बहन की गांड

incest sex kahani, indian porn stories

हेल्लो दोस्तों कैसे हो अप सब उम्मीद करता हूँ आप सब अच्छे होगे और मुझे पूरा यकीन है कि आप सब चुदाई मचा रहे होगे | दोस्तों मैं एक बहुत ही नेक लड़का हूँ जिसने आज तक किसी का बुरा नहीं किया बस लोग मेरा फायदा उठा लेते हैं | पर दोस्तों एक चीज़ है मेरे साथ मैं कभी किसी का नुक्सान नहीं करता हाँ अगर कोई मेरा करदे तो मैं उसे माफ़ कर देता हूँ | पर दोस्तों आज मैं आपके सामने इसलिए आया हूँ क्यूंकि मुझे अपने मन का एक बोझ हल्का करना है और मैं समझता हूँ कि आप लोगो से अच्छा मुझे और कोई नहीं समझ सकता | इसलिए मैं आपके सामने आया हूँ और मुझे इस बात का कोई गिला नहीं कि मुझसे ऐसा काम हो गया क्यूंकि हर किसी से गलती हो जाती है | मैंने भी ऐसी एक गलती की है पर मुझे नहीं लगता वो कि ज्यादा बड़ी बात आप सब के लिए पर इस समाज ने मुझे बाँध रखा है | तो दोस्तों आज की कहानी आपके सामने ये रही मेरी जुबानी यानी आपके दोस्त अर्जुन कि जुबानी | अब मैं आपका ज्यादा समय बर्बाद नहीं करूँगा और आपको अपनी कहानी सुअनौन्गा |

दोस्तों जैसे मैंने आपको बताया कि मैं शरीफ हूँ और मैं फन्दा में रहता हूँ | दोस्तों मेरे पापा एक किसान हैं और उनका काफी अच्छा काम है पर मुझे एक बात नहीं समझ आती और ओ यह है कि पापा मुझे अपने काम में शामिल नहीं करते | मैंने कई बार अपने पापा से कहा पापा मुझे अपने साथ खेती करने दो पर उन्होंने साफ मना कर दिया और कहा नहीं तू बस पढ़ाई करेगा और कुछ नहीं | मैंने भी अपने पापा की बात मानली और पढ़ाई में मन लगा लिया | मैंने एग्रीकल्चर की पढ़ाई की और एक साइंटिस्ट बन गया और मैं अब पापा के काम में हाथ के साथ दिमाग भी लगता हूँ | हमारी तीन फैक्ट्री बन गयी और हम बहुत अमीर हो गए | पापा भी अब मुझे देखते हैं तो उन्हें वो मेहनत याद आती है जो हम सब घरवालों ने की थी और अब सब अच्छा है | तो दोस्तों ये हुयी मेरी दास्ताँ अब आपको वो बात बताने जा रहा हूँ जो मुझ पर एक बोझ है | दोस्तों मेरी एक बहन है चाचा कि बेटी है | वो मुझसे काफी कुछ सीखती है और वो भी मेरी तरह बनना चाहती है |

एक बार चाचा ने कहा सुन अलका तू अपने भाई से पढ़ाई के बारे में जनले वो तुझे सब कुछ बता देगा | चाचा भी तैयार थे पर मैंने कहा इसो साथ ले चलो और ये अपने घर में रहकर पढ़ाई करेगी तो इसे अच्छा ज्ञान मिल जाएगा | सब मान गए और वो भू हमारे साथ आ गयी | हम दोनों पहले सिर्फ मतलब की बात करते थे पर उसके बाद हम ऐसे डीएसटी बन गए कि हर चीज़ में अपनी राय देने लगे | हम एक दुसरे से हर बात शेयर करते | उसने मुझसे कहा भाई पेपर पास आ रहे है और मेरी तैयारी के हिसाब से आपको क्या लगता है मुझे अच्छे कॉलेज में एडमिशन मिलेगा क्या | मैंने कहा बिलकुल मिलेगा यार इसमें दोमट नहीं है | उसने भी कहा ठीक हा देखते हैं | फिर हम दोनों चले गए और वो भी पढ़ाई करने लगी और मैं भी अपने काम में लग गया और उसके बाद मैं सोने जाने लगा | रात के शायद 2 बजे होंगे | मैंने देखा इसके रूम कि लाइट बंद है पर उजाला आ रहा है | मैंने सोचा पास जाके देखता हूँ क्या हो रहा है |

मैं उसके रूम के पास गया और देख कुछ नहीं पाया पर मैंने अव्वाज़ सुनी | उसके कमरे से आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म कि आवाज़ आ रही थी | मैंने मन में सोचा कहीं इसे कुछ हो तो नहीं गया और दरवाज़े में एक धक्का मारा तो वो खुल गया | मैंने देखा वो पूरी नंगी लेटी थी और अपनी चूत में ऊँगली करते हुए आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म कर रही थी | मैंने उससे पूछा ये क्या कर रही हो तो वो डर गयी और उसके बाद मैंने उससे कहा चलो कार्लो तो वो मेरे पास आई और मुझसे लिपट कर मेरे लंड को सहलाने लगी | मैंने कहा हटो ये क्या कर रही हो तो वो मुझे किस करने लगी और कुछ देर बाद मैं भी उसका साथ देने लगा | मैंने उसको बिस्तर पर लेटाया और उसके छोटे दूध पीने लगा और मेरे लंड को बाहर निकाल के हिलाने लगी | मुझे मज़ा आ रहा था मैं उसकी चूत को ऊँगली से चोद भी रहा था | वो मज़े लेकर उचक रही थी और मुझे भी मज़ा आ रहा था |

उसके बाद मैंने उसे हुमाय और कहा अब दर्द होगा | मैंने अपने लंड पे और उसकी गांड पर तेल लगाया और हलके से लंड को गांड के अन्दर घुसाने लगा | वो चिल्ला नहीं पा रही थी क्यूंकि उसका मुंह बंद कर दिया था | मैं दो बार में उसके गांड के अन्दर पूरा लंड डाल दिया और चोदने लगा कुछ देर बाद वो आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म आह्ह्ह्हह्ह्ह्ह ऊउम्म्म्ह ऊऊउम्म्म्म आआह्हह्हह ऊओह्हह्ह ऊऊउम्म्म्म करते हुए चुदवाने लगी और मैंने उसकी गांड को चोद के उसका छेद बड़ा कर दिया | तो दोस्तों ये थी मेरी गलती |