चार लड़कों ने मिलकर खूब चोदा

हैल्लो दोस्तों, मेरा नाम गीतांजलि है और में हरयाणा की रहने वाली हूँ. मेरी उम्र 26 साल है और मेरा फिगर 34-28-33 है में अब तक कुंवारी हूँ और मेरा एक बॉयफ्रेंड है जिसका नाम रोहित है जो कि मेरा स्टूडेंट भी है और अब आप सभी मेरे साथ घटी एक सच्ची घटना सुनिए जिसके लिए में आज कामुकता डॉट कॉम पर आई हूँ. वैसे में अब तक कहानियों को पढ़ती आ रही हूँ और ऐसा करने में मुझे बहुत मज़ा आता है.

एक दिन हम दोनों मोटरसाइकिल पर किसी रिज़ॉर्ट पर घूमने गये थे जो कि सिटी से बहुत अलग हटकर शांत जगह पर बना हुआ था. रात को हम दोनों वापस आने में थोड़ा सा लेट हो गये इसलिए तब तक अँधेरा बहुत हो चुका था और वो सर्दी का सीज़न था इसलिए वो रोड़ बहुत ही सुनसान था. तो रोहित और में उस मोटरसाइकिल पर धीरे धीरे बातें करते हुए आ रहे थे कि दूर एक लड़का दिखा जो कि हमे हाथ दे रहा था वो एक फार्महाउस के सामने खड़ा हुआ था.

loading...

रोहित ने मेरे मना करने के बावजूद भी मोटरसाइकिल को रोक दिया. अब एकदम से दो और लोग हमारे सामने आकर खड़े हो गए और उन्होंने चाकू निकाल लिया और रोहित के पेट पर लगाकर वो बोले कि चलो पैसा निकालो. फिर रोहित ने तुरंत अपना पर्स निकालकर उनको दे दिया, लेकिन उसके पर्स में सिर्फ़ 100 रूपये ही थे, वो तीन लड़के थे उनकी उम्र 28-30 के बीच होगी और वो सब थोड़े पिए हुए थे.

फिर एक पर्स खोलने के बाद बोला अरे इसमे तो सिर्फ़ 100 रुपए है, दोस्तों इससे क्या होगा वैसे वो लोग दिखने में लूटेरे भी नहीं लग रहे थे, क्योंकि उन तीनों ने अच्छे कपड़े पहने हुए थे फिर दूसरा लड़का बोला अरे जेब में पैसा है तो बाहर निकाल दो नहीं तो में इस चाकू को तुम्हारे पेट में डाल दूँगा. अब रोहित ने कहा कि बस इतना ही है. मेरे पास और कुछ नहीं है चाहे तो तुम लोग मेरी तलाशी ले सकते हो, लेकिन इस चाकू को तुम दूर रखो.

फिर अगला लड़का बोला दोस्तों इतने में तो एक बोतल भी नहीं आएगी, अब क्या करे, एक काम करो इसकी बीबी की सोने की चैन ले लो. तभी रोहित ने कहा कि यह मेरी बीबी नहीं है यह मेरी गर्लफ्रेंड है, तो दूसरा लड़का बोला अच्छा तो यह तेरी गर्लफ्रेंड फिर तो तुम बड़े ऐश करके आ रहे हो, चलो हमे इससे क्या मतलब? लेकिन इस समय रात को चैन बेचकर पैसे हमें कहाँ मिलेंगे और इतनी ही देर में एक ने मेरी चैन की तरफ अपना हाथ बढ़ा दिया जो कि मेरे निप्पल पर लटक रही थी.

वो चैन को पकड़ने ही वाला था कि उसकी नज़र मेरे निप्पल पर गयी और फिर वो बोला कि रहने दो वैसे भी हमने अब बहुत पी ली है ज़्यादा मत पियो और उसने इशारा करके अपने साथियों को मेरे निप्पल दिखाए और वो बोला कि अरे यह तो बड़ा मस्त माल है चलो दारू नहीं तो यही सही. दोस्तों उस समय में खड़ी हुई थी और रोहित मोटरसाइकिल पर बैठा हुआ था एक ने मुझे पीछे से पकड़ लिया और उसने मेरे मुहं को हाथ से पकड़ लिया. फिर उसके बाद मेरे गले पर चाकू रख दिया और वो बोला कि चलो तुम अंदर चलो वहाँ हम तुम्हारी तलाशी लेंगे.

अब उन लोगो के साथ हम दोनों चुपचाप उनके साथ अंदर आ गये, तो में तुरंत समझ गयी थी कि इनका क्या प्लान है क्योंकि में उस समय काले रंग की साड़ी में बहुत ही आकर्षक लग रही थी और मेरा ब्लाउज भी काले रंग का था और उसके अंदर भी मैंने काले रंग की ब्रा पहनी थी.

