नया काम शुरू किया है जिसमे लडकियां सही रहेंगी क्यूंकि डिजाइनिंग में लडकियां अच्छी होती हैं | और मुझे सबका हेड बनाया था | और वो विदेशी माल भी मेरे नीचे ही था | जब वो दोनों आई तो मैंने सबसे पहले वाली को देखा तो वो मोटी और अधेड़ उम्र की थी तो मैंने सोचा दूसरी भी वैसी ही होगी | वो सामान उठा रही और जैसे ही वो पलटी तो मेरी साँसे थम गयीं | क्या माल था यार |

मैंने झट से जाके उसका सामान उठाया और उसने कहा नहीं पर मैं कहा सुनने वाला था | उसे लगा मैं एक कर्मचारी हूँ और वो मुझे कहने लगी देखो मुझे कल सारी फाइल्स और डिटेल्स चाहिए मुझे सर से कुछ बात करनी है | मैं भी उसके सामने हाँ हाँ करता जा रहा था | पर मुझे नहीं पता था ये थोड़ी अलग है | मैंने सोचा इसको पटा के देखता हूँ अगर अभी सेट हो गयी तो मज़ा आ जाएगा | मैंने हौले हौले उसके साथ घुलना मिलना शुरू किया और कार में ही उसके बारे में सब कुछ पता करने की कोशिश करने लगा | फिर मैंने उसके पीछे सीट पर हाथ रख दिया और वो मुझे घूरने लगी | मैंने अपने आप को बचाने के लिए कहा मुझे यही उतरना है इसलिए अपना सामान उठाने के लिए हाथ पीछे रखा है | उसने कहा ओके मुझे कुछ गलत इसलिए ऐसा किया मैंने | मैंने कहा नहीं करना भी चाहिए लोग विदेशी महिला जानकार फायदा उठाने की कोशिश करते हैं | आपने जो किया सही किया मैं आपसे बिलकुल सहमत हूँ | वो भी मुस्कुराने लगी और कहा अगर आप मेरे ही डिपार्टमेंट हो तो हम अच्छे दोस्त बन सकते हैं |

मैंने कहा होप सो और चला गया | अगले दिन सब आये और मैं सीधा अपने केबिन में गया और उन दोनों को बुलाया एक का नाम था ब्लेयर वही अधेड़ उम्र वाली और एक का नाम था निया वो मेरी वाली माल | दोनों मेरे केबिन में आई पहले मैंने ब्लेयर की बात सुनी और उससे कहा जाओ | फिर मैंने निया से कहा तो वो बस मुझे घूर रही थी जैसे उसे झटका लगा हो | मैंने कहा अरे मुझे प्रेजेंटेशन दो | तब वो हिली और उसने हड़बड़ी में सब कुछ किया और जाने लगी | मैंने उसका हाथ पकड़ा और कहा तुमने कहा था अगर हम एक ही डिपार्टमेंट में हुए तो दोस्त बन जाएंगे तो क्या अभी भी हम दोस्त हैं | वो जाने लगी तो मैंने उसे खींच के अपने गले लगा लिया और उसने कोई विरोध नहीं किया | मैंने उसकी आँखों में देखा और उसको किस कर दिया और वो भी मुझे मना नहीं कर रही थी | पर किस के बाद वो फिर से जाने लगी और स्माइल कर रही थी तो मैंने उसे फिर से पकड़ा और दरवाज़ा बंद कर दिया | मैंने उसे फिर से किस किया और इस बार उसने भी मुझे किस करना चालु कर दिया |

मैंने उसके कपडे अलग कर रहा था और वो मेरी पेंट के ऊपर से ही मेरा लंड मसल रही थी | मैंने उसे पूरा नंगा कर दिया और उसका चिकना गोरा बदन चाटने लगा | उसने भी मुझे पूरा नंगा कर दिया और मुझे कुर्सी पर बैठा दिया | वो नीचे झुकी और उसने मेरा लंड अपने मुँह में भर लिया और जोर जोर से चोसने लगी और मैं उसके दूध दबाने लगा | जब वो मेरा लंड चूस रही थी तो मेरे मुँह से आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ऊम्म्म्मम्म ऊऊओह्हह्हह आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ऊम्म्म्मम्म ऊऊओह्हह्हह कर रहा था | पर मैं हलकी आवाज़ निकाल रहा था क्यूंकि किसी को पता चल जाता तो लौड़े लग जाते | फिर मैंने उसके दूध चूसना शुरू किये जो बिलकुल मस्त थे ना ज्यादा बड़े और ना छोटे | उसके पिंक निप्पल बड़े मस्त थे और खड़े हो गए थे | वो भी आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ऊम्म्म्मम्म ऊऊओह्हह्हह करते हुए मेरा साथ दे रही थी | फिर मैं उसकी चूत को चाटने के लिए झुका | उसकी गुलाबी चूत को मैंने इतना चाटा कि वो पागल हो गयी |

फिर मैंने उसे खड़ा किया और एक पैर टेबल पर रखा और लंड को उसकी चूत में पेल दिया | वो आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ऊम्म्म्मम्म ऊऊओह्हह्हह आअह्ह्ह्ह आअह्ह्ह्ह ऊम्म्म्मम्म ऊऊओह्हह्हह करते हुए चुदवाने लगी | मैं भी उसे भर ताकत के साथ चोद रहा था और उसकी चूत से पानी निकल रहा था | फिर मैंने उसको हल्का सा झुकाया और लंड उसकी गांड में डाल दिया और वो चिल्लाने को हुयी तो मैंने उसके मुँह पे हाथ रख दिया और चोदने लगा | उसके बाद मैंने अपना पूरा माल उसकी चूत के अन्दर भर दिया | वो पूरे एक साल मुझसे चुदी फिर चली गयी |