कंप्यूटर तो एक बहाना था

desi porn kahani, kamukta

नमस्कार मेरे प्यारे पाठको | कैसे हैं आप लोग ? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोग बहुत ही अच्छे होगे और चूत चुदाई का खेल भी खेल रहे होगे मजे से | मेरा नाम भावना है और मैं ओमती में रहती हूँ | मेरी उम्र उन्नीस साल है और मैं अभी कॉलेज की पढाई कर रही हूँ | मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट पाँच फुट पाँच इंच है और मेरा फिगर बहुत ही सेक्सी है | मेरे उभार भी सुडोल हैं और मेरे चूतड़ भी कमाल के हैं | फ्रेंड्स मैं इस चुदाई की साईट की दैनिक पाठक हूँ और मुझे इस साईट पर चुदाई की कहानियां पढना बहुत मजेदार लगता है | आज जो मैं आप लोग के सामने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की एक दम सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोगो को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगेगी और आप लोग मेरी कहानी पढ़ कर उत्तेजित भी हो जाओगे | ये मेरी पहली कहानी है तो अगर इसमें कुछ आप लोग को गलत नजर आता है तो कृपया मुझे माफ़ करना | अब मैं अपनी कहानी पर आती हूँ |

ये घटना पिछले साल की है | मेरे घर में, मेरे मम्मी पापा , भाई बहन हैं | हम लोगो की चाचा लोग के साथ जॉइंट फॅमिली है | मैं शुरू से ही बहुत मस्तीखोर रही हूँ और जब मैं बहुत छोटी थी और मेरा चुदाई के प्रति तभी से काभी रोचक हो गई थी | मैंने कई बार चुदाई करते हुए किसी किसी को देखा है और मेरा भी मन होता था चुदवाने का | लेकिन उस समय मुझे डर भी लगता था कि अगर किसी को पता चल गया तो मेरा तो भरता बन जायेगा | यही डर से मैंने कभी नहीं चुदी | लेकिन जब मैं स्कूल में गई और वहां पर मेरी कई दोस्त बनी जिनके के साथ रह कर मैंने जाना की चुदाई की कहानियां भी होती है और चुदाई की वीडियो भी होती है | फिर मैं ये सब अपने घर के कंप्यूटर में ऑनलाइन देख कर अपनी चूत में ऊँगली किया करती थी लेकिन जब मेरी दोस्त मुझे पूछती कि तूने अपनी चूत में कभी ऊँगली डाली है तो मैं उनसे कह देती कि इन सब चीज़ में कोई इंटरेस्ट नहीं है और प्लीज मुझसे ये सब बाते मत किआ करना | मैं नहीं चाहती थी कि इन सब के बारे में किसी को पता चले और बाद में वो मुझे चिढाये इसलिए मैं ये सब बाते छुपा कर रखती थी | उसके बाद कॉलेज लाइफ का तो दी एंड हो गया था और कॉलेज लाइफ की तरफ बढ़ गई | कॉलेज में पंहुच कर मेरी कई दोस्त बनी और उनमे से मेरी एक बेस्ट फ्रेंड बनी जिसका नाम रुचिका है | वो दिखने में गोरी है और उसका फिगर थोडा मोटा है और उसके दूध और चूतड बड़े बड़े हैं |

हम दोनों बहुत अच्छे दोस्त हैं और वो पंचामदी की रहेने वाली है और यहाँ पर भी उसका एक घर है तो वो उसी घर में एकेले रहती है | हम दोनों अकेले जब भी होते तो खूब चुदाई की बाते किया करते | जब भी मैं कभी गलती से उससे टकरा जाती तो उसे बड़ा ही अच्छा लगता और मुझे भी पर हम दोनों इस बात को नहीं मानते थे कि हमे लेस्बियन सेक्स करना पसनद है | खैर ऐसे ही हमारी जिन्दगी चल रही थी और कभी कभी तो हम दोनों वीडियो कालिंग में बात भी करते और चुदाई की भी | पर मैंने सोचा नहीं था कि मैं कभी लेस्बियन सेक्स करुँगी | एक दिन की बात है मैं घर में थी और तभी रुचिका का फ़ोन आया और उसने मुझसे कहा कि यार मेरे कंप्यूटर में दिक्कत है तू आ कर ठीक कर दे | मैंने कहा यार मुझे थोडा टाइम लग जायेगा क्यूंकि मैंने अभी खाना नहीं खाया और खाना खा कर आती हूँ | उसने कहा ओके और फ़ोन काट दिया |