दोस्तों रोहित ने तो हॉस्टल से बाहर निकलते वक़्त ही कहा था कि आज तुम इस साड़ी में वाह क्या मस्त कयामत लग रही हो? लेकिन उसे यह नहीं पता था कि आज हमारे साथ आज क्या होने वाला है? थोड़ी देर में हम कमरे के अंदर आ गये तो उन्होंने रोहित को कुर्सी पर बैठने को कहा.

डरने की वजह से वो बैठ गया. फिर उन तीनो ने जबरदस्ती उसको रस्सी से उस कुर्सी पर बाँध दिया और उसका मुहं भी एक कपड़े से बाँध दिया जिससे वो आवाज़ ना कर सके और उसके बाद एक लड़का बोला कि पैसे तो तुम्हारे पास नहीं है, लेकिन तुम्हारी गर्लफ्रेंड तो बहुत मस्त है और आज हम तीनों इसकी चुदाई करेंगे, तूने तो इसको बहुत बार चोदा होगा, क्यों में सही कह रहा हूँ ना, चलो आज इसको छोड़कर थोड़ा मज़ा आज हम भी ले लें और हाँ सुबह तुम लोग आराम से यहाँ से जा सकते हो कोई प्राब्लम नहीं होगी, लेकिन उसके बाद अगर तुमने कुछ शिकायत करने की कोशिश की तो उसमे बदनामी तुम्हारी ही होगी क्योंकि हमारा तुम कुछ नहीं कर पाओगे इसलिए ज़्यादा होशियार मत बनना और चुपचाप कुर्सी पर सो जाओ और अब वो तीनों रोहित को उस रूम में बंद करके मुझे दूसरे रूम में ले आए इतने में उनके एक दोस्त का फोन आया, तो उन्होंने उसको बोला कि हम फार्महाउस पर है और हमारे पास दारू तो नहीं है अगर तुम एक बोतल लेकर आओ तो एक माल है हमारे पास आज रात के लिए तुम्हे भी मज़ा आ जाएगा बस तुम दारू लेकर जरुर आना.

दोस्तों उस रूम में एक बहुत बड़ा बेड लगा हुआ था उन्होंने मुझे देखा और बैठने के लिए कहा और कहा कि अभी तुम थोड़ी देर बैठ जाओ हमारा एक और दोस्त आने वाला है उसके बाद हम तुम्हारी चुदाई करेंगे और तुम्हे मस्त कर देंगे अभी तक तो सिर्फ़ तुम सिर्फ़ अपने बॉयफ्रेंड से ही चुदी होगी, लेकिन आज हम चार के साथ एक साथ चुदवाने में तुम्हे बड़ा मज़ा आ जाएगा और तुम्हारी जवानी तो बहुत मस्त है, ऐसा लगता है कि जैसे तुम्हारे बॉयफ्रेंड ने कुछ किया ही ना हो, लेकिन ऐसा हो तो नहीं सकता क्यों? तो मैंने अपनी तरफ से कोई जवाब नहीं दिया, तो वो बोला इसका मतलब तुमने उससे चुदाई करवाई है, फिर तुम अभी तक इतनी मस्त कैसे हो?

इतनी देर में एक ने कहा कि इसको देखकर मेरा तो लंड खड़ा हो रहा है चलो एक बार चोद लेते है. तो दूसरे ने कहा कि नहीं पहले दारू पिएँगे और फिर आराम से मज़े लेते हुए इसकी चुदाई करेंगे वैसे भी उसको दारू लेकर आने दो, वही ही तो है सबसे बड़ा चुदक्कड़ और थोड़ी देर बाद उनका चौथा दोस्त भी आ गया. वो अंदर आते ही मुझे देखकर और बोला कि अरे यार इतनी मस्त रंडी हमारे शहर में है और मुझे पता ही नहीं, दोस्तों में तो इसको देखकर खुश हो गया.

यह शब्द सुनकर उन तीनों में से एक ने कहा अरे यार यह रंडी नहीं है साली रात को अपने बॉयफ्रेंड से चुदाई करवाने निकली थी तो हमें गलती से मिल गयी और फिर उन्होंने उसको सारी कहानी बताई और कहा कि इसका बॉयफ्रेंड भी दूसरे कमरे में बंद है.

