मै अब और नहीं रह पाउंगी

Antarvsna, hindi sex story मैं अपने घर में ही था तभी मेरे पास हमारे मोहल्ले का एक लड़का बंटी दौड़ता हुआ आया वह कहने लगा भैया कुछ लोग कविता को छेड़ रहे हैं मैंने उसे कहा क्या तुम सच कह …

मुंह में लंड ले लो ना

Antarvasna, kamukta मैं ज्यादातर अपने काम में ही बिजी रहता हूं मैं एक प्राइवेट कंपनी में नौकरी करता हूं और पिछले 5 वर्षों से उसी कंपनी में मैं काम कर रहा हूं मेरे पास मेरे परिवार को देने के लिए …

मैं तड़प रही हूं चुदाई के लिए

Hindi sex story, Kamukta मैं दिल्ली का रहने वाला हूं दिल्ली में मेरे पिताजी प्रॉपर्टी का काम करते हैं और मैं कॉलेज में पढ़ाई कर रहा हूं यह मेरे कॉलेज का आखिरी वर्ष है कॉलेज में सब मुझे कहते हैं …

तुम्हारा सहारा चाहिए

Antarvasna, kamukta मैं बहुत अकेला हो चुका था क्योंकि मेरी पत्नी ने भी मेरा साथ छोड़ दिया था और मेरे माता पिता का भी देहांत हो चुका था मैं अकेला रहता था मैं जिस कंपनी में काम करता था वहां …

मजा तो मुझे भी आ गया

Hindi sex stories, antarvasna समय बड़ी तेजी से निकल रहा था मुझे तो कुछ पता ही नहीं चला कि कब मेरे बच्चे इतने बड़े हो गए घर की जिम्मेदारियां दिन-ब-दिन बढ़ती ही जा रही थी। खर्चे भी काफी बढ़ते जा …

पैसे दे दो और गांड ले लो

Hindi sex stories, antarvasna गगन और मेरी दोस्ती कई साल पुरानी है हम दोनों एक दूसरे से कॉलेज के दौरान मिले थे और उसके बाद हमारी दोस्ती अब तक चली आ रही है। हम दोनों ने अभी तक शादी नहीं …

मुझे रूम पर ले चलो ना बाबू

Kamukta, antarvasna मैं चंडीगढ़ में जिस कॉलेज में पढ़ता था उस कॉलेज से मेरा प्लेसमेंट दिल्ली में हुआ मैं दिल्ली आ चुका था लेकिन मुझे दिल्ली आने के बाद कई समस्याओं का सामना करना पड़ा। जब मैं शुरुआत में दिल्ली …

तुम कुछ करो ना

Hindi sex stories, antarvasna मेरे चाचा दुबई में रहते हैं और वह वहीं पर नौकरी करते हैं काफी समय बाद चाचा घर आए थे हम लोग चंडीगढ़ में ही रहते हैं चाचा कई समय बाद घर लौटे थे तो सब …

मुझे भी सिगरेट पिला दो

Bhabhi sex stories, kamukta मैं और मेरी भाभी साथ में हीं कॉलेज पढ़ा करते थे लेकिन मुझे नहीं मालूम था कि राधिका मेरी भाभी बन जाएगी वह मेरे साथ मेरी क्लास में ही थी लेकिन जब राधिका का रिश्ता मेरे …

मानसून में चूत चुदाई

Antarvasna, hindi sex stories मुंबई में काफी तेज बारिश हो रही थी और उस वक्त मानसून का सीजन था मैं सुबह के वक्त ऑटो से अपने ऑफिस के लिए चली गई थी और उस दिन ना जाने इतनी तेज क्यों …