जब मैं उसके घर गई तो उसने कहा कि यार अच्छा हुआ तू आ गई | मैंने पूछा क्यूँ क्या हुआ ? तो उसने कहा अरे मेरे साथ मेरे रूम चल मेरे कंप्यूटर में क्या गड़बड़ी आ गई है चेक कर के बता | मैंने कहा ठीक है और हम दोनों उसके रूम में गए और जब मैंने उसके कंप्यूटर के स्क्रीन पर देखा तो उसमे लेस्बियन मूवी चल रही थी तो मैंने तुरंत ही उससे पुछा कि या क्या है ? तो उसने दरवाजा लगाते हुए कहा कि यार मेरा कोई बॉयफ्रेंड नहीं है और मुझे चुदाई करने की बहुत इच्छा हो रही थी इसलिए मैंने तेरे साथ छोटा सा झोल कर दिया | सॉरी तुझे बुरा लगा हो तो | मैंने कहा अरे बुरा नहीं लगा और उसके कंधे पर हाँथ रख के बोली जान अगर यही करने का मन कर रहा होता तो बोल देती तो मैं खुद तेरे साथ चुदाई करने के लिए मना करती क्या | फिर हम दोनों एक दूसरे की आँखों में हवस भरी निगांहो से देखने लगे | उसके बाद हम दोनों एक दूसरे के करीब आ गए और फिर मैंने उसके होंठ से उसके होंठ पर लगा दिया और उसके होंठ के रस को पीने लगी | वो भी मेरा साथ देते हुए मेरे होंठ को चूसने लगी |

मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके दूध को दबा रही थी और वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी गांड को मसल रही थी | हम दोनों लगभग दस मिनट तक एक दूसरे को किस किये | उसके बाद उसने मेरे टॉप को निकाल दिया और ब्रा के ऊपर से ही मेरे दूध को मसलने लगी तो मेरे मुंह से आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह की आन्हे निकले लगी | फिर उसने मेरे ब्रा को निकाल दिया और मेरे दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगी और मैं आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रही थी और निप्पलस को भी होंठ से दबा कर खींच रही थी और मैं आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रही थी | उसके बाद मैंने उसके स्लीवलेस टॉप को निकाल दिया और ब्रा भी खोल कर अपनी तरह ऊपर से नंगी कर दी | मैंने उसके दोनों दूध को अपने हाँथ में लिया और दोनों दूध को मसलते हुए चूसने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी |

मैं उसके दूध को जोर जोर से मसलते हुए चूस रही थी और वो आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए मेरे सिर पर हाँथ फेरने लगी | उसके बाद हम दोनों ने अपनी अपनी जीन्स को उतार दिया और फिर पेंटी भी उतार कर नंगी हो गई | फिर मैंने उसने मुझे बिस्तर पर लेटा दिया और मेरी टांगो को चौड़ा कर दिया और मेरी चूत को चाटने लगी और मैं आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए मेरी चूत को ऊँगली से चोदने लगी और मैं आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए मदहोश होने लगी | कुछ देर चूत चाटने के बाद मैंने उसके लेटा दिया और उसकी चूत को जीभ से सहलाते हुए चाटने लगी और वो आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां लेने लगी | मैं उसके चूत के होंठ को बड़े ही प्यार से चूत को चाट रही थी और वो आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह को अपनी चूत पर दबाने लगी | उसके बाद हम दोनों 69 की पोजीशन ले लिए और फिर एक दूसरे की चूत को चाटने लगे और आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह करते हुए मजे लेने लगे | कुछ देर के बाद उसने दो डिलडो निकाल ली और फिर हम दोनों आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह आहा ऊउंह ऊम्ह की सिस्कारिया लेते हुए एक दूसरे की चूत को चोदने लगे नकली लंड से | करीब चालीस मिनट के बाद हम दोनों एक दूसरे नए पानी छोड़ दिए |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप लोग को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगी होगी और आप लोगो को मेरी कहानी में मजा भी आएगा |