वो बोला कि चालो फिर आज इसको भी आज में रंडी बना दूंगा और फिर वो चारो मेरे आस-पास आकर बैठ गये. में बेड पर दीवार के साथ लगकर अपने दोनों पैरों को अपनी छाती से चिपकाकर बैठी हुई थी और इतने में दो लड़के मेरे आस-पास आकर बैठ गये और फिर तीसरा और चोथा भी मेरे पैर के पास आकर बैठ गया और वो दारू पीने लगे.

अब एक लड़के ने मेरे निप्पल को पकड़ा और कसकर दबा दिया, जिसकी वजह से मेरी चीख निकल गयी आहह्ह्ह्ह तो वो बोला अरे यह साली बूब्स को दबाते ही चीखती है ऐसा लग रहा है कि हम आज इसकी सील तोड़ने वाले है जबकि यह तो पहले से ही चुद चुकी है. फिर तीसरे ने मेरे पैरों को पकड़कर सीधा कर दिया और वो बोला कि अरे जानेमन आराम से बैठो और हमारे साथ तुम भी मज़े करो, किसी भी काम के लिए मना मत करना क्योंकि उससे कुछ नहीं होगा हमे जो करना है वो हम जरुर करेंगे और हाँ आराम से करेंगे.

इतने में तीसरे ने चोथे से कहा कि तुम दारू पियो, हमने तो बहुत पी ली है तूने नहीं पी पहले तू पी ले इतनी देर हम इसकी चुदाई कर लें उसके बाद तुम कर लेना वैसे भी तूने तो बहुत बार किया है हम तो नये खिलाड़ी है भाई पहली बार चोदने के लिए हमें इतना अच्छा माल मिला है, अभी तक तो सिर्फ़ रंडी ही चोद रहे थे और इतना कहकर पहले दूसरे ने मेरी साड़ी को मेरी छाती के ऊपर से हटा दिया और ब्लाउज के ऊपर से वो मेरे बूब्स के निप्पल को दबाने लगे थे जिसकी वजह से मुझे बहुत दर्द हो रहा था और मुझे डर भी लग रहा था, लेकिन में चुप थी इतनी देर में तीसरे ने मेरी साड़ी के अंदर हाथ डाल दिया और वो मेरी जांघो को सहलाने लगा.पहला बोला वाह भाई इसके बड़े मस्त बूब्स है ऐसा लगता है कि इसका बॉयफ्रेंड इसे दबाता और चूसता नहीं है इसलिए अभी तक यह इतने टाइट है.

फिर दूसरे ने कहा कि आज हम इसे दबाएँगे और चूसेंगे भी, में कुछ नहीं बोल रही थी बस चुपचाप बैठी हुई थी और कर भी क्या सकती थी? क्योंकि वो तीनो बहुत नशे में थे और फिर भी पी रहे थे और चोथे वाला सिर्फ़ मेरे पैर को सहला रहा था और मुझे देख रहा था और दारू भी पी रहा था. इतने में सबने बोतल को खत्म किया और उसको दूर रख दिया. उसके बाद मेरे सारे कपड़े उतार दिए जिसकी वजह से अब में उनके सामने बिल्कुल नंगी थी और वो भी चारो भूखे कुत्तों की तरह मुझे घूर रहे थे.

पहला और दूसरा मेरे निप्पल पर टूट पड़े. वो बहुत ज़ोर ज़ोर से मेरे बूब्स को दबाने लगे में दर्द की वजह से चिल्लाने लगी अह्ह्ह्हहह उह्ह्हह्ह प्लीज धीरे करो, लेकिन वो कुछ भी नहीं सुन रहे थे तीसरे वाला मेरी चूत को सहला रहा था में आहहहह उफ्फ्फ्फ़ करती रही, लेकिन उनको कुछ भी सुनाई नहीं दे रहा था. अब पहले वाला लड़का बोला वाह क्या चिकना माल है आज तो मज़ा आ गया चोथा वाला तो बस सब मेरा पूरा जिस्म देख रहा था और पी रहा था जैसे वो वेटिंग लिस्ट में हो.

पहले वाले ने मेरी चूत में अपनी उंगली को डाल दिया और मेरी चूत बिल्कुल साफ थी. मेरी चिकनी बिना बालों की चूत को देखकर तो वो तीनों और भी पागल हो गये और तीसरा बोला वाह क्या मस्त चूत है इसकी बिल्कुल साफ है? फिर वो मुझसे पूछने लगा क्या तुम इसको हर रोज़ साफ करती हो जानेमन? में कुछ नहीं बोली. फिर वो तीनो खड़े हो गये और अपने कपड़े उतारने लगे, वो तीनो पूरे नंगे हो गये. मैंने देखा कि उन तीनो के लंड तनकर खड़े हुए थे, वो सब फुल टाइट थे.

