चूत की प्यास

hindi chudai ki kahani, kamukta

हाय गाइस, कैसे हैं हैं आप सब ? मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब अच्छे होंगे | मेरा नाम अर्चना है और मैं आजमगढ़ की रहने वाली हूँ | मेरी उम्र 29 साल है मैं दिखने में गोरी हूँ और मेरी हाईट 5 फुट 5 इंच है और मेरा बदन सुडोल है | दोस्तों मैं इस चुदाई की साईट की बहुत बड़ी फैन हूँ और मुझे चुदाई की कहनियाँ पढना बहुत पसंद है | मैं रोज कम से कम तीन चुदाई की कहानियां पढ़ती हूँ | मुझे चुदाई की कहानी पढना बहुत पसंद है और मैं चुदाई की कहानी पढ़ते हुए अपनी चूत खूब सहलाती हूँ | दोस्तों आज जो मैं आप सभी के समाने अपनी कहानी लिखने जा रही हूँ ये मेरी पहली कहानी है और मेरे जीवन की एक सच्ची घटना है | मैं उम्मीद करती हूँ कि आप सब को मेरी कहानी जरुर अच्छी लगेगी और मजा भी आएगा | तो अब मैं आप सब का ज्यादा समय नही लूंगी और अपनी कहानी लिखना चालू करती हूँ |

दोस्तों ये घटना कुछ समय पहले की है | मेरे घर में मैं, मम्मी, पापा, एक छोटा भाई रहते हैं , मेरी एक बड़ी बहन थी जिसकी शादी हो गई चुकी है | मैं एक अशील किस्म लड़की हूँ और मैंने अब तक कई लंड खा चुकी हूँ और मेरा मन अब भी चुदाई के लिए हरदम नया लंड मांगती है | मैंने अपनी पहली चुदाई स्कूल के एक सर से चुदवाई थी जब मैं एक सब्जेक्ट में फेल हो गई | मुझे डर था कि कहीं पापा को न पता चल जाये और वो मुझे मारेंगे तो मैंने अपने सर से बात की तो सर मेरा बहुत ही रंगीला किस्म का था | उसने मुझसे कहा कि यार तुम दिखती अच्छी हो इसलिए मैं तुमसे पैसे नहीं लूँगा बस मुझे तुम्हारी एक बार चूत मार लेने दो | मैंने भी तुरंत हाँ कर दिया और उसके बाद सर ने मुझे दो बार चोदा और फिर मुझे पास करा दिया | एक दिन पता नहीं सर का फिर से मुझे चोदने का मन करने लगा तो मैंने सर को मना कर दी थी क्यूंकि मैं उनके सब्जेक्ट में पास हो गई थी इसलिए मैंने चुदाई के लिए साफ़ मना कर दिया | सर मुझे रोज ही चुदाई के लिए बोलते लेकिन मैं मना कर दिया करती थी | अब उस समय तो मेरी मज़बूरी थी इसलिए मैंने सेक्स कर लिया ऐसे हर बार थोड़ी करुँगी | फिर धीरे धीरे सर ने मुझसे बात करना छोड़ दिए |

