गोल्डी की किस्मत -2

chodan मैं भी उसके साथ ही उसके कम्बल में घुस गया, दोनों काफी देर लेटे आपस में धीरे धीरे बातें करते रहे। करीब दो घंटे मैं उसके रूम में रहा। इस दौरान हम दोनों ने एक दूसरे के 50 करीब चुम्बन लिए, ज़्यादातर होंठों पर। अगर मैं उसे चूमता था, तो बदले में वो भी मुझे चूमती थी। सिर्फ एक बार उसके बोबे दबाये, वो उसने ज़्यादा दबाने नहीं दिये।

उसके बाद तो ये सिलसिला ही चल निकला, हफ्ते में एक रात तो मैं उसके घर ज़रूर जाता। जैसे जैसे ठंड बढ़ रही थी, लोग और जल्दी सो जाते, फिर तो मैं रात 12 बजे जाता और सुबह 3 या 4 बजे वापिस आता।
मगर मैंने उसकी चूत मारने में कोई जल्दबाज़ी नहीं की। नया नया प्यार था, बस सच्चा इश्क़ था, सो सारा प्यार बातों में ही होता था। कभी कभी उसकी छोटी बहन भी उठ कर बैठ जाती और हमारे साथ वो बातें करती।
जब हमने प्यार करना होता, तो रानी उसे कह देती- राजू, चल अब तू सो जा!
वो हमारी तरफ पीठ करके लेट जाती मगर नींद उसे भी कहाँ आती, हम जो खुसर फुसर करते, वो सब उसे सुनती।

loading...

‘अरे मेरी सलवार से हाथ बाहर निकालो!’
‘प्लीज कमीज़ मत उठाओ, ठंड लगती है!’
‘मेरी पेंट के हाथ डाल और पकड़ इसे!’
‘अब चुप, अब सिर्फ हमारे होंठ आपस में मिल कर बात करेंगे!’
‘तुम्हारे बूब्स बहुत सॉफ्ट हैं!’
और ऐसे और भी बहुत से वाक्य होते थे जो हम बोलते थे, और राजू लेटी चुपचाप सुनती रहती थी।

फिर मेरे दोस्तो ने मुझसे कहा- यार तुझे इतना टाइम हो गया, उस से इश्क़ करते, और तूने अभी तक उसकी ली नहीं?
मेरे यार दोस्त अक्सर मुझे सेक्स के लिए प्रेरित करते।

फिर मैंने भी सोचा, अगर गर्ल फ्रेंड है तो क्यों न चोदी जाए।

इसी बात को लेकर मैं रानी से और ज़्यादा सेक्सी बातें और हरकतें करने लगा। धीरे धीरे वो भी पिंघलने लगी।
8 नवम्बर को मैं पहली बार उसके घर गया था, और दिसम्बर के पहले हफ्ते में मैंने उसको पहली बार बिल्कुल नंगी देखा। दरअसल मैंने ही उस से कहा था कि मैं उसे बिल्कुल नंगी देखना चाहता हूँ।
तो उसने कहा था- जब अगली बार आओगे, तब दिखा दूँगी।

अगली बार जब मैं गया तो मैंने उसे उसका वादा याद दिलाया तो वो बिस्तर से उठी और उठ कर एक एक करके अपने सारे कपड़े मेरे सामने खड़ी हो कर उतार दिये। उसकी बहन भी पास में ही सो रही थी, मगर उन दोनों बहनों की आपस में सेटिंग थी, दोनों आराम से एक दूसरे के सामने कपड़े बदल लेती थी, इसलिए दोनों ने एक दूसरी को नंगी देखा था तो शर्म की कोई बात नहीं थी।
मगर मेरे सामने वो पहली बार नंगी हुई थी, एक बात और थी, मैंने देखा लड़की दिलेर थी, मैंने एक बार कहा, तो उसने अपने सारे कपड़े झट से उतार दिये, बिना कोई सवाल किए।
छोटे छोटे गोरे गोरे बोबे, हल्के भूरे गुलाबी से निप्पल, सपाट पेट, पतली पतली सी टाँगें… दुबली पतली सी लड़की, हल्की सी झांट…

जब वो वापिस अपने कपड़े पहनने लगी तो मैंने उसे कम्बल में खींच लिया- अरे पहन लेना न कपड़े, इतनी जल्दी क्या है, अभी ऐसे ही लेटते हैं, मैं चला जाऊँ, फिर पहन लेना!
कह कर मैंने उसे अपने साथ ही अपनी कम्बल में लेटा लिया। वो कम्बल में आई, तो मैंने भी अपना लोअर उतार दिया, चड्डी तो मैंने पहनी ही नहीं थी।

जब मेरा तना हुआ लंड उसके पेट पर लगा तो वो बोली- ये क्या, तुम क्यों नंगे हो गए?
मैंने कहा- आज हमारे मुन्ना मुन्नी भी आपस में पारी करेंगे!
कह कर मैं उसके ऊपर लेट गया और अपना लंड उसकी चूत पर सेट किया।
उसने भी खुशी खुशी अपनी टाँगें चौड़ी कर दी और मेरे लंड का टोपा ठीक उसकी चूत के मुँह पे जा लगा।

‘इसकी पारी करनी ज़रूरी होती है क्या?’ रानी ने पूछा।
मैंने कहा- हाँ बहुत ज़रूरी होती है।

पहले तो मैं सिर्फ अपने लंड के टोपे को उसकी चूत के मुँह पर रख कर लेटा रहा क्योंकि मैं इंतज़ार कर रहा था, सही वक़्त का जब धीरे से अपने लंड को उसकी चूत में उतार दूँ।
आपस में प्यार भरी मीठी मीठी बातें करते करते हम बीच बीच में किसिंग भी करते रहे, वो भी नीचे लेटी कसमसा रही थी, जिससे मेरा लंड उसकी चूत के सुराख के बिल्कुल ऊपर टिका हुआ था, लंबे लंबे चुम्बन चल रहे थे, कभी मैं उसके रसीले होंठों को चूसता, कभी वो मेरे होंठों को चबा जाती।

मैं महसूस कर रहा था कि वो अब पूरी तरह से गर्म हो चुकी है, तो मैंने भी अपनी कमर का हल्का सा दबाव बढ़ाया और मेरे लंड का टोपा उसकी गीली चूत में घुसता चला गया। उसके मुँह से सिर्फ ‘ऊं’ की एक ही हल्की सी आवाज़ आई, मगर हमारा चुम्बन वैसे ही रहा, होंठ से होंठ वैसे ही चिपके रहे।
जब टोपा घुस गया तो मैंने थोड़ा और ज़ोर लगाया और थोड़ा और लंड उसकी चूत में डाला। मगर वो चुपचाप मेरे होंठों को चूसती रही और मैंने हल्के हल्के दबाव बढ़ाते हुये अपना सारा लंड उसकी चूत में उतार दिया।

जब मैंने अपने होंठ उसके होंठों से अलग किए तो उसने पूछा- ये क्या कर रहे हो?
मैंने कहा- चोद रहा हूँ तुझे!