अब पहला चोथे से बोला अरे यार तुम भी तो अपने कपड़े उतार लो इसको दिखा दो तुम्हारा हथियार तो वो भी नंगा होने लगा और सिर्फ़ अंडरवियर पहने रहा. उसके अंडरवियर की तरफ मेरी नज़र चली गयी और में उसको देखकर बड़ी हैरान रह गयी. वो बहुत बड़ा दिख रहा था.

तभी दूसरे ने कहा कि देख साली कुतिया की नज़र तो भाई के बड़े लंड पर है, साली पहले यह तीनों तो ले ले उसके बाद बड़ा वाला लेना, नहीं तो उसका लंड तेरी चूत को फाड़ देगा और फिर वो तीनो मेरे ऊपर टूट पड़े और मुझे बेड पर लेटा दिया. फिर दूसरा और तीसरा मेरे निप्पल को चूसने लगे और पहले वाला मेरे पैरों को छोड़कर अपने लंड को मेरी चूत के सामने रख दिया और एक धक्का मार दिया आह्ह्ह्ह ऊईईईईइ में चिल्लाई उसका पूरा लंड मेरी चूत के अंदर चला गया था और अब उसने कुछ नहीं देखा और ना सुना बस वो शुरू हो गया और धक्के मारने लगा.

उधर वो दोनों मेरे निप्पल को चूस रहे थे. में भी अब थोड़ी गरम हो गयी थी और थोड़ा मज़ा मुझे भी अब आने लगा था क्योंकि कुछ नया अनुभव था इसलिए. फिर थोड़ी देर में पहले वाले का पानी निकल गया, वो बेड पर लेट गया उसके बाद दूसरा आ गया और फिर वही काम उसने भी किया कुछ देर वो भी शांत हो गया उसके बाद तीसरा आया और वो भी कुछ देर धक्के देकर झड़ गया. उसके बाद वो तीनों बेड पर लेट गए में भी थोड़ी देर बेड पर लेटी रही और उस बीच मेरा भी एक बार पानी निकल गया था.

फिर में उठी और मैंने अपनी चूत को साफ किया. जब में अपनी चूत को साफ कर रही थी तब चोथा यह सब सामने बैठकर देख रहा था. फिर तभी एकदम से मेरी नज़र उस पर गयी तो मैंने देखा कि वो अपने लंड को सहला रहा था. में पेटिकोट से अपने बदन को साफ रही थी और उसके बाद मैंने साड़ी से अपने शरीर को ढक लिया.

वो बोला कि अभी तक तो सिर्फ़ बच्चे तुम्हारे साथ खेल रहे थे असली चीज़ तो मेरे पास है और मुझे मालूम है कि इन तीनो के साथ तुम्हे भी ज़्यादा मज़ा नहीं आया होगा, लेकिन मेरे साथ आज तुम्हे बहुत आने वाला है और तुम इसके बाद अपने बॉयफ्रेंड को भी भूल जाओगी. दोस्तों इतना कहकर वो खड़ा हो गया और उसने अपनी अंडरवियर को भी उतार दिया में उसका मोटा लंबा दमदार लंड अपनी चकित नजरों से देखती ही रह गयी. वो उन तीनो के लंड से ज़्यादा बड़ा दिख रहा था और था भी उसका करीब दो इंच मोटा और पांच इंच लंबा.

अब वो मेरे पास आकर बैठ गया और साड़ी को मेरे शरीर के ऊपर से उसके हटा दिया. उसके बाद मेरे गले में अपनी बाहें डाल दी और एक हाथ से मेरी गोरी गोरी, चिकनी जांघों को सहलाने लगा. फिर उसके बाद वो मेरी गीली गरम चूत को रगड़ने लगा था उसके यह सब करने से में थोड़ी मस्ती में आ गयी क्योंकि उसका लंबा लंड अब मुझे बेकाबू कर रहा था मेरी चूत उसको अपने अंदर लेने के लिए फड़फड़ा रही थी और उसके हाथ में एक अलग ही बात थी, क्योंकि जैसे जैसे वो मेरे बदन पर चल रहा था में और भी ज्यादा गरम हो रही थी.

अब वो धीरे धीरे मेरे निप्पल तक आ गया था उसके बाद वो धीरे से मेरे बूब्स को मसलने लगा था जिसकी वजह से मुझे बड़ा मज़ा आने लगा था और अब उसने अपने होंठो मेरे होंठ पर रखकर मुझे चूमना शुरू कर दिया. उससे पहले उन तीनों में से किसी ने भी मुझे किस नहीं किया था. तो उसके वो तरीके देखकर मुझे महसूस हो गया था कि वो बहुत सेक्सी और चुदाई में एक बड़ा अनुभवी आदमी है उसको यह सब बड़े अच्छे से करना आता है तभी तो यह जानता है कि किसी को चुदाई से पहले गरम कैसे किया जाता है? इसलिए वो मेरे साथ वैसे ही कर रहा था.