एक बार सर ने मुझे जान बुझकर फ़ैल कर दिया तो मैंने सीधा अपने पापा को बता दिया और प्रिंसिपल से भी कम्प्लेन कर दी थी इसलिए सर की जो इच्छा थी वो मैंने मार दिया और मैं पास हो गई |  लेकिन कुछ समय बाद मेरी चूत में गुदगुदी होने लगी तो मैंने सोचा कि सर से ही बोल कर चुदा लूं लेकिन तब तक समय निकल चुका था | सर का ट्रांसफर हो गया था | अब मैं सोचने लगी कि क्या करूँ ? किस्से चुद्वाऊ ? लेकिन मुझे कोई लंड नहीं मिल रहा था | फिर मैंने एक ऑनलाइन आर्डर कर के डिलडो माँगा लिया | उसके बाद कुछ दिन तक मैंने अपनी चूत को काफी  समय तक ठंडा रखा लेकिन चूत कब तक शांत रहेगी बिना लंड के | आखिर चूत की जरुरत ही लंड है | फिर मैं कॉलेज में आ गई और आप सब बहुत अच्छे से जानते हैं कि कॉलेज में न तो लंड की कमी होती है और न ही चूत की कमी होती है | तभी मेरी मुलाकात एक लड़के से हुई जिसका नाम भावेश था और वो दिखने में काफी अच था और उसकी हाईट हेल्थ सब अच्छी थी | उसने मुझे प्रोपोस किआ लेकिन मैंने उससे कहा कि हम दोस्त बन कर रह सकते हैं | उसने भी हाँ कर दिया और फिर हम दोनों दोस्त बन गए | धीरे धीरे हम दोनों की दोस्ती ख़ास होती चले गई | दोस्ती इतनी खास हो गई कि एक दिन मैंने ही उसे प्रोपोस कर दिया | अब हम दोनों के प्यार की कहानी शुरू हो गई थी | हम दोनों रोज फ़ोन पर बात करने लगे और धीरे धीरे हम दोनों सेक्स वाली बात भी होने लगी | वो रोज रात में मुझे गरम कर देता था तो मैंने उससे एक दिन कह दिया कि मुझे चुदाई करना है | उसने भी रूम का जुगाड़ कर लिया और मुझे उस रूम में ले गया | रूम में ले जाते ही उसने मुझे अपनी बांहों में जकड़ने लगा और कुछ देर बाद उसने मेरे होंठ पर अपने होंठ लगा दिया किस करने लगा | मैं भी उसका साथ देते हुए उसके होंठ पर किस करने लगी | वो मेरे होंठ को चूसते हुए मेरी गांड को सहला रहा था और मैं उसके होंठ को चूसते हुए उसके बदन को सहला रही थी | फिर उसने मेरे टॉप को उतार दिया और मेरे दोनों दूध को अपने मुंह में ले कर चूसने लगा तो मेरे मुंह से  आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की आन्हे निकलने लगी | वो मेरे दूध को जोर जोर से चूस रहा था और साथ में मेरी चूत को भी जीन्स के ऊपर से सहला रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | उसके बाद मैंने उसकी शर्ट को उतार दिया और उसकी छाती पर हाँथ फेरते हुए अपने घुटनों के बल जमीन पर बैठ गई | उसके जीन्स को मैंने उतार दिया और उसकी अंडरवियर को भी उतार कर उसे नंगा कर दी | उसके बाद मैंने उसके लंड को अपने हाँथ में ले कर सहलाने लगी और फिर मैंने अपनी जीभ से उसके लंड को चाटने लगी तो उसके मुंह से भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह की सिस्कारियां निकलने लगी | मैं उसके लंड को हर तरफ से चाट कर गीला कर रही थी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रहा था | उसके लंड को चाटने के बाद मैंने अपने मुंह में डाल कर चूसने लगी उसके लंड को और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे बालो को सँवारने लगा |

कुछ देर बाद मैं उसके लंड को जोर जोर से आगे पीछे करते हुए चूसने लगी और वो आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मेरे मुंह में अपना लंड अन्दर बाहर करने लगा | उसके बाद मैंने अपनी जीन्स को उतार दी और उसने मुझे लेटा कर मेरी पेंटी निकाल कर मुझे भी नंगी कर दिया | अब वो मेरी चूत को अपनी जीभ से रगड़ते ही चाटने लगा तो मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए कसमसाने लगी | वो मेरी चूत को चाटते हुए मेरे दूध भी मसल रहा था और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मजे ले रह थी | उसके बाद उसने अपने लंड को मेरी चूत में टिकाया और एक ही धक्के में अन्दर पेल कर चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपने दूध को मसलने लगी | फिर उसने अपनी चुदाई की स्पीड तेज कर दिया और जोर जोर से मेरी चूत को चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए अपनी कमर मटका मटका कर चुदवा रही थी | फिर उसने मुझे कुतिया बना दिया और मेरे पीछे आ कर मेरी चूत को फिर से चाटने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए उसके मुंह को अपनी चूत पर दबाने लगी | फिर उसने अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया और चोदने लगा तो मैं भी आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए सिस्कारियां ले रही थी | फिर उसने अपने लंड को चूत से निकाला कर मेरी गांड में पेल दिया और मेरी गांड चोदने लगा और मैं आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह आहा ऊंह ऊम्ह करते हुए मस्त चुदाई का मजा लेने लगी | करीब उसने मुझे 45 मिनट तक चोदा और फिर मेरी गांड में ही अपना माल भर दिया |

तो दोस्तों ये थी मेरी कहानी | मैं आशा करती हूँ कि आप सब को मेरी कहानी अछि लगी होगी |