अब उसने मेरे एक हाथ को पकड़कर उसके लंड पर रख दिया और कहा कि इसको थोड़ा सा प्यार करो यह जब ज्यादा बड़ा और टाइट हो जाएगा फिर तुम्हे ज्यादा मज़ा आएगा.

मैंने उसके लंड को अपने हाथ में ले लिया और तब मुझे महसूस हुआ कि वो बहुत ही गरम था, फिर उसने मुझसे कहा कि में शादीशुदा हूँ और शादी से पहले भी में बहुत लड़कियों को चोद चुका हूँ और शादी के बाद भी कई लड़कियों की चूत को मैंने अपने लंड से ठंडा किया है वैसे तो मेरी बीबी भी बड़ी सुंदर, हॉट, सेक्सी है, लेकिन यह सब करके थोड़ा सा अलग स्वाद तो मिलना ही चाहिए. एक से तो हर कोई बोर हो जाता है, तुम भी शादी किसी और से करना इससे नहीं.

मैंने उससे कुछ नहीं कहा फिर वो मेरे गोरे आकर्षक बदन की तारीफ करने लगा और उसने कहा कि देखने में तो तुम बहुत सीधी साधी लगती हो, लेकिन तुम हो बहुत सेक्सी मस्त माल और तुम्हारा बदन तो कयामत है मेरी जान और आज मुझे इसको प्यार करने का मौका मिल रहा है और यह तुम्हारे गोरे गोरे, मुलायम बूब्स और उस पर भूरे रंग के उठे हुए निप्पल जो तुम्हारे इस कामुक बदन की सुंदरता को बढ़ा रहे है और तभी तो यह तीनो इन्हे देखते ही पागल हो गये थे, लेकिन में तो सब कुछ प्यार से करूँगा और यह तुम्हारी नाभि और चूत का तो क्या कहना? इसको तुमने एकदम चिकना कर रखा है.

दोस्तों मुझे यह बातें कहते हुए उसका हाथ मेरे पूरे बदन को सहला रहा था. वो कभी मेरे निप्पल को तो कभी नाभि को तो कभी पेट को तो कभी चूत को अपने हाथ से छूकर मुझे मज़े दे रहा था.

में फिर भी उससे कुछ नहीं बोल रही थी और फिर वो मुझसे बोला तुम अब क्यों इतना शरमा रही हो और तुम्हे अभी मुझसे पहले ही यह तीनों चोद चुके है और अब इनके बाद चौथा में हूँ थोड़ा प्यार तो कर लो, तुम्हे भी तो मेरा लंड चाहिए तभी तो तुम मेरे लंड को इतने प्यार से हिला रही हो और वो हंस दिया. मैंने उसी समय उसका लंड छोड़ दिया.

अब वो मुझसे कहने लगा अरे मेरी जान पकड़ लो नाटक मत करो प्यार से करवा लो, उसमे तुम्हे भी मज़ा आएगा नहीं तो में तुम्हारा इन तीनो की तरह बलत्कार करूँगा जिसकी वजह से तुम्हे बहुत तकलीफ़ दर्द होगा, तुम यह बात सोच लो.

अब में थोड़ी देर चुप रही और फिर मैंने मन ही मन में सोचा कि यह बातें तो बिल्कुल सही तो कह रहा है और फिर मैंने उसका लंड अपने हाथों में पकड़ लिया और कहा कि तुम्हारा तो बहुत बड़ा है मुझे इसकी वजह से बहुत दर्द होगा, इतना मोटा लंबा तो मेरे बॉयफ्रेंड का भी नहीं है. तो वो बोला कि तुम्हे पहले थोड़ी सी तकलीफ़ जरुर हो सकती है, लेकिन उसके बाद तो तुम्हे आनंद ही आनंद मिलने वाला है और जब तुम्हारे बॉयफ्रेंड ने तुम्हारी पहली बार चुदाई करके सील तोड़ी होगी, उसके बाद तो तुमने बहुत मज़े लिए होंगे, लेकिन आज मेरे लंड से तुम्हे उससे भी ज़्यादा मज़ा आएगा और वैसे भी मैंने बहुत सारी चूत को अपनी चुदाई से खुश किया है.

अब में उसके लंड को सहलाने लगी और लंड की चमड़ी को पीछे सरकाकर उसका टोपी बाहर निकाल लिया, जो कि एकदम गुलाबी रंग का था. फिर वो मुझे किस करने लगा और मेरे निप्पल को भी सहला रहा था और में उसके लंड से खेल रही थी. फिर तभी थोड़ी देर के बाद वो मुझसे बोला अरे मेरी जान तुम सिर्फ़ अपने हाथ से ही खेलती रहोगी या फिर इसको अपने गुलाबी होंठो का मज़ा भी दोगी, क्योंकि तभी यह पूरी तरह से टाइट होगा जानेमन.

अब हम दोनों ने किस करना बंद किया और में नीचे उसके लंड तक अपने मुहं को ले गयी और उसका वो घोड़े जैसा दमदार लंड को चाटने लगी. वो बहुत बड़ा था इसलिए उसको पूरा अपने मुहं में लेने में मुझे बड़ी तकलीफ़ हो रही थी और इसलिए में सिर्फ़ उसके टोपे को अंदर ले रही थी और ऊपर से नीचे तक अपनी जीभ से चाट रही थी और थोड़ा ऊपर नीचे अपने दोनों हाथों से सहला भी रही थी जिसकी वजह से वो टाइट हो जाए.

मैंने धीरे धीरे पूरा लंड अपने मुहं में ले लिया और मुझे भी अब उसका लंड बहुत पसंद आया जिसकी वजह से में भी मस्त होने लगी थी और ज़ोर ज़ोर से उसको चूसने लगी. मेरे ऐसा करने से थोड़ी देर के बाद उसका लंड एकदम टाइट हो गया और आकार में बड़ा भी वो पहले से ज्यादा हो चुका था. में उसका वो असली रूप देखकर खुश हो गयी.

फिर थोड़ा देर बाद उसने एक पेग और पिया और उसके बाद उसने मुझे बेड पर लेटा दिया. उसके बाद वो मेरे दोनों पैरों के बीच में आ गया और अब उसने अपने लंड को मेरी चूत के छेद पर रख दिया और एक बार धक्का दिया, जिसकी वजह से मुझे बहुत दर्द हुआ और मेरे मुहं से अहहहहह उऊईईईईई माँ की आवाज निकल गई.

वो थोड़ा सा रुक गया और मेरे ऊपर लेट गया और मुझे किस करने लगा. जब मेरा दर्द उसको कम लगा तो वो दोबारा धीरे धीरे धक्के देने लगा और अब मैंने उसको कसकर अपनी बाहों में जकड़ लिया. में महसूस करने लगी थी कि धीरे धीरे उसका लंड मेरी चूत के अंदर अपनी जगह बनाता हुआ जा रहा था और उस वजह से मेरा दर्द बढ़ता ही गया. फिर एकदम उसने अपने लंड को बाहर निकाला और फिर एक ही जोरदार झटका दिया, जिसकी वजह से उसका पूरा लंड मेरी चूत में सनसानता हुआ चला गया.

में तो मर ही गयी और मेरे मुहं से उम्म्म्मम आह्ह्हह्ह की आवाज निकल गई, लेकिन कुछ भी कहो उसका क्या लंड था? एकदम घोड़े के जैसा. पहली बार किसी मर्द का इतना मोटा बड़ा लंड मैंने देख लिया था. फिर वो मेरे होंठो पर किस करने लगा और साथ साथ अपने लंड को मेरी चूत के अंदर बाहर भी करने लगा था. में उम्म्म उफफफ्फ़ अहह्ह्ह करने लगी थी और थोड़ी देर के बाद मुझे थोड़ा सा आराम मिलने लगा था, लेकिन मुझे अब उस दर्द में भी मज़ा आ रहा था.

धीरे धीरे मेरा वो दर्द कम हो गया और अब उसके धक्के देने की वो रफ़्तार बढ़ने लगी थी और वो मुझे अब अपनी तरफ से ज़ोर ज़ोर से धक्के मारने लगा अहहहह उफ्फ्फ्फ़ आऊऊऊ मुझे मज़ा आने लगा और थोड़ा दर्द भी था. फिर थोड़ी देर के बाद झड़कर मेरी चूत का पानी निकल गया, जिसकी वजह से में सुस्त होकर शांत होती चली गयी और अब लंड के गीली चूत के अंदर, बाहर होने की वजह से पच्छ पच्छ की आवाज़ भी आने लगी. अब वो मेरे ऊपर से उठा गया उसने कहा कि तुम्हारा तो पानी बाहर आ गया. अब मेरा भी कुछ उद्धार तुम कर दो.

इतना कहकर उसने मेरा पेटिकोट उठाकर मेरी चूत को और अपने लंड को उससे साफ किया और फिर मेरी जांघे उठाकर बैठ गया. उसने दोबारा अपने लंड को मेरी चूत में डाल दिया और वो फिर से धक्के देना शुरू हो गया.

वो लगातार धक्के मारने लगा था, लेकिन मैंने महसूस किया कि अब वो पहले से भी ज़्यादा स्पीड से धक्के देकर मुझे चोदने लगा था जिसकी वजह से उसका लंड और मेरी चूत भी उसके बड़े मज़े ले रहे थे क्योंकि अब वो लंड को अपने अंदर पूरा ले रही थी और लंड पूरा जड़ तक बहुत आसानी के साथ जा रहा था.

उसने कुछ देर मेरे दोनों बूब्स को अपने दोनों हाथों से पकड़कर धक्के देने शुरू किए अहह् वाह क्या मस्त दमदार मर्द था वो उसने मेरी तो पूरी चूत को फाड़कर ही रख दिया था. मुझे ऐसा लग रहा था जैसे वो मेरी पहली चुदाई थी और कभी तो मुझे ऐसा लग रहा था कि जैसे उसका लंड मेरे पीछे से ना निकल जाए आख़िर वो बड़ा भी तो बहुत था, लेकिन मुझे उसके बड़े लंड से अपनी चूत की चुदाई करवाने में बहुत मज़ा आया और एक बार फिर से मेरी चूत का पानी निकल गया, लेकिन वो तब भी नहीं रुका और वो मुझे वैसे ही ज़ोर ज़ोर के धक्के देकर चोदता रहा और थोड़ी देर बाद उसके लंड का पानी भी अब बाहर आ गया और उसने मेरी चूत को अपने उस गरम गरम वीर्य से पूरा भर दिया था जो बहकर बाहर भी निकलने लगा था और अब वो मेरे ऊपर लेट गया, मेरे होंठो को चूसने लगा बूब्स के सहलाने लगा.

अब वो मुझसे पूछने लगा क्यों तुम्हे अब कैसे लगा मेरी रानी मेरे साथ चुदाई करके मज़ा आया कि नहीं? तो मैंने उससे कहा कि हाँ मुझे इसमे बहुत मज़ा आया और तुम्हारा तो वैसे भी इतना बड़ा है, इसको अपने अंदर लेकर किसको मज़ा नहीं आएगा और वैसे भी अब तो तुम्हारे लंड ने मेरी चूत में अपनी आने जाने की जगह बना ली है, अब तुम मुझे खूब चोदो.

एकदम उसने मेरे निप्पल को चूसना शुरू किया और फिर इस तरह पूरी रातभर उसने मुझे बहुत ज़ोर ज़ोर से धक्के देकर पांच बार चोदा जिसकी वजह से मेरी चूत पूरी तरह से खुलकर मज़े लेने लायक हो चुकी थी.

मुझे अब दर्द तो बिल्कुल भी नहीं हो रहा था और एक बार उसने मेरी गांड भी मारी, लेकिन मेरी गांड उसका मोटा और लंबा लंड नहीं ले सकी इसलिए ज़्यादा उसने मेरी चूत को ही चोदा और उसके बाद वो मुझसे बोला कि सच तुम तो बड़ी ही मस्त कमाल की चीज़ हो, जब मैंने तुम्हे पहली बार काले रंग की साड़ी में देखा था तभी में समझ गया था कि तुम बहुत सेक्सी हो और तुम मेरे लंड से बहुत मज़े करोगी और फिर ठीक ऐसा ही हुआ.

में : हाँ मुझे भी तुम्हे देखकर ऐसा ही लगा था कि तुम चुदाई करने में बहुत अनुभवी हो, लेकिन आज तुमने जो टेस्ट कराया है वो मैंने पहली बार किया और में इसको कभी भी नहीं भूल सकती लो और चूसो मेरे निप्पल को और अब तुम मेरी चूत को भी चाटो मुझे अपनी जीभ से चुदाई का भी वो सुख मज़ा संतुष्टि दे दो और आज तुम पूरी रात मुझे ऐसे ही चोदते रहो, मुझे अपनी रंडी बना लो और फिर मैंने उससे उसका नाम पूछा तब उसने मुझे अपना नाम विजय बताया.

विजय : अब तो तुम्हे मेरे लंड से चुदाई करवाने के बाद तुम्हारे बॉयफ्रेंड का लंड बिल्कुल भी अच्छा नहीं लगेगा अब तुम क्या करोगी?

में : क्यों, तुम हो ना मेरे लिए और मेरी चूत के लिए फिर मुझे क्या सोचना?

विजय : हाँ वो तो है में हमेशा हूँ तुम्हारी सेवा करने के लिए.

में : ठीक है जब भी में तुम्हे आने के लिए कहूँ तब तुम आ जाना.

विजय : हाँ वो सब तो ठीक है, लेकिन जब मुझे अपने इस लंड को ठंडा करने की ज़रूरत होगी तब में क्या करूंगा?

में : हाँ ठीक है जब भी तुम चाहो मुझे एक बार फोन कर लेना में इसके लिए कुछ जुगाड़ जरुर कर दूंगी और वैसे भी अब आज से मेरी चूत को तुम्हारा ही लंड चाहिए इसको तुम्हारे लंड के अलावा किसी के लंड से वो मज़ा नहीं आने वाला जो इसको शांत कर दे.

विजय : तुम बहुत सेक्सी हो मेरी रानी तुम्हे देखकर मुझे ऐसा लगता है कि दिनभर में तुम्हे बस ऐसे ही पूरा नंगा देखता रहूँ मेरा मन नहीं भरता.

में : ओ हो फिर तो तुम पूरा दिनभर मेरी चूत को चोदते रहोगे.

विजय : बस एक बार तुम्हारी गांड भी मारनी थी, लेकिन उसका आकार बहुत छोटा है उसमे लंड डालकर धक्के देने में मुझे भी दर्द होने लगा था इसलिए में रुक गया नहीं तो में आज तुम्हारी इस गांड भी बड़ी कर देता चलो फिर कभी इसको धक्के मारने की दोबारा कोशिश करेंगे.

में : अच्छा तो अब तुम्हारी मेरी गांड पर पूरी नज़र है.

विजय : हाँ तुमने बिल्कुल ठीक पहचाना क्योंकि यह तो एकदम गोरी गोरी, बिल्कुल गोलमटोल और बिल्कुल चिकनी है इसलिए इसके ऊपर हाथ फेरने में मुझे भी मज़ा आता है.

में : जी हाँ मेरा यह गोरा बदन कुछ ऐसा ही है यह किसी कयामत से कम नहीं है इसको देखकर अच्छे अच्छो के मुहं में पानी आ जाता है ना जाने कितने तो मेरे जिस्म के बारे में सोच सोचकर अपने लंड को हिलाते होंगे और तुम तो बड़े किस्मत वाले हो जिसको आज मेरी चूत, गांड, बूब्स के साथ साथ मेरे पूरे जिस्म के साथ इतना मज़ा करने को मिला है और वैसे समय तो मेरा भी अच्छा है जिसको ऐसा मस्त मज़ेदार लंड मिला जिसने मुझे मेरी आज तक की चुदाई से भी ज्यादा इतने मस्त मज़े दिए है वरना ऐसा चुदाई का मज़ा यह सुख पूरी तरह से संतुष्टि मुझे पहले किसी भी चुदाई में नहीं मिली.

दोस्तों फिर इस तरह हम लेटे लेटे एक दूसरे से वो बातें करते रहे और उसके बाद ना जाने कब हम दोनों सो गये. अब तो मुझे हमेशा अपनी चुदाई के लिए ऐसे ही बड़े लंड की ज़रूरत होगी उसके लंड से मुझे बहुत मज़ा आया और फिर उसने मुझे उसका मोबाईल नंबर दे दिया अब जब भी मुझे ज़रूरत होती है वो मुझे चोदता कभी भी कहीं भी क्योंकि अब में उसकी पूरी तरह से दीवानी हो गयी थी और अब उसके लंड से ही मेरी चूत की आग बुझती है और वो भी बहुत अच्छा चोदता है.

दोस्तों इस तरह से उस रात को उन तीनों ने मेरे साथ जबरदस्ती सेक्स किया, लेकिन विजय ने मुझे चुदाई का भरपूर मज़ा दिया और उसने मेरी बहुत जमकर चुदाई करके पूरा मज़ा दिया मैंने भी उसको अपनी तरफ से बड़े मज़े दिए और फिर उन लोगो ने मेरे बॉयफ्रेंड को आजाद कर दिया. उसके बाद हम दोनों सुबह हॉस्टल वापस आ गये वो मुझे वहां पर छोड़कर चला गया और में घंटो तक उसके साथ बिताई वो पूरी रात की चुदाई के बारे में सोचती रही. मुझे अब उसके लंड की एक आदत सी हो गई थी.

दोस्तों यह थी मेरी सच्ची चुदाई की कहानी मेरी सच्ची घटना एक ऐसा अनुभव जिसके बाद मुझे अपने बॉयफ्रेंड का लंड लेने में इतना मज़ा नहीं आया जितना उस चुदाई के समय